मैच (14)
NZ v AUS (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (2)
विश्व कप लीग 2 (1)
Nepal Tri-Nation (1)
Sheffield Shield (3)
CWC Play-off (3)
PSL 2024 (1)
WPL (2)
Comment

चैपल : टी20 विश्व कप अभियान से बहुत कुछ सीख सकते हैं टेस्ट कप्तान स्टोक्स

फ़ाइनल में खेली पारी से उन्हें विश्वास हो गया होगा कि उन्हें लंबे प्रारूप में अधिक सावधानी के साथ बल्लेबाज़ी करनी चाहिए

बटलर ने स्टोक्स को चुनने और इंग्लैंड के विश्व कप अभियान में उनका बेहतर उपयोग करने में चतुर टी20 कौशल का प्रदर्शन किया  •  Associated Press

बटलर ने स्टोक्स को चुनने और इंग्लैंड के विश्व कप अभियान में उनका बेहतर उपयोग करने में चतुर टी20 कौशल का प्रदर्शन किया  •  Associated Press

टी20 क्रिकेट पूर्वानुमान लगाने के लिए सबसे कठिन प्रारूप है लेकिन इंग्लैंड के लिए बड़े मैचों में बेन स्टोक्स के सफल प्रदर्शन से किसी को कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए।
मंच उच्चतम होने पर स्टोक्स का अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने का उल्लेखनीय रिकॉर्ड है। उन्होंने महत्वपूर्ण टेस्ट और वनडे मैचों में ऐसा किया है और अब टी20 क्रिकेट में भी उन्होंने यह उपलब्धि हासिल की। इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि कप्तान जॉस बटलर ने विश्व कप टीम में स्टोक्स की उपस्थिति की मांग की थी।
विशिष्ट स्टोक्स, राउंड-रॉबिन खेलों में अपना समय बिता रहे थे, जब तक कि श्रीलंका के ख़िलाफ़ करो या मरो वाला मैच नहीं आया।
एक महत्वपूर्ण कैच और एक विकेट लेने के बाद उन्होंने एक सधी हुई लेकिन अहम पारी के साथ इंग्लैंड को सेमीफ़ाइनल में पहुंचाया। इसके बाद मेलबर्न में खेले गए फ़ाइनल मुक़ाबले में उन्होंने दृढ़ता से भरी पारी खेलकर इंग्लैंड को ट्रॉफ़ी दिलाई।
यह 2019 हेडिंग्ले टेस्ट में मैच विजेता पारी खेलने वाले स्टोक्स नहीं थे। ना ही उसी साल इंग्लैंड को पहला वनडे विश्व कप जिताने वाले मास्टर बल्लेबाज़ थे। यह वह समझदार क्रिकेटर था जो बड़े मंच पर खरा उतरा और जिसने ठीक वही किया जो इंग्लैंड को ट्रॉफ़ी दिलाने के लिए आवश्यक था।
कुछ लापरवाह पारियां खेलने के बावजूद टेस्ट कप्तान के रूप में अपने डेब्यू सीज़न में सफलता हासिल करने के बाद, इस पारी से स्टोक्स को विश्वास हो गया होगा कि कभी-कभी उन्हें लंबे प्रारूप में अधिक सावधानी के साथ बल्लेबाज़ी करनी चाहिए। इंग्लैंड को चाहिए कि स्टोक्स अच्छा खेले और ज़रूरत पड़ने पर अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान दे।
बटलर ने इस प्रारूप में स्टोक्स दुर्लभ प्रदर्शन के बावजूद टी20 टीम में उनकी उपस्थिति पर ज़ोर दिया, जो कप्तान के संक्षिप्त रूप से उनके ज्ञान को दर्शाता है। बटलर ने बहुत अधिक टी20 विशेषज्ञता प्रदर्शित की और खिलाड़ियों के साथ एकांत में उनकी भूमिकाओं पर चर्चा की। इन सब ने उनके नेतृत्व गुणों को और बढ़ा दिया है।
टी20 सफलता के बावजूद बटलर टेस्ट क्रिकेट में एक पहेली हैं। वह एक मैच जिताने वाले बल्लेबाज़ होने के अलावा एक मूल्यवान टी20 विकेटकीपर हैं, लेकिन हाल के फ़ॉर्म पर, टेस्ट टीम में उनके लिए कोई जगह नहीं है। वह एक टेस्ट कीपर नहीं है और आप उन्हें एक बल्लेबाज के रूप में नहीं खेल सकते हैं, क्योंकि वह ख़ुद के बारे में अनिश्चित हैं।
बटलर की बल्लेबाज़ी की दुविधा पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान मार्क टेलर की बात को समर्थन देती है। टेलर का मानना है कि टेस्ट संस्करण के विपरीत, खेल के छोटे प्रारूप यह तय करते हैं कि आप कैसे खेलते हैं। टी20 क्रिकेट में ऐसा विशेष रूप से होता है, जहां शुरुआत से एक निश्चित विचारधारा वाले बल्लेबाज़ की मांग होती है, जो बटलर को सूट करता है।
दुर्भाग्य से स्टोक्स के लिए, वह टेस्ट टीम का नेतृत्व करते हुए बटलर के दिखाए आत्मविश्वास का बदला नहीं चुका सकते। अपनी सर्वश्रेष्ठ टेस्ट टीम चुनने की चुनौती में स्टोक्स के लिए यह विकल्प उपलब्ध नहीं है। फ़ॉर्म में नहीं चल रहे बटलर के लिए टेस्ट टीम में कोई जगह नहीं है।
हालांकि, ऊर्जावान सैम करन एक ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें स्टोक्स को सही परिस्थितियों में टेस्ट टीम में स्थान पर विचार करने की आवश्यकता है। स्टोक्स की तरह, करन में बड़े मौकों पर शानदार प्रदर्शन करने की क्षमता है और वह सफलता के सशक्त रिकॉर्ड के साथ एक उत्तेजक प्रतिस्पर्धी इच्छा लेकर आते हैं। ये ऐसे गुण हैं जो स्टोक्स की शैली के साथ पूरी तरह फ़िट बैठते हैं।
स्टोक्स यह भी उम्मीद करेंगे कि उनकी कप्तानी के दौरान इंग्लैंड के तेज़ गेंदबाज़ों को परेशान करने वाली चोटें ख़त्म हो जाएं।
स्पिन गेंदबाज़ी उनके एजेंडे की दूसरी प्रमुख चीज़ है। इंग्लैंड को स्पिन पर अपनी टेस्ट नीति पर पुनर्विचार करने और ऐसे गेंदबाज़ की तलाश करने की ज़रूरत है जो अच्छी पिचों पर बल्लेबाज़ों को आउट कर सके। छोटे प्रारूप में स्पिन गेंदबाज़ बल्लेबाजों को विकेट फेंकने के लिए लुभा सकते हैं, जो एक मूल्यवान कौशल है। हालांकि, यह टेस्ट में अधिक उपयोगी नहीं है।
स्टोक्स एक कप्तान के रूप में बेहतर हो रहे हैं और उन्होंने महत्वपूर्ण मैचों में एक चमत्कार कार्यकर्ता माने जाने के लिए पर्याप्त जादुई प्रदर्शन भी किए हैं। यह एक कप्तान के लिए अमूल्य है। एक स्मार्ट क्रिकेटर होने के नाते, स्टोक्स अब एक सफल टी20 विश्व कप अभियान के उन पहलुओं का चतुराई से आकलन करके अपने टेस्ट नेतृत्व को आगे बढ़ा सकते हैं, जिन्होंने उनका ध्यान आकर्षित किया।

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान इयन चैपल एक स्तंभ-लेखक हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर अफ़्ज़ल जिवानी ने किया है।