मैच (17)
IPL (3)
Pakistan vs New Zealand (1)
PAK v WI [W] (1)
ACC Premier Cup (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
CAN T20 (2)
फ़ीचर्स

कमिंस की यह पारी उतनी अजीब नहीं थी जितना आप सोच रहे हैं

हां, उन्होंने हर गेंद पर हिट लगाने का प्रयास किया और वह आया भी, लेकिन यह बात उनके कौशल की है

आप 14 गेंद के अर्धशतक को कैसे बयां करेंगे?
वाकई यह कमाल की पारी थी, कोई भी 14 गेंद का अर्धशतक कमाल की पारी ही होगा। एक ऐसी रात जब सारे बल्‍लेबाज़ असहज उछाल से परेशान थे। कुल मिलाकर इस मैच में 48 ​अनियंत्रित रन विकेट के पीछे बने, जो पिछले छह आईपीएल सीज़न के एक अकेले मुक़ाबले में सबसे ज़्यादा हैं।
वेंकटेश अय्यर अपने हनीमून सीज़न से बाहर आ रहे हैं, वह ख़ुद की फ़ॉर्म से लड़ रहे हैं। उन्होंने शुरुआत में 21 गेंद में 19 रन बनाए लेकिन अंत में उन्होंने 41 गेंद में 50 रन की पारी खेली। वह जानते थे कि उनकी टीम को भरोसा है कि वे अंत तक वहां टिके रहेंगे। उनका प्लान यही था कि अलग परिस्थितियों में भी वह पूरी तरह से कुशल हों, लेकिन सुनिश्चित करें कि वह बल्लेबाज़ी करें और जितना हो सके मौक़े बनाने में देरी करें।
इसके बाद आते हैं टेस्ट क्रिकेट के संयुक्त रूप से सर्वश्रेष्ठ तेज़ गेंदबाज़ पैट कमिंस और सीमित ओवर क्रिकेट के सामान्य तेज़ गेंदबाज़ डेनियल सैम्स पर। लेकिन ध्यान रहे इससे पहले उन्होंने टेस्ट क्रिकेट के दूसरे संयुक्त सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज़ और सीमित ओवर क्रिकेट के भी बेहतरीन गेंदबाज़ जसप्रीत बुमराह पर एक छक्का और चौका लगाया था। बुमराह पर यह दो शॉट खेलने के बाद उन्होंने सैम्स के एक ओवर में 35 रन निकाल दिए। यह दूसरे बल्लेबाज़ों का मजाक था, जो कठिन परिस्थितियों में कड़ा मुक़ाबला खेलने की कोशिश कर रहे थे।
शायद यह उचित है कि इस पारी का सबसे सटीक विवरण ऐसे व्यक्ति ने किया है जो क्रिकेट प्रतिभा और फ़िटनेस के मामले में असाधारण है। पैट कमिंस बताते हैं, "मैंने बस हर गेंद पर चौका या छक्का मारने की कोशिश की।"
निश्चित रूप से इसका स्पष्टीकरण होगा कि यह क्यों आया, लेकिन सही मायनों में यह बस इतना ही था : हर गेंद को सीमा रेखा की मारना, छोटी बाउंड्री को टारगेट करना और यह सुनिश्चित करना कि वेंकटेश को अपना विकेट जोखिम में नहीं डालना पड़े।
और विस्तार के लिए, हम कमिंस का तेज़ गेंदबाज़ी और स्पिन के ख़िलाफ़ का रिकॉर्ड देख सकते हैं। बुधवार की पारी के बाद उनका तेज़ गेंदबाज़ी के ख़िलाफ़ स्ट्राइक रेट 156 का है, यानी वह हर बार आउट होने तक 21 रन बनाते हैं। दो साल पहले उन्होंने जसप्रीत बुमराह के एक ही ओवर में चार छक्के लगाए थे। आईपीएल में सातवें या उससे नीचे स्थान पर उनके नाम अब सबसे ज़्यादा अर्धशतक हैं। ऐसे में आपको उनकी इस मैच जिताने वाली पारी पर चौंकना नहीं चाहिए। लेकिन उन्हें कभी भी एक विशुद्ध हरफ़नमौला नहीं माना जाता है, क्योंकि स्पिन के ख़िलाफ़ उनका बल्ला नहीं चलता है। स्पिन के ख़िलाफ़ वह प्रति गेंद रन भी नहीं बना पाते हैं।
कुछ ही टीम हैं जो पारी के अंत में स्पिनरों से ओवर कराती हैं, कमिंस भी ऐसी ही एक टीम का हिस्सा हैं, ऐसे में उनके लिए बल्लेबाज़ी का सबसे अच्छा समय डेथ ओवर ही हैं। ख़ासतौर पर जब वह एक ऐसे विशुद्ध बल्लेबाज़ के साथ बल्लेबाज़ी कर रहे हों, जो तेज़ गेंदबाज़ी की जगह स्पिन के ख़िलाफ़ अच्छी बल्लेबाज़ी करता है। वेंकटेश का स्पिन के ख़िलाफ़ 142 का स्ट्राइक रेट और 60 का औसत है, जबकि तेज़ गेंदबाज़ी के ख़िलाफ़ 122 का स्ट्राइक रेट और 28 का औसत है। और इस मैच में भी उन्होंने तेज़ गेंदबाज़ी से ज़्यादा स्पिन पर रन बनाए, ऐसे में विरोधी टीम को इस ख़तरे की आशा की वजह से अपने प्लान में बदलाव करने के लिए माफ किया जा सकता है, क्योंकि एक टिका हुआ बल्लेबाज़ क्रीज़ पर था और स्पिन उसकी सबसे बड़ी ताकत थी।
कमिंस ने खुद भी पहली पारी में अपने आख़िरी ओवर में 23 रन खाए थे। दो छक्के कायरन पोलार्ड के बल्ले का बाहरी किनारा लेते हुए थर्ड मैन की दिशा में गए। ऐसे में कमिंस ने अपनी गेंदबाज़ी का अंत 4-0-49-2 के आंकड़ों के साथ किया। उन्होंने खुद का टी20 क्रिकेट में स्वागत किया होगा, क्योंकि वह यहां एक बेहतरीन टेस्ट सीरीज़ खेलकर आए थे, जहां उन्होंने पाकिस्तान के ख़िलाफ़ 110.1 ओवर करके 12 विकेट निकाले, जो सीरीज़ में संयुक्त रूप से सबसे ज़्यादा थे और उनकी टीम ने यह सीरीज़ 1-0 से जीती।
इसके बाद उन्होंने बेहतरीन फ़ॉर्म के साथ टी20 क्रिकेट खेला, जहां उन्होंने हर गेंद पर बाउंड्री निकालने की कोशिश की और यह हिटिंग बेहद साफ़ थी। उन्होंने बाद में कहा, जब मैं ज़्यादा सोचता नहीं हूं, तब मैं अपने सर्वश्रेष्ठ पर रहता हूं।"
यह बयान उस काम को ख़ारिज नहीं कर सकता है जो पर्दे के पीछे अपने कौशल से हासिल किया जाता है, जहां आप हर बिना सोचे समझे चौके और छक्के लगा सकते हो। एक गेंदबाज़ होने के नाते आपको ऐसा करने की छूट होती है। उन्होंने ऐसा कई मैचों में करने की कोशिश की होगी, लेकिन उन्हें इस रात को वह सफलता मिली। कोई भी 14 गेंद का अर्धशतक एक अजीब पारी है, लेकिन अगर आप परिस्थितियों और कौशल को देखें, तो कमिंस से ऐसी पारी अधिक अपेक्षित हैं।

सिद्धार्थ मोंगा ESPNcricinfo में असिस्‍टेंट एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।