मैच (17)
IPL (2)
Pakistan vs New Zealand (1)
PAK v WI [W] (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (2)
Women's QUAD (2)
ख़बरें

विरोध प्रदर्शन के दौरान हिंसा में इमरान ख़ान घायल हुए

वज़ीराबाद में हमलावर की गोली उनके पैर पर लगी है और अस्पताल में उनका स्वास्थ्य स्थिर बताया गया है

एक रैली के दौरान इमरान ख़ान को चोट लगी है  •  AFP/Getty Images

एक रैली के दौरान इमरान ख़ान को चोट लगी है  •  AFP/Getty Images

पाकिस्तान के विश्व कप विजेता कप्तान और पूर्व प्रधानमंत्री इमरान ख़ान पाकिस्तान के वज़ीराबाद, पंजाब में हुए हिंसक हमले में घायल हुए हैं। इमरान वहां एक विरोध प्रदर्शन में हिस्सा ले रहे थे जब किसी ने गोली चलाई। इमरान के पैर में चोट आई है और साथ ही प्रदर्शन में मौजूद नौ लोगों के चोटिल होने के साथ ही एक व्यक्ति की मृत्यु की ख़बर आई है। टीवी पर उन्हें अस्पताल ले जाते हुए दिखाया गया है और उनकी पार्टी के अधिकारीयों ने बताया है कि गोली उनकी पिंडली पर लगी है और वह स्थिर हालत में हैं।
अब तक यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि इस हमले का निशाना इमरान ही थे या नहीं। हालांकि पाकिस्तानी टीवी चैनलों ने ऐसा फ़ुटेज दिखाया है जिसमें ऐसा लग रहा है कि कथित हमलावर ने उन को निशाना बनाने की बात की है। 70 वर्षीय इमरान को इस साल के अप्रैल में सत्ता से हटाया गया था और वह इस प्रदर्शन में राजधानी इस्लामाबाद की ओर आम चुनाव करवाने की मांग कर रहे थे।
इमरान की गिनती विश्व के सर्वोत्तम ऑलराउंडरों में की जाती है। उन्होंने पाकिस्तान को 1992 में ऑस्ट्रेलिया-न्यूज़ीलैंड में खेले गए विश्व कप में अपनी कप्तानी से ख़िताब दिलाया था। इमरान एक बड़े कंटेनर ट्रक पर अपनी पार्टी के अधिकारीयों के साथ खड़े थे जब गोलियां चली और सभी को बचने के लिए सुरक्षित होने की कोशिश करनी पड़ी। टीवी फ़ुटेज में उनके दाएं पैर पर टखने के ऊपर एक पट्टी देखा गया है। इस घटना के बाद उन्हें एक दूसरी गाड़ी में बिठाकर अस्पताल ले जाया गया।
पार्टी के नेता असद उमर ने पत्रकारों को बताया, "उन्हें लाहौर के अस्पताल में ले जाया गया है लेकिन उनकी चोट गंभीर नहीं है। एक गोली उनके पैर पर लगी।"
इस प्रदर्शन की शुरुआत लगभग एक सप्ताह पहले लाहौर से हुई थी और इसमें इमरान के अलावा भारी मात्रा में उनके समर्थक हिस्सा ले रहे थे। इमरान को अगस्त 2018 में पाकिस्तान के प्रधान मंत्री के रूप में चुना गया था लेकिन इस साल अविश्वास प्रस्ताव हारने के बाद उन्हें उस पद से हटना पड़ा था। तब से उन्होंने कई विरोध प्रदर्शन में भाग लिया है।

अनुवाद ESPNcricinfo में स्‍थानीय भाषा प्रमुख देबायन सेन ने किया है।