मैच (13)
आईपीएल (3)
RHF Trophy (4)
WT20 WC QLF (Warm-up) (5)
PAK v WI [W] (1)
फ़ीचर्स

जायसवाल और भारतीय टीम ने बनाए कई कीर्तिमान

एक टेस्ट पारी में सबसे अधिक सिक्सर लगाने के मामले में जायसवाल संयुक्त रूप से पहले स्थान पर आ गए हैं

अपने दोहरे शतक वाली पारी में जायसवाल ने कई रिकॉर्ड ध्वस्त किए  •  Getty Images

अपने दोहरे शतक वाली पारी में जायसवाल ने कई रिकॉर्ड ध्वस्त किए  •  Getty Images

12 - यशस्वी जायसवाल ने अपनी 212 रनों की नाबाद पारी में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ कुल 12 सिक्सर लगाए। किसी टेस्ट मैच की एक पारी में सबसे अधिक सिक्सर लगाने के मामले में उन्होंने वसीम अकरम की बराबरी कर ली है।
1 - जायसवाल पहले ऐसे भारतीय बल्लेबाज़ हैं, जिन्होंने अपने पहले तीन शतक को 150 या उससे ज़्यादा के स्कोर में तब्दील किया है। ऐसा करने वाले वह विश्व के सातवें बल्लेबाज़ हैं।
22 साल 49 दिन - राजकोट टेस्ट की शुरुआत में जायसवाल की उम्र 22 साल 49 दिन थी। वह टेस्ट क्रिकेट में दो दोहरा शतक बनाने वाले तीसरे सबसे कम उम्र के खिलाड़ी बन गए हैं। विनोद कांबली ने 21 साल और 54 दिन की उम्र में ऐसा किया था, जबकि डॉन ब्रैडमैन 21 साल और 318 दिन की उम्र में यह कारनामा कर चुके हैं।
3 - लगातार टेस्ट मैचों में दोहरे शतक लगाने वाले भारतीय बल्लेबाज़ों में जायसवाल भी शामिल हो गए हैं। कांबली ने 1993 में इंग्लैंड और ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ़ लगातार टेस्ट मैचों में दोहरा शतक बनाया था, जबकि विराट कोहली ने 2017 में श्रीलंका के ख़िलाफ़ यह कारनामा किया था।
28 - इंग्लैंड के ख़िलाफ़ भारत ने राजकोट टेस्ट में 28 सिक्सर लगाए थे। एक टेस्ट मैच में किसी भी विपक्षी टीम के ख़िलाफ़ यह उनका सबसे ज़्यादासिक्सरथा। इससे पहले उन्होंने 2019 में साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ खेले गए टेस्ट में भारत ने 27 सिक्सर लगाए थे।
इन 28 सिक्सर में से 18 सिक्सर दूसरी पारी में लगे। दूसरी पारी में सबसे अधिक सिक्सर लगाए जाने के मामले में अब भारत सिर्फ़ न्यूज़ीलैंड से पीछे है।
48 - इस सीरीज़ में अब तक भारत ने कुल 48 सिक्सर लगाए हैं। किसी एक सीरीज़ में यह सबसे अधिक सिक्सर है। भारत ने 2019 में साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ कुल 47 सिक्सर लगाए थे।
उन 48 सिक्सर में से जायसवाल के बल्ले से कुल 22 सिक्सर निकले। किसी एक टेस्ट सीरीज़ में किसी भी बल्लेबाज़ के द्वारायह सबसे ज़्यादा है। साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ रोहित शर्मा ने 19 सिक्सर लगाए थे।
4 - पुरुषों के टेस्ट में पदार्पण मैच पर दोनों पारियों में 50 से अधिक स्कोर 4 भारतीय बल्लेबाज़ों ने बनाया है, जिनमें सरफ़राज़ ख़ान भी शामिल हैं। दिलावर हुसैन ने 1934 में इंग्लैंड के ख़िलाफ़, सुनील गावस्कर ने 1971 में वेस्टइंडीज़ के ख़िलाफ़ और श्रेयस अय्यर ने 2021 में न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ डेब्यू पर दो बार 50 से ज़्यादा का स्कोर बनाया था।
सरफ़राज़ का स्ट्राइक रेट (94.2) पुरुषों के टेस्ट में पदार्पण पर दो पचास से अधिक स्कोर वाले 43 बल्लेबाज़ों में अब तक का सबसे अधिक है (जहां तक डेटा उपलब्ध है)।
2009 - इससे पहले 2009 में किसी टीम ने दोनों पारियों में 400 या उससे अधिक रन बनाया था। कुल मिलाकर यह केवल ग्यारहवीं बार था जब किसी टीम ने टेस्ट की दोनों पारियों में 400 से अधिक का स्कोर बनाया है।
557 - राजकोट में भारत ने 557 रन का लक्ष्य रखा था। यह टेस्ट क्रिकेट में उनके द्वारा दिया गया दूसरा सबसे बड़ा लक्ष्य था। 2009 के वेलिंगटन टेस्ट में न्यूज़ीलैंड को भारत ने 617 रनों का लक्ष्य दिया था।d
434 - राजकोट में भारत की जीत का अंतर टेस्ट क्रिकेट में रनों के हिसाब से सबसे बड़ा अंतर है। उनकी पिछली सबसे बड़ी जीत 2021 में वानखेड़े में न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ 372 रनों से थी। यह टेस्ट क्रिकेट में रनों के हिसाब से आठवीं सबसे बड़ी जीत है और इंग्लैंड के ख़िलाफ़ दूसरी सबसे बड़ी जीत है।

संपत बंडारूपल्ली ESPNcricinfo में स्टैस्टिशियन हैं.