मैच (12)
आईपीएल (1)
USA vs BAN (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
T20I Tri-Series (1)
फ़ीचर्स

आंकड़े झूठ नहीं बोलते : पावरप्ले में राजस्थान का है राज, हर चौथी गेंद सीमा रेखा पार

कोलकाता के लिए नारायण तुरुप का इक्का, संजू इस जोड़ी के सामने हो जाते हैं ख़ामोश

Evin Lewis plays a pull, Rajasthan Royals vs Royal Challengers Bangalore, Dubai, IPL 2021, September 29, 2021

दूसरे हाफ़ में लुईस ने कई मौकों पर राजस्थान को बढ़िया शुरुआत दिलाई है  •  BCCI

प्लेऑफ़ की जंग में कौन आगे जाएगा और किसकी दौड़ इस टूर्नामेंट में समाप्त हो जाएगी| यह तो आने वाला समय बताएगा लेकिन एक बात तय है कि आईपीएल में प्लेऑफ़ की लड़ाई शायद ही कभी भी इतनी मज़ेदार रही है। अब मुक़ाबला कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर)और राजस्थान रॉयल्स (आरआर) के बीच है। एक तरफ़ जहां कोलकाता की टीम के लिए यह जीत काफ़ी ज़रूरी है, वहीं राजस्थान के लिए यह मैच साख की लड़ाई जैसा है। अगर कोलकाता की टीम जीतती है तो उनका प्लेऑफ़ में जाना लगभग तय है लेकिन आंकड़ें क्या बयां करते हैं, आइए देखते हैं।
केकेआर के पक्ष में रहे हैं पिछले कुछ मैच
केकेआर ने अब तक राजस्थान के ख़िलाफ़ कुल 23 मुक़ाबले खेले हैं। जिसमें से 12 दफ़ा कोलकाता हावी रहा है और राजस्थान की टीम 11 बार मैच मैच पर क़ब्ज़ा जमाने में क़ामयाब रही है। 2018 के बाद इनदोनों टीम के बीच 7 मैच हुए हैं जिसमें 5 बार कोलकाता ने जीत हासिल किया है और 2 बार मैच राजस्थान के पक्ष में रहा है।
मावी और नारायण के सामने संजू का बल्ला नहीं बोलता
केकेआर के टीम में दो ऐसे गेंदबाज़ हैं जो संजू सैमसन पर हमेशा हावी रहे हैं। मावी ने चार पारियों में तीन बार सैमसन का आउट किया है। वहीं नारायण भी 10 पारियों में तीन बार संजू का विकेट हासिल करने में सफल रहे हैं। वहीं लुईस के सामने भी नारायण काफ़ी कारगर साबित होते हैं। उन्होंने 14 पारियों में छः बार लुईस को अपना शिकार बनाया है और इस दौरान लुईस का नारायण के ख़िलाफ़ 11.5 की औसत और 84 का स्ट्राइक रेट रहा है।
इस मिस्ट्री का तोड़ कब निकलेगा ?
छः मैच आठ विकेट 16.4 का औसत और 5.5 की इकॉनमी। यह आंकड़े यह बताने के लिए काफ़ी हैं कि वरूण आईपीएल 2021 के दूसरे हाफ़ में किस तरीक़े की फॉर्म में हैं। वहीं नारायण ने पिछले छः मैचों में सात विकेट लिए हैं और उनकी इकॉनमी भी 6.0 की है। कुल मिला कर इनदोनों गेंदबाज़ों ने हर विपक्षी टीम को काफ़ी तंग किया है जो आईपीएल 2021 के दूसरे हाफ़ में कोलकाता के क़ामयाबी का बहुत बड़ा कारण रही है।
कप्तान के कप्तानी पारी का इंतज़ार काफ़ी लंबा हो रहा है
कोलकाता की टीम के लिए मध्यक्रम में कप्तान ओएन मॉर्गन की फ़ॉर्म टीम के लिए चिंता का विषय बन चुका है। आईपीएल 2021 के दूसरे हाफ़ में कोलकाता के लिए भले ही ज़्यादातर चीज़ें सही जा रही है लेकिन मॉर्गन बल्लेबाज़ी के क्षेत्र में टीम को लगातार निराश कर रहे हैं। उन्होंने अब तक पूरे टूर्नामेंट में 11.1 की औसत से सिर्फ़ 101 रन बनाए हैं।
पावरप्ले में रजवाड़ों का पावर गेम
आईपीएल के दूसरे भाग की शुरुआत के बाद से, रॉयल्स ने पावरप्ले में आक्रामक इरादों के साथ निरंतरता भी दिखाई है क्योंकि उन्होंने पावरप्ले के अंदर 8.5 रन प्रति ओवर के हिसाब से रन बनाया है। गेंद को सीमा रेखा के बाहर भेजने के मामले में भी रॉयल्स की टीम अव्वल है। उन्होंने प्रति 4.5 गेंद को सीमा रेखा के बाहर भेजा है।
राजस्थान के स्पिनर्स को क्या हो गया है?
राजस्थान के इस सीजन में लगातार ख़राब प्रदर्शन का सबसे बड़ा कारण यह है कि उनके स्पिनर विकेट नहीं निकाल पा रहे हैं।। उनके स्पिनर्स ने इस सीज़न में केवल नौ विकेट लिए हैं, रॉयल्स एकमात्र ऐसी टीम है जिनके स्पिनर्स ने इस सीज़न में अभी तक 10 विकेट भी नहीं लिए हैं।

राजन राज ESPNcricinfo हिंदी में सब एडिटर हैं।