मैच (9)
इंग्लैंड बनाम साउथ अफ़्रीका (1)
महाराजा टी20 (2)
द हंड्रेड (महिला) (1)
द हंड्रेड (पुरुष) (1)
वेस्टइंडीज़ बनाम न्यूज़ीलैंड (1)
रॉयल लंदन कप (3)
ख़बरें

वेस्टइंडीज़ दौरे से एंडरसन और ब्रॉड की छुट्टी

ऐशेज़ सीरीज़ में शामिल आठ खिलाड़ियों पर गिरी गाज, टीम से बाहर

James Anderson and Stuart Broad held off Australia to seal the draw, Australia vs England, Men's Ashes, 4th Test, 5th day, Sydney, January 9, 2022

ऐशेज में खराब प्रदर्शन की मिली सजा  •  Getty Images

इंग्लैंड के ख़राब ऐशेज़ दौरे का नतीज़ा प्रबंधन से अब ड्रेसिंग रूम तक पहुंच गया है। यही वजह है कि टेस्ट क्रिकेट में इंग्लैंड के लिए सबसे अधिक विकेट लेने वाले जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड को आगामी वेस्टइंडीज़ दौरे से बाहर कर दिया गया है।
ऐंड्रयू स्ट्रॉस, पॉल कॉलिंगवुड और जेम्स टेलर के अंतरिम चयन पैनल ने युवा खिलाड़ियों को मौक़ा देने का निर्णय किया है। इसमें अनकैप्ड जोड़ी साक़िब महमूद और मैथ्यू फ़िशर जैसे तेज गेंदबाज़ शामिल हैं।
640 टेस्ट विकेट के साथ एंडरसन सर्वकालिक टेस्ट विकेट लेने वालों की सूची में तीसरे स्थान पर हैं। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में इंग्लैंड के लिए तीन मैचों में 23.37 की औसत से आठ विकेट लिए। ब्रॉड ने अपने टेस्ट करियर में 537 विकेट लिए हैं और उन्होंने ऐशेज़ सीरीज़ में 13 विकेट लिए थे। इसी के साथ उन्होंने ऐशेज़ में इंग्लैंड के सबसे सफल गेंदबाज़ के तौर पर बॉब विलिस और इयान बॉथम को पछाड़ा भी था।
इंग्लैंड के अंतरिम प्रबंध निदेशक स्ट्रॉस ने कहा कि नए बुलाए गए चयनकर्ता ने टेस्ट कप्तान जो रूट से इनपुट लिया था और वह ऑस्ट्रेलिया में मिली हार के कारण "एक सीमा रेखा खींचना" चाहते थे। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि एंडरसन और ब्रॉड के करियर का यह अंत नहीं है।
मुख्य कोच और मुख्य चयनकर्ता क्रिस सिल्वरवुड को पिछले हफ्ते बर्ख़ास्त किए जाने के बाद से इंग्लैंड की पहली टेस्ट टीम चुनी गई, जिसमें ऑस्ट्रेलियाई दौरे में शामिल होने वाले आठ खिलाड़ियों को हटा दिया गया। इसमें एंडरसन, ब्रॉड, जॉस बटलर, रोरी बर्न्स, हसीब हमीद, डेविड मलान, सैम बिलिंग्स और डॉम बेस का नाम शामिल है। बर्न्स और मलान की ही तरह बटलर का टेस्ट करियर भी अब समाप्त हो सकता है। बटलर की जगह विकेटकीपर बेन फ़ोक्स को वापस बुला लिया गया है, जबकि डरहम के सलामी बल्लेबाज़ ऐलेक्स लीज़ को ज़ैक क्रॉली के साथ ओपनिंग पर उतारा जा सकता है।
इंग्लैंड द्वारा एंडरसन और ब्रॉड से आगे बढ़ने की प्रक्रिया शुरू करने के बावज़ूद, ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ उनकी समस्याएं काफ़ी हद तक एक ख़राब बल्लेबाजी लाइन-अप के आसपास केंद्रित थीं, जो सीरीज़ में 300 रनों तक पहुंचने में विफल रहा और छह मौक़ों पर 200 से कम का स्कोर बनाया। रूट के बाद बर्न्स, हमीद और मलान इंग्लैंड के दूसरे प्रमुख रन-स्कोरर रहे। हालांकि, ऑली पोप टीम में बने हुए हैं, जिन्होंने ऐशेज़ की छह पारियों में सिर्फ़ 11.13 की औसत से रन बनाए थे।
पिछली गर्मियों में पदार्पण करने वाले क्रिस वोक्स, मार्क वुड और ऑली रॉबिन्सन, महमूद, फ़िशर और क्रेग ओवर्टन के वरिष्ठ तेज़ गेंदबाज़ी सहयोगी होंगे। इंग्लैंड के पूर्व अंडर-19 खिलाड़ी फ़िशर ने 2013 में 15 साल की उम्र में यॉर्कशायर के लिए पदार्पण किया था, लेकिन तब से उन्हें काफ़ी चोट लगी है। वह ऑस्ट्रेलिया गई इंग्लैंड लायंस की टीम में शामिल थे और पिछली गर्मियों में 19.65 की औसत से 20 विकेट लेने का उनका अच्छा प्रथम श्रेणी रिकॉर्ड है।
जैक लीच टेस्ट स्पिनर के रूप में पहली पसंद के तौर पर जारी हैं, लेकिन लंकाशायर के अनकैप्ड लेगस्पिनर मैट पार्किंसन की भी वापसी हुई है। वह 2019-20 में साउथ अफ़्रीका का दौरा कर चुके हैं। वहीं कॉलिंगवुड को इसी सोमवार को टीम का अंतरिम कोच बनाया गया था।
इंग्लैंड की टीम : जैक क्रॉली, ऑली पोप, साक़िब महमूद, ऐलेक्स लीज़, बेन फोक्स (विकेटकीपर), मार्क वुड, जो रूट (कप्तान), क्रिस वोक्स, मैथ्यू पार्किंसन, जॉनी बेयरस्टो, ऑली रॉबिन्सन, मैथ्यू फ़िशर, डैन लॉरेंस, क्रेग ओवर्टन, जैक लीच, बेन स्टोक्स।