मैच (13)
IPL (2)
Pakistan vs New Zealand (1)
ACC Premier Cup (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
फ़ीचर्स

SRH vs PBKS रिपोर्ट कार्ड : त्रिपाठी की बेहतरीन पारी से हैदराबाद को मिली पहली जीत

धवन की बेहतरीन नाबाद 99 रनों की कप्‍तानी पारी गई बेकार

Rahul Tripathi goes inside out  •  Associated Press

Rahul Tripathi goes inside out  •  Associated Press

सनराइज़र्स हैदराबाद बनाम पंजाब किंग्‍स के बीच यह बेमिसाल मैच रहा है। 69 रनों पर पांच विकेट गंवाने के बाद नौ विकेट पर 143 रनों तक पहुंचना बताता है कि शिखर धवन की नाबाद 99 रनों की पारी की क्‍या अ‍हमियत है। सनराइज़र्स हैदराबाद के गेंदबाज़ों को शुरुआत में स्विंग मिली और पंजाब इस दबाव से उबर नहीं पाई। आख़‍िरकार आठ विकेट से हैदराबाद को जीत मिल गई।

बल्लेबाज़ी

पंजाब किंग्‍स (B) पंजाब किंग्‍स के लिए यह दिन भुला देने वाला होना चाहिए। पहले ही ओवर की पहली गेंद पर उन्‍होंने अपना पहला विकेट गंवा दिया। इसके बाद पहला मैच खेल रहे मैथ्‍यू शॉर्ट भी चलते बने। यह तो धन्‍यवाद देना चाहिए कप्‍तान धवन का जिन्‍होंने अकेले दम पर पंजाब को एक अच्‍छे स्‍कोर तक पहुंचाया। 66 गेंद में नाबाद 99 रनों की पारी से भी बड़ी बात यह है कि 88 रन पर नौ विकेट हो चुके थे और उन्‍होंने स्‍कोर को 143 तक पहुंचा दिया।
सनराइज़र्स हैदराबाद (A+) हैदराबाद की बल्‍लेबाज़ी इस मैच में कमाल की रही। यह टीम लक्ष्‍य का पीछा करते हुए बिखरी नहीं। हैरी ब्रूक और मयंक अग्रवाल जल्‍दी हाउट हुए लेकिन महफ़‍िल लूटी है राहुल त्रिपाठी ने अपने आईपीएल करियर की बेहतरीन पारियों में से एक खेली। गेंदबाज़ी
सनराइज़र्स हैदराबाद (A+) हैदराबाद की गेंदबाज़ी आज कमाल की दिखी है। पावरप्‍ले में ही उन्‍होंने मैच पर अपनी पकड़ बना ली थी। भुवनेश्‍वर कुमार ने पहली ही गेंद पर विकेट लिया तो मार्को यानसन ने अपने पहले ही दो ओवर में दो विकेट लेकर सनराइज़र्स हैदाबाद की मैच पर पकड़ बना दी थी। इसके बाद मयंक मार्कंडेय का दिन रहा जिन्‍होंने लगातार विरोधी टीम के बल्‍लेबाज़ों को अपनी गुगली पर फंसाया और चार विकेट निकाले।
पंजाब किंग्‍स (B) पंजाब किंग्‍स का नौ ओवर से पहले दोनों ओपनरों को 45 रनों के अंदर समेटना बताता है कि उनकी टीम ने किस तरह का आक्रमण किया है, लेकिन बाद में बिखरी हुई लाइन और लेंथ के आगे हैदराबाद को संभालना मुश्किल था। बीच में मोहित राठी को लगाना शायद क़ामयाब नहीं हुआ क्‍योंकि त्रिपाठी ऐसी ही कमजोरी का इंतज़ार कर रहे थे।

क्षेत्ररक्षण

सनराइज़र्स हैदराबाद (A) हैदराबाद के लिए आज का दिन बेमिसाल रहा है। शायद ही कोई ग़लती क्षेत्ररक्षण में उनकी ओर से की गई। उन्‍होंने एक बेहतरीन टीम के तौर पर वापसी करके दिखाई है। कहा जा सकता है कि विकेटकीपर क्‍लासेन अगर बायीं ओर डाइव लगाकर कैच लेते तो अंक और भी जुड़ जाते या भुवनेश्‍वर कुमार वह कैच लपक लेते तो कहानी दूसरी होती।
पंजाब किंग्‍स (B) पंजाब के लिए इस पारी सब कुछ सही रहा। लेकिन अगर 4.3 ओवर में नेथन एलिस की गेंद पर मयंक अग्रवाल का कैच लपका जाता तो कहानी कुछ ओर हो सकती थी, लेकिन कीपर ने यह मौक़ा गंवा दिया था। बाक़ी उन्‍होंने अपने क्षेत्ररक्षण में पूरी कोशिश की।

रणनीति

सनराइज़र्स हैदराबाद (A+) पहली ही गेंद से जिस तरह की स्विंग मिल रही थी, उस पर कप्‍तान एडन मारक्रम ने भुवनेश्‍वर के दो ओवर और यानसन को लगातार लगातर काफ़ी अच्‍छा फ़ैसला किया। नतीज़ा यह रहा कि पावरप्‍ले तक हैदराबाद खु़लकर नहीं आई। पावरप्‍ले के बाद जिस तरह से मार्कंडेय और उमरान मलिक का इस्‍तेमाल किया वह काबिले तारीफ़ था। दोनों ने ही अहम भूमिका निभाई।
पंजाब किंग्‍स (A+) - पंजाब किंग्‍स की रण‍नीति ख़ासकर धवन की कप्‍तानी पर सवाल नहीं उठाए जाने चाहिए। लगातार उन्‍होंने अपने मुख्‍य गेंदबाज़ों को विकेट लेने के लिए लगाए रखा। चाहे सैम करन-अर्शदीप सिंह के तीन-तीन ओवर या बाद में राहुल चाहर-मोहित राठी के बीच पांच ओवर कराने की क्षमता। बाद में ओस इतनी आ गई थी सनराइज़र्स हैदराबाद इस मैच को ख़ींच कर ले गई।

निखिल शर्मा ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर हैं। @nikss26