मैच (11)
एसए20 (2)
आईएलटी20 (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
बीपीएल 2023 (2)
सुपर स्मैश (W) (1)
सुपर स्मैश (1)
ख़बरें

हरमनप्रीत : 'शांत' कानितकर के साथ तालमेल बिठाने में समस्या नहीं होगी

"जब हमें पता चला कि वह ऑस्ट्रेलिया सीरीज़ में हमारे साथ होंगे, टीम में सकारात्मकता की लहर आ गई"

भारतीय कप्तान हरमनप्रीत कौर ने नवनियुक्त बल्लेबाज़ी कोच ऋषिकेश कानितकर के शांत स्वभाव की प्रशंसा करते हुए कहा है कि टीम को उनके साथ तालमेल बिठाने में कोई समस्या नहीं होनी चाहिए।
कानितकर की नियुक्ति भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) द्वारा "पुनर्गठन मॉड्यूल" के हिस्से के रूप में रमेश पवार को राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) में पुरुषों के क्रिकेट के स्पिन-गेंदबाज़ी कोच के रूप में स्थानांतरित करने के बाद हुई।
पवार का मुख्य कोच के रूप में भारतीय महिला टीम के साथ यह दूसरा कार्यकाल था और मिला-जुला रहा। मई 2021 में उन्होंने पदभार संभाला था। 2022 वनडे विश्व कप में भारतीय टीम उनकी देख-रेख में ग्रुप स्टेज से ही बाहर हो गई। हालांकि टीम ने इसके बाद राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक अपने नाम किया और इंग्लैंड में तीन मैचों की वनडे सीरीज़ में अपनी पहली सीमित ओवरों की सीरीज़ जीत दर्ज की। टीम के साथ उनका अंतिम कार्यभार विजयी रहा जब भारत टीम अक्तूबर में फ़ाइनल में पाकिस्तान को हराकर रिकॉर्ड सातवीं बार एशिया कप की चैंपियन बनी।
हरमनप्रीत ने ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध पहले टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच से पहले गुरुवार को मुंबई में कहा, "मैंने हमेशा रमेश सर के साथ काम करने का आनंद लिया है और उनकी छत्रछाया में हमने बहुत कुछ सीखा और एक टीम के रूप में आगे बढ़े। उन्हें एनसीए भेजने का फ़ैसला बीसीसीआई का है। ऋषि सर यहां हमारे साथ हैं और श्रीलंका में उनके साथ हमारा बहुत अच्छा अनुभव रहा था।"
हरमनप्रीत ने बताया कि कानितकर अपने साथ बहुत सारा अनुभव लेकर आ रहे हैं। कप्तान के अनुसार टीम आगे की तरफ़ अपनी नज़रें बनाए हुई हैं और उन्हें लगता है कि वह सही हाथों में हैं।
कानितकर हाल ही में न्यूज़ीलैंड दौरे पर भारतीय पुरुष टीम के सपोर्ट सटाफ़ का हिस्सा थे। उन्होंने श्रीलंका में महिला टीम के साथ बल्लेबाज़ी सलाहकार की भूमिका निभाई थी। भारत ने उस दौरे पर 2-1 से टी20 अंतर्राष्ट्रीय और 3-0 से वनडे सीरीज़ अपने नाम की थी। तीसरे वनडे में 124 के स्कोर पर छह विकेट गंवाने के बाद हरमनप्रीत और पूजा वस्त्रकर की 97 रनों की साझेदारी से भारत ने 255 का मैच जिताऊ स्कोर खड़ा किया था।
हरमनप्रीत ने कहा, "वह (कानितकार) बहुत शांत (स्वभाव के) हैं और हमें ऐसे ही किसी व्यक्ति की आवश्यकता थी जो हमें मैदान पर वह शांतता दे सकें। हमने अतीत में देखा है, कभी कठिन परिस्थितियों में, लड़कियों को एक शांत व्यक्ति के साथ की ज़रूरत होती है जो उन्हें मार्गदर्शन दे सकें। श्रीलंका में वह अनुभव करने के बाद अब जब हमें पता चला कि वह ऑस्ट्रेलिया सीरीज़ में हमारे साथ होंगे, टीम में सकारात्मकता की लहर आ गई है।"
उन्होंने आगे कहा, "बल्लेबाज़ी क्रम को उन्होंने अपने लक्ष्य हासिल करने में मदद की। श्रीलंका में कुछ ऐसे मैच थे, जहां हमने शुरुआत में विकेट गंवाए लेकिन फिर भी 250 बनाने में सक्षम हुए। हर कोई उनके द्वारा बताई गई चीज़ों से काफ़ी ख़ुश था।"
कानितकर द्वारा पहले भी टीम के साथ काम करने के अनुभव के चलते हरमनप्रीत को लगा कि खिलाड़ियों को उनके साथ समायोजन बिठाने में ज़्यादा परेशानी नहीं होगी। अगले साल फ़रवरी में होने वाले टी20 विश्व कप की तैयारी के सिलसिले में भारत घर पर ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध पांच मैच खेलने जा रहा है।
हरमनप्रीत ने कहा, "अगर कोई नया कोच होता तो चीज़ें कठिन होती। लेकिन हम पहले भी ऋषि सर के साथ काम कर चुके हैं और मुझे नहीं लगता कि कोई समस्या होगी। नए कोच को आपको अपने तरीक़े तथा आप किस दिशा में जाना चाहते हैं, यह समझाना होता है। ऋषि सर पहले से यह जानते हैं और ज़्यादा कुछ बदलेगा नहीं। हम उसी तरह खेलना चाहते हैं जैसा हमने पिछले तीन महीनों में खेला है। मुझे नहीं लगता कि हम अपने खेलने के अंदाज़ में बहुत कुछ बदलेंगे।"
भारत ने इस सीरीज़ के लिए अनुभवी ऑलराउंडर स्नेह राणा तथा फ़िनिशर के तौर पर लाई गई दयालन हेमलता और किरण नवगिरे को दल में नहीं चुना है। सीनियर महिला टी20 ट्रॉफ़ी और सीनियर महिला इंटर-ज़ोनल ट्रॉफ़ी में सर्वाधिक विकेट लेने वाली बाएं हाथ की तेज़ गेंदबाज़ अंजली सरवनी को पहली बार टीम में शामिल किया गया है। साथ ही लेग स्पिन ऑलराउंडर देविका वैद्य की आठ साल बाद टी20 अंतर्राष्ट्रीय टीम में वापसी हुई है। हरमनप्रीत ने स्नेह के लिए दरवाज़ों को बंद नहीं करार देते हुए कहा कि घरेलू क्रिकेट में प्रदर्शन करने वालों को मौक़ा दिया गया है।
उन्होंने कहा, "अंजली की बात करें तो उन्होंने सर्वाधिक विकेट लिए और बाक़ियों ने भी अच्छा किया है। चयन आपके प्रदर्शन पर निर्भर करता है और जिन्होंने अच्छा किया है वह सभी टीम में हैं। स्नेह राणा और बाक़ी सब अच्छी खिलाड़ी हैं, आने वाले टूर्नामेंटों में जब भी वह अच्छा करेंगे, उनकी वापसी होगी। हम उन पर नज़र बनाए हुए हैं। ऐसा नहीं है कि अगर आज वह टीम में नहीं है तो हमने उन्हें दरकिनार कर दिया है। वह सिस्टम का हिस्सा हैं और जब भी प्रदर्शन करेंगे, वह वापस आएंगे।"
हरमनप्रीत ने इस बात की पुष्टि की कि अगले महीने होने वाले पहले महिला अंडर-19 टी20 विश्व कप के लिए भारतीय टीम में शामिल शेफ़ाली वर्मा और ऋचा घोष ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध सभी मैचों में भाग नहीं लेंगी। वे दोनों साउथ अफ़्रीका और वेस्टइंडीज़ के विरुद्ध आयोजित त्रिकोणीय सीरीज़ से भी बाहर रहेंगी।
हरमनप्रीत ने कहा, "(भारत अंडर-19 कैंप से) पहले अगर उन्हें ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध खेलने का मौक़ा मिलेगा तो इससे उनके आत्मविश्वास को मदद मिलेगी। जब तक कैंप की घोषणा नहीं होती, वह खेलेंगी और फिर शेफ़ाली के नेतृत्व में अंडर-19 कैंप से जुड़ेंगी। जब हम साउथ अफ़्रीका में त्रिकोणीय सीरीज़ खेल रहे हैं, वह निश्चित रूप में उपलब्ध नहीं होंगी क्योंकि वे अंडर-19 विश्व कप खेल रही होंगी।"

एस सुदर्शनन ESPNcricinfo में सब एडिटर है। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर अफ़्ज़ल जिवानी ने किया है।