मैच (16)
IND v ENG (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
विश्व कप लीग 2 (1)
Marsh Cup (1)
NZ v AUS (1)
CWC Play-off (3)
PSL 2024 (3)
WPL (2)
ख़बरें

चौथे स्थान की दौड़ दिलचस्प : प्लेऑफ़ में पहुंचने के लिए मुंबई और कोलकाता में कड़ी टक्कर

राजस्थान रॉयल्स और और पंजाब किंग्स के लिए क़रीब-क़रीब दरवाज़े बंद

राजस्थान पर जीत के बाद मुंबई की प्लेऑफ़ में पहुंचने की उम्मीदें बरक़रार  •  BCCI

राजस्थान पर जीत के बाद मुंबई की प्लेऑफ़ में पहुंचने की उम्मीदें बरक़रार  •  BCCI

मुंबई इंडियंस की राजस्थान रॉयल्स पर शानदार जीत के बाद क़रीब-क़रीब ये तय हो गया है कि राजस्थान और पंजाब किंग्स के लिए प्लेऑफ़ में जगह बनाना अब महज़ अंकगणीतिय समीकरण तक सीमित रह गया है। क्योंकि अब प्लेऑफ़ की आख़िरी टिकट की लड़ाई कोलकाता नाइट राइडर्स और मुंबई इंडियंस के बीच ही रह गई है।
कोलकाता नाइट राइडर्स
मैच खेले: 13, प्वाइंट्स: 12, एनआरआर: 0.294, बचा हुआ मुक़ाबला: बनाम राजस्थान रॉयल्स
मुंबई की एक बेमिसाल जीत के बाद भी कोलकाता नेट रनरेट में मुंबई से कहीं आगे है। जिसका मतलब है कि उन्हें बस एक जीत चाहिए - फिर चाहे जीत का अंतर कुछ भी हो - वह उन्हें प्लेऑफ़ में क्वालिफ़ाई कराने के लिए काफ़ी होगा। उदाहरण के तौर पर अगर कोलकाता अपना मुक़ाबला सिर्फ़ एक रन से भी जीतता है तो मुंबई को उनसे बेहतर नेट रनरेट करने के लिए 87 रनों की जीत चाहिए होगी।
अगर कोलकाता की हार होती है, तो फिर उन्हें ये उम्मीद करनी होगी कि सनराइज़र्स हैदराबाद अपने आख़िरी मुक़ाबले में मुंबई को हरा दें। अगर ऐसा हुआ तो भी कौलकाता बेहतर नेट रनरेट के हिसाब से प्लेऑफ़ में जगह बना लेगी।
कोलकाता के सामने एक ही चीज़ जो परेशानी का सबब है, वह है उन्हें अपने आख़िरी मैच के लिए दुबई से शारजाह की यात्रा करनी है। जबकि राजस्थान इसी मैदान पर अपना दूसरा मुक़ाबला खेलने के लिए मौजूद हैं, शारजाह में बल्लेबाज़ी करना अब तक मुश्किल रहा है और इसलिए ही कोलकाता थोड़ा ख़ुद को बदक़िस्मत मान रही होगी। हालांकि इस मैदान पर कोलकाता ने 28 सितंबर को दिल्ली कैपिटल्स के ख़िलाफ़ मैच खेला था और वहां उन्हें तीन विकेट से जीत मिली भी थी।
मुंबई इंडियंस
मैच खेले: 13, प्वाइंट्स: 13, एनआरआर: -0.048, बचा हुआ मुक़ाबला: बनाम सनराइज़र्स हैदराबाद
राजस्थान पर धमाकेदार जीत के बाद भी मुंबई के लिए परेशानी कम नहीं हुई है, उनके लिए प्लेऑफ़ में पहुंचने का जो सबसे सरल रास्ता है वह है राजस्थान की कोलकाता पर जीत। ऐसा होता है तो फिर मुंबई को बस अपना मुक़ाबला जीतना होगा और तब नेट रनरेट की बात नहीं आएगी।
हालांकि अगर कोलकाता अपना मैच जीत जाती है तो फिर मुंबई को कुछ वैसी ही जीत की दरकार होगी जैसा उन्होंने पिछले मैच में राजस्थान के ऊपर दर्ज की है। उदाहरण के तौर पर अगर कोलकाता अपना मुक़ाबला सिर्फ़ एक रन से भी जीतता है तो मुंबई को उनसे बेहतर नेट रनरेट करने के लिए 87 रनों की जीत चाहिए होगी। या अगर मुंबई एक रन से भी हारता है तो फिर नाइट राइडर्स को 85 रनों से हारना होगा, तब मुंबई की नेट रनरेट उनसे बेहतर हो सकती है।
राजस्थान रॉयल्स
मैच खेले: 13, प्वाइंट्स: 10, एनआरआर: -0.337, बचा हुआ मुक़ाबला: कोलकाता नाइट राइडर्स
राजस्थान जिस तरीक़े से मुंबई से हारा है उसके बाद उनके आगे जाने के दरवाज़े क़रीब-क़रीब बंद हो गए हैं। अगर वह कोलकाता को हरा दें और मुंबई भी हैदराबाद से हार जाए तो भी उनका नेट रनरेट -0.737 है जो उन्हें प्रतियोगिता के दूसरे दौर में ले जाने के लिए नाकाफ़ी हो सकता है।
लेकिन फिर भी जिन्हें ये जानना है कि क्या कोई रास्ता है अभी रॉयल्स के लिए तो उनके लिए ये जानकारी अहम है - राजस्थान को नाइट राइडर्स के ख़िलाफ़ 125 रनों के अंतर से जीत चाहिए होगी। इतना ही नहीं इसके अलावा वह फिर ये दुआ करेंगे कि हैदराबाद के ख़िलाफ़ मुंबई की भी 40 रनों से हार हो, इसके बाद ही फिर राजस्थान का नेट रनरेट बेहतर होगा। मतलब यही कि उन्हें अब अगले सीज़न की ही तैयारी करनी चाहिए।
पंजाब किंग्स
मैच खेले: 13, प्वाइंट्स: 10, एनआरआर: -0.241, बचा हुआ मुक़ाबला: बनाम चेन्नई सुपर किंग्स
पंजाब किंग्स के लिए भी अगले दौर का दरवाज़ा क़रीब-क़रीब बंद हो चुका है, वह अगर अपने आख़िरी मुक़ाबले में जीत भी दर्ज कर लेते हैं तो उनके 12 ही अंक होंगे। उनका आख़िरी मुक़ाबला चेन्नई सुपर किंग्स के ख़िलाफ़ होगा, जहां उन्हें बड़े अंतर से जीत दर्ज करनी होगी और फिर उम्मीद करनी होगी कि कोलकाता की राज्सथान से बड़ी हार हो और फिर मुंबई भी हैदराबाद को नहीं हरा पाए।
नेट रनरेट के मामले में भी पंजाब का हाल बेहाल ही है, और इससे बेहतर होने के लिए उन्हें अपना मैच 70 रनों के अंतर से जीतना होगा और उम्मीद करनी होगी कि कोलकाता अपना मुक़ाबला 70 रनों से हारे।

एस राजेश (@rajeshstats) ESPNcricinfo में सांख्यिकीविद एडिटर हैं, अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट सैयद हुसैन ने किया है।