मैच (25)
Legends WC (1)
ENG v NZ (W) (1)
LPL (3)
TNPL (4)
ZIM v IND (2)
MLC (3)
T20 Blast (8)
RHF Trophy (3)
फ़ीचर्स

सोमानी : अश्विन अन्ना की टी20 क्रिकेट में सफलता कोई आश्चर्य नहीं

2017 के बाद पहली बार सफ़ेद-गेंद क्रिकेट में उनकी वापसी शानदार रही है

R Ashwin and Rishabh Pant have a chat on the field, 1st T20I, India vs New Zealand, Jaipur, November 17, 2021

आर अश्विन और ऋषभ पंत के बीच मैदान पर बातचीत होते हुए  •  BCCI

भारत ने अगस्त में इंग्लैंड के दौरे से अब तक कुल चार टेस्ट और छह टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेलें हैं। अगर आप से पूछा जाए कि आर अश्विन कौन से चार अंतर्राष्ट्रीय मैचों में खेलते हुए दिखते तो सच बताइए आप में कितने लोग यह कहते कि शून्य टेस्ट और चार टी20?
भारत के महानतम टेस्ट गेंदबाज़ों की सूची में प्रबल दावेदारी रखने वाले अश्विन सफ़ेद-गेंद क्रिकेट में एक नई ऊर्जा के साथ खेल रहे हैं। जो रास्ता 2017 में बंद होता दिख रहा था उसमें मानो एक लंबी सड़क दिखने लगी है।
वैसे इसमें आश्चर्य की बात होनी भी नहीं चाहिए। अश्विन का आईपीएल में प्रदर्शन निरंतर बढ़िया रहा है। आईपीएल 2018 में एक साधारण सीज़न के बाद 2019 से वह इस लीग के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज़ों में रहे हैं। उनकी गेंदबाज़ी में अनुभव, चतुरता और नियंत्रण का बढ़िया समावेश देखने को मिला है।
एक अच्छे टीम की यही निशानी है कि उच्च-कोटि खिलाड़ी हमेशा टीम में आने के लिए तैयार रहते हैं। और एक अच्छे खिलाड़ी में यह जज़्बा होता है कि अगर वह टीम में घुस जाए तो उसे निकालना असंभव हो जाए। वॉशिंगटन सुंदर के चोट लगने से अनुपस्थिति में अश्विन को टी20 विश्वकप में मौक़ा मिला। और एक बार टीम में आने के बाद उन्होंने अपने कोटा के 16 ओवर डालें हैं जिनमे उन्होंने 5.37 की इकॉनमी से आठ विकेट भी लिए हैं। टी20 अंतर्राष्ट्रीय से भी अधिक आईपीएल में उनके आंकड़े शानदार हैं।
टी20 प्रारूप में मिडिल ओवर्स में स्पिन गेंदबाज़ों का स्वामित्व होता है। लेकिन जो गेंदबाज़ खेल के हर क्षण में कारगर होता है वह कहीं ज़्यादा मूल्यवान माना जाता है। 2019 के सीज़न के बाद से अश्विन के पावरप्ले में डाले गए 38 ओवर किसी भी स्पिनर के लिए सर्वाधिक हैं। इस दौरान उनके 10 विकेट भी किसी भी स्पिनर के लिए सबसे ज़्यादा हैं। मिडिल ओवर्स में अश्विन ने लगभग 106 ओवर में केवल 22 विकेट लिए हैं जो अपने-आप में थोड़े कम ज़रूर लगते हैं। यही आंकड़े राहुल चाहर (128 ओवर में 37 विकेट), युज़वेंद्र चहल (127.1 में 50) या वरुण चक्रवर्ती (84 में 27) के काफ़ी बेहतर ज़रूर हैं लेकिन अश्विन रन गति पर अंकुश लगाने पर भी माहिर हैं। यह आंकड़े अश्विन के द्वारा आउट किए गए बल्लेबाज़ों की क़ाबिलियत भी नहीं दर्शाते हैं। अगर स्मार्ट स्टैट्स को ध्यान में रखें तो आईपीएल 2019 से गेंदबाज़ों में अश्विन के स्मार्ट विकेट और वास्तविक विकेट में तीसरा सबसे बड़ा अंतर है। अश्विन ने 42 पारियों में 35 विकेट लिए हैं लेकिन उनके स्मार्ट विकेट हैं 50.1। स्पिन गेंदबाज़ों में सिर्फ़ चहल ज़्यादा प्रभावशाली हैं जिनके वास्तविक 57 विकेट 74.27 स्मार्ट विकेट के बराबर हैं। अश्विन टॉप ऑर्डर के बल्लेबाज़ों को आउट करते हैं और ऐसे में गेम पर बड़ा असर डालते हैं।
बुधवार को भी ऐसा ही हुआ। अश्विन अपना पहले ओवर पावरप्ले में डालने आए और उन्होंने केवल छह रन दिए। उनका दूसरा ओवर दीपक चाहर के एक 15 रन लुटाने वाले ओवर के तुरंत बाद आया और इस बार उन्होंने दिए सात रन। मैच के बाद उन्होंने स्टार स्पोर्ट्स को कहा, "टी20 क्रिकेट में मुश्किल होता है यह जानना कि आप गेंद को कितनी फ़्लाइट दें और कब। बल्लेबाज़ पर आक्रामक गेंदबाज़ी करने के बहुत कम मौक़े होते हैं और आप दिशा और लंबाई में चूक नहीं सकते। टी20 में पहले गेंदबाज़ी करने में भी सही गति भांपना एक चुनौती है। मैंने अपने पहले दो ओवर में एक-आध बार गति को कम किया तो देखा कि गेंद ज़्यादा टर्न ले रही थी।"
इसी ज्ञान के साथ अश्विन ने पारी के 14वें और अपने आख़िरी ओवर में गेम का रुख़ बदल दिया। मार्क चैपमैन एक शास्त्रीय ऑफ़-ब्रेक का शिकार हुए और ग्लेन फ़िलिप्स दो ऑफ़-ब्रेक के बाद डाले गए कैरम बॉल को पढ़ नहीं पाए। दो गेंदों में दो बड़े विकेट - एक सेट बल्लेबाज़ और एक बड़ा हिटर जो भारत को क्षति पहुंचा सकता था। मैच के बाद न्यूज़ीलैंड के लिए 42 गेंदों पर 70 रन बनाने वाले मार्टिन गप्टिल बोले, "अश्विन एक चतुर गेंदबाज़ हैं जिनका अपनी दिशा और लंबाई पर बेहतरीन नियंत्रण है। और वह ख़राब गेंद तो डालते ही नहीं। उनका गति परिवर्तन भी लाजवाब है और इसी वजह से उन्हें मारना मुश्किल है।"
उनकी ख़ूबियों के चलते अश्विन की टी20 क्रिकेट में हालिया सफलता कोई अचरज की बात नहीं है। जयपुर के चार ओवर में उन्होंने एक झलक दिखाई कि इस दौरे पर शास्त्रीय स्पिन गेंदबाज़ी के चलते न्यूज़ीलैंड के लिए काम आसान नहीं होगा। टेस्ट मैच में अश्विन के पास अधिक ओवर और आक्रामक फ़ील्ड के साथ गेंदबाज़ी करने का मौक़ा होगा। सोचिए फिर उनमे यह महान गेंदबाज़ उन चार टेस्ट मैचों की अनुपस्थिति की भरपाई में क्या कुछ नहीं कर सकते।

सौरभ सोमानी ESPNcricinfo के अस्सिटेंट एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सीनियर सहायक एडिटर और स्थानीय भाषा लीड देबायन सेन ने किया है।