मैच (18)
IPL (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (4)
USA vs CAN (1)
Women's Tri-Series (1)
Zonal Trophy [W] (1)
ख़बरें

केन विलियमन को सनराइज़र्स हैदराबाद ने किया रिलीज़

सनराइज़र्स ने 14 करोड़ रुपए में विलियमसन को रिटेन किया था लेकिन वह उम्मीदों के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर सके

विलियमसन को रिलीज़ करने के बाद हैदराबाद के पास ऑक्शन में ख़र्च करने के लिए बड़ी रकम होगी  •  BCCI

विलियमसन को रिलीज़ करने के बाद हैदराबाद के पास ऑक्शन में ख़र्च करने के लिए बड़ी रकम होगी  •  BCCI

आईपीएल 2022 के अपने सबसे ख़र्चीले खिलाड़ी केन विलियमसन को सनराइज़र्स हैदराबाद ने रिलीज़ कर दिया है। हैदराबाद के साथ विलियमसन के आठ सीज़न का सफ़र अब समाप्त हो गया है। न्यूज़ीलैंड कप्तान ने हैदराबाद के लिए खेलते हुए आईपीएल में 36.22 की औसत और 126.03 के स्ट्राइक रेट से 2101 रन बनाए थे। उन्होंने हैदराबाद के लिए कुल 76 मुक़ाबले खेले जिनमें 46 मुक़ाबलों में उन्होंने टीम की अगुआई की।
हैदराबाद के लिए आईपीएल 2022 बेहद निराशाजनक रहा था। हैदराबाद ने 14 मुक़ाबलों में सिर्फ़ छह मैच जीते थे और अंक तालिका को उन्होंने आठवें पायदान पर समाप्त किया था। विलियमसन को रिलीज़ करने का मतलब होगा कि छोटी नीलामी में अब अन्य खिलाड़ियों पर दांव लगाने के लिए हैदराबाद के पास काफ़ी राशि होगी।
विलियमसन को हैदराबाद ने पिछले सीज़न से पहले 14 करोड़ की राशि ख़र्च कर रिटेन किया था। आईपीएल के इतिहास में अब तक किसी विदेशी खिलाड़ी को इतनी बड़ी रकम देकर रिटेन नहीं किया गया था। विलियमसन के अलावा हैदराबाद ने पिछले सीज़न अब्दुल समद और उमरान मलिक को चार-चार करोड़ में रिटेन किया था।
विलियमसन को रिटेन किए जाने की एवज़ में हैदराबाद को राशिद ख़ान को जाने देना पड़ा था, लेकिन डेविड वॉर्नर की अनुपस्थिति में हैदराबाद ने विलियमसन पर दांव खेला। बॉल टैम्परिंग विवाद में फंसने के कारण आईपीएल 2018 में विलियमसन को वॉर्नर की जगह कमान सौंपी गई और उन्होंने उस सीज़न 52 की औसत और 142 के स्ट्राइक रेट से ना सिर्फ़ सबसे अधिक 735 रन बनाए बल्कि अपनी टीम को फ़ाइनल तक भी ले गए।
हालांकि 2022 में विलियमसन अपने बल्ले के साथ काफ़ी संघर्ष करते दिखाई दिए। कोहनी में तकलीफ़ से परेशान विलियमसन पूरे सीज़न में खेली 13 पारियों में 19 की औसत और 93 के स्ट्राइकट रेट से 216 रन ही बना पाए। सीज़न में कम से कम 100 गेंद खेलने वाले बल्लेबाज़ों में उनका स्ट्राइक रेट सबसे ख़राब रहा। उनके ख़राब प्रदर्शन की छाप सीज़न में हैदराबाद के प्रदर्शन पर भी दिखाई दी।