मैच (21)
IPL (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (6)
USA vs CAN (2)
Zonal Trophy [W] (1)
SA v SL (W) (1)
ख़बरें

रमीज़ राजा: मुझे हटाए जाने का फ़ैसला एक मज़ाक जैसा है

हाल ही में पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर को पीसीबी के चेयरमैन के पद से हटा दिया गया था

रमीज़ ने कहा है कि वह इस मुद्दे को वैश्विक मंच पर उठाएंगे  •  Arif Ali/AFP/Getty Images

रमीज़ ने कहा है कि वह इस मुद्दे को वैश्विक मंच पर उठाएंगे  •  Arif Ali/AFP/Getty Images

रमीज़ राजा को हाल ही में पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के चेयरमैन के पद से हटा दिया गया था। उन्होंने इस क़दम को एक राजनीतिक हस्तक्षेप वाला फ़ैसला करार दिया है। आपको बता दें कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड में चेयरमैन का कार्यकाल तीन साल का होता है लेकिन रमीज़ को एक ही साल में इस पद से हटना पड़ा है।
रमीज़ ने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा, " क्रिकेट और राजनीति को एक साथ नहीं मिलाना चाहिए। यह क्रिकेट है, जहां खिलाड़ी मैदान पर खेलते हैं लेकिन कुछ लोग मैदान के बाहर से आते हैं और कोशिश करते हैं कि इस खेल में अपने किसी व्यक्ति (नज़म सेठी) को सेट किया जाए। इसके लिए उन्हें बोर्ड के पूरे संविधान को ही बदलना पड़ता है। मैंने ऐसा वाक़्या पूरे विश्व में और कहीं नहीं देखा है।"
"किसी भी चीज़ को करने का एक तौर तरीक़ा होता है लेकिन यह फ़ैसला सीज़न के बीच में ली गई है। वह भी तब जब विदेशी टीमें पाकिस्तान का दौरा कर रही हैं। फिर आपने मुख्य चयनकर्ता (मोहम्मद वसीम) को बदल दिया है, भले ही वह अच्छा या बुरा कर रहे हों। उन्होंने पाकिस्तान के लिए टेस्ट क्रिकेट खेला है। आपको उन्हें सम्मान के साथ विदा करना चाहिए था।"
यह निराशाजनक है जब आपको 12 महीने बाद पद छोड़ने के लिए कहा जाता है जबकि आपको तीन साल का कार्यकाल दिया गया था। मैं कहूंगा कि यह राजनीतिक हस्तक्षेप है क्योंकि आप किसी को राजनीतिक रूप से भर्ती करना चाहते हैं। यह क्रिकेट की मदद नहीं करेगा।
रमीज़ राजा
"और फिर वह (सेठी) देर रात 2.15 बजे ट्वीट करते हैं कि रमीज़ अब बाहर हो गए हैं। इससे दुख होता है क्योंकि मैं पाकिस्तान के लिए खेला हूं। इस पूरी घटना के लिए ऐसा माहौल बनाया गया है, जैसे कोई मसीहा (सेठी) आ गया है, जो खेल को पता नहीं कहां से कहां ले जाएंगे। हम जानते हैं कि इसके पीछे क्या उद्देश्य है। वे बस लाइमलाइट चाहते हैं। उन्हें क्रिकेट से कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने कभी बल्ला नहीं उठाया है। उन्होंने सीज़न के बीच में सेट-अप बदल दिया है। वे मिकी आर्थर को वापस ला रहे हैं। सक़लैन मुश्ताक़ का कार्यकाल वैसे भी जनवरी में समाप्त हो रहा था। सकलैन ने 50 से अधिक (49) टेस्ट खेले हैं। वह एक महान खिलाड़ी हैं। क्रिकेटरों के साथ ऐसा बर्ताव नहीं होना चाहिए।"
रमीज़ और अन्य पीसीबी बोर्ड के सदस्यों को 14 सदस्यीय प्रबंधन समिति द्वारा प्रतिस्थापित किया गया है, जिसका नेतृत्व पूर्व बोर्ड प्रमुख नज़म सेठी कर रहे हैं। शाहबाज़ शरीफ़ ने हाल ही में इमरान ख़ान को पाकिस्तान के प्रधान मंत्री के रूप में प्रतिस्थापित किया था। वहीं इस समिति के पास पीसीबी के संविधान को बदलने के लिए 120 दिन हैं, जिसे 2019 में बदल दिया गया था।
पीसीबी का संविधान चाहे 2014 का हो या 2019 का, संरक्षक को पीसीबी बोर्ड में दो सीधे नामांकित व्यक्तियों (नाॉमिनी) के नाम आगे बढ़ाने का का अधिकार देता है, जिनमें से एक को अध्यक्ष के रूप में चुना जाता है। सरकार बदलने के साथ आमतौर पर अध्यक्ष और बोर्ड प्रशासन में लगभग तुरंत ही बदलाव आ जाता है। इसीलिए देर-सवेर रमीज़ का बाहर निकलना अवश्यम्भावी था।
रमीज़ ने कहा, "यह निराशाजनक है जब आपको 12 महीने बाद पद छोड़ने के लिए कहा जाता है जबकि आपको तीन साल का कार्यकाल दिया गया था। मैं कहूंगा कि यह राजनीतिक हस्तक्षेप है क्योंकि आप किसी को राजनीतिक रूप से भर्ती करना चाहते हैं। यह क्रिकेट की मदद नहीं करेगा। यह क्रिकेट बोर्ड, सिस्टम और राष्ट्रीय टीम पर दबाव बनाएगा। संविधान को मज़बूत होना चाहिए। यह केवल पाकिस्तान में होता है। मैं अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर इस विषय को उठाता रहूंगा। यह एक मज़ाक बन गया है।"

उमर फारूख ESPNcricinfo के पाकिस्तानी संवाददाता हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर राजन राज ने किया है।