मैच (16)
IPL (3)
PAK v WI [W] (1)
Pakistan vs New Zealand (2)
ACC Premier Cup (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
फ़ीचर्स

रेटिंग्‍स : श्वेता और पार्शवी का कोई तोड़ नहीं

अंडर-19 विश्‍व कप के सेमीफ़ाइनल में न्‍यूज़ीलैंड को हराकर भारत फ़ाइनल में पहुंचा

पहले महिला अंडर 19 विश्‍व कप के फ़ाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम बना भारत  •  ICC/Getty Images

पहले महिला अंडर 19 विश्‍व कप के फ़ाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम बना भारत  •  ICC/Getty Images

अंडर-19 विश्‍व कप के सेमीफ़ाइनल में न्‍यूज़ीलैंड को हराकर भारत फ़ाइनल में पहुंचा भारतीय टीम न्‍यूज़ीलैंड पर आठ विकेट से जीत दर्ज करके पहले अंडर-19 महिला टी20 विश्‍व कप के फ़ाइनल में पहुंच गई है। भारत ने पूरे मैच में न्‍यूज़ीलैंड पर दबाव बनाकर रखा और एक तरफ़ा मुक़ाबला आठ विकेट से जीत लिया। भारतीय टीम इस टूर्नामेंट के फ़ाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम बन गई है। तो चलिए देखते हैं इस मैच में खिलाड़ियों ने कितने रेटिंग्‍स हासिल किए।

क्या सही और क्या ग़लत?

भारत के लिए गेंदबाज़ी में सबकुछ सही गया। शेफ़ाली वर्मा ने अपने गेंदबाज़ों का बहुत अच्‍छे से इस्‍तेमाल किया। टीम में केवल एक तेज़ गेंदबाज़ का रखना बताता है कि टीम अपने ऑलराउंड स्पिनरों पर निर्भर थी और उन्‍होंने अच्‍छा काम किया।

अगर ग़लत की बात की जाए तो भारतीय टीम का क्षेत्ररक्षण कमाल का नहीं गया। लॉन्ग ऑन पर दो कैच टपकाए गए और कई जगह मिसफ़ील्ड की वजह से अतिरिक्त रन गए। ऐसे में टीम को इस चीज़ का बड़े फ़ाइनल में ध्‍यान रखना होगा।

(रेटिंग्स 1 से 10, सर्वाधिक 10)

शेफ़ाली वर्मा, 8 : भारतीय टीम की कप्‍तान बल्‍लेबाज़ी में ज़रूर नहीं चल पाई लेकिन अंतिम ओवरों की गेंदबाज़ी में उन्‍होंने गर्दा उठा दिया। चार ओवर में सात रन देकर एक विकेट दिखाता है कि उन्‍होंने किस तरह से कीवी बल्‍लेबाज़ों को बांधे रखा। उनकी कप्‍तानी क़ाबिल-ए-तारीफ़ थी।

श्वेता सहरावत, 10 : इस दाएं हाथ की ओपनर बल्‍लेबाज़ की जितनी भी तारीफ़ की जाए वह कम रहेगी। न्‍यूज़ीलैंड के ख़‍िलाफ़ अहम मैच में नाबाद 61 रन बनाकर श्वेता इस टूर्नामेंट में सबसे अधिक रन बनाने वाली बल्‍लेबाज़ बन गई हैं। श्वेता ने अपने लेट कट के साथ सभी का दिल जीत लिया। एक तरह से न्‍यूज़ीलैंड की रणनीति को उन्‍होंने अपने शॉट से फीका कर दिया।

सौम्‍या तिवारी, 7 : कप्‍तान शेफ़ाली जल्‍दी पवेलियन लौट गई थी और यहां पर एक भी विकेट भारत की परेशानी बढ़ा सकता था। ऐसे में तीसरे नंबर पर बल्‍लेबाज़ी करने सौम्‍या तिवारी आई, जिन्‍होंने संयम दिखाया और न्‍यूज़ीलैंड की गेंदबाज़ों की ख़राब लेंथ का भरपूर फ़ायदा उठाकर श्वेता का साथ निभाया। वह आगे की गेंद को पीछे खेलने की ग़लती करके बोल्‍ड हुई लेकिन तब तक मैच भारत के हाथों में था।

जी तृषा, 5 : तृषा के लिए आज के मैच में करने के लिए ज़्यादा कुछ नहीं रहा। पहले तो वह क्षेत्ररक्षण में कोई योगदान नहीं दे पाई, इसके बाद उनकी बल्‍लेबाज़ी काफ़ी नीचे आई और उन्होंने नाबाद रहकर मैच को ख़त्म किया।

ऋचा घोष, 6 : ऋचा ने इस मैच में विकेट के पीछे भरपूर जान लगाई लेकिन कई बार वह मिसफ़ील्‍ड भी करती नज़र आई। हालांकि पेज लॉगेनबर्ग के रन आउट में उन्‍होंने अहम योगदान दिया और इसी वजह से उन्‍हें यह छह अंक मिले।

ऋषिता बसु, 6 : ऋषिता का एक कैच और शानदार क्षेत्ररक्षण पर रन आउट न्‍यूज़ीलैंड के लिए गले की हड्डी बन गया था। लॉगेनबर्ग को तो उन्‍होंने डाइव लगाकर, गेंद रोककर, स्‍ट्राइकर छोर पर थ्रो कराकर आउट कराया।

तितास साधु, 7 : तितास वह गेंदबाज़ रही जिन्‍होंने भारत को अच्‍छी शुरुआत दिलाई। अपनी अंदर और बाहर जाती गेंद पर वह बल्‍लेबाज़ों को अचंभित करती दिखाई दी। यही वजह रही कि वह ओपनर एमा मकलॉयड को पगबाधा करने में क़ामयाब रही और अपने तीन ओवरों में बल्‍लेबाज़ों पर पूरा दबाव बनाया।

मन्नत कश्‍यप, 7 : मन्नत को केवल एक ही विकेट मिला जो दो में बदल सकता था लेकिन लॉन्ग ऑन पर कैच टपका दिया गया। चार ओवर में केवल 21 रन देना बताता है कि उन्‍होंने अपनी फ़्लाइटेड गेंदों में बल्‍लेबाज़ों को अच्‍छे से चकमा दिया।

अर्चना देवी, 8 : अर्चना अंतिम ओवरों में गेंदबाज़ी करने आई। सटीक लाइन और लेंथ की वजह से कीवी बल्‍लेबाज़ उन्‍हें खेल नहीं पा रही थी। इसी का नतीज़ा रहा कि वे उन पर आक्रमण करने गई और उन्‍हें जॉर्जिया प्‍लिमर का अहम विकेट मिल गया। अगर यह विकेट नहीं मिलता तो न्‍यूज़ीलैंड की टीम 120 रन के पार पहुंच सकती थी।

पार्शवी चोपड़ा, 10 : लेग स्पिनर पार्शवी इस टूर्नामेंट की सबसे सफल गेंदबाज़ों में से एक बनकर उभरी हैं। पिछले अहम मैच में उन्‍होंने श्रीलंका के ख़‍िलाफ़ चार विकेट चटकाए और उसी लय को इस बार भी जारी रखा। वह अपनी फ़्लाइट, गुगली और टॉप स्पिन में बल्‍लेबाज़ों को आसानी से फंसाने में क़ामयाब रहती हैं। इसाबेल गेज़ और कप्‍तान इज़्ज़ी शार्प का विकेट उनकी अहम उपलब्धियां रहीं।

सोनम यादव, 5 : सोनम के लिए इस मैच में ज्‍़यादा कुछ ख़ास नहीं रहा। उन्‍हें केवल दो ओवर करने को मिले और वह एक भी विकेट नहीं ले पाई। इसके बाद उनकी बल्‍लेबाज़ी भी नहीं आई।

निखिल शर्मा ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर हैं। @nikss26