मैच (19)
आईपीएल (1)
WI vs SA (1)
ENG v PAK (W) (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
CE Cup (4)
T20WC Warm-up (3)
ख़बरें

गंभीर : मुझे नहीं लगता कोहली, रोहित और राहुल 2024 टी20 विश्व कप की योजनाओं में फ़िट होंगे

पूर्व भारतीय ओपनर ने पंत को लेकर कहा कि उन्हें सिर्फ़ टेस्ट क्रिकेट पर ध्यान देना चाहिए

Rohit Sharma, KL Rahul and Virat Kohli sing the national anthem, India vs Zimbabwe, T20 World Cup, Melbourne, November 6, 2022

गौतम गंभीर का मानना है कि रोहित शर्मा, के एल राहुल और विराट कोहली जैसे सीनियर खिलाड़ियों से आगे बढ़ने में कुछ ग़लत नहीं है  •  AFP/Getty Images

पूर्व भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर का मानना ​​है कि भारतीय टी20 टीम में रोहित शर्मा, के एल राहुल और विराट कोहली जैसे सीनियर खिलाड़ियों से आगे बढ़ने में कुछ भी ग़लत नहीं है, बशर्ते खिलाड़ियों और मैनेजमेंट के बीच स्पष्ट कम्युनिकेशन हो।
भारत 3 जनवरी से शुरू होने वाली तीन मैचों की टी20 सीरीज़ में श्रीलंका का सामना करने वाला है। फ़िलहाल तो पूरे संकेत हैं कि कोहली और राहुल को इस सीरीज़ से आराम दिया गया है, जबकि माना जा रहा है कि बांग्लादेश में तीन सप्ताह पहले लगी उंगली की चोट से पूरी तरह उबरने के लिए रोहित को थोड़ा और समय चाहिए। सीनियर तेज़ गेंदबाज़ भुवनेश्वर कुमार भी टीम से बाहर हैं। हार्दिक पंड्या को भारत का अंतरिम टी20 कप्तान बनाया गया है, वहीं सूर्यकुमार यादव उपकप्तान की ज़िम्मेदारी संभालेंगे।
पूर्व भारतीय बल्लेबाज़ गंभीर ने गुरुवार को स्टार स्पोर्ट्स द्वारा आयोजित एक बातचीत के दौरान ईएसपीएनक्रिकइंफो को बताया, "स्पष्टता होनी चाहिए। चयनकर्ताओं और इन खिलाड़ियों के बीच ठीक कम्युनिकेशन होना चाहिए। अगर चयनकर्ताओं ने इन खिलाड़ियों से परे देखने का फ़ैसला किया है, तो ठीक है। मुझे लगता है कि बहुत सारे देशों ने ऐसा किया है।"
उन्होंने आगे कहा, "जब चयनकर्ता और मैनेजमेंट कुछ खिलाड़ियों से परे देखते हैं तो हम बहुत हो हल्ला मचाते हैं। ऐसे में यह कुछ ख़ास खिलाडियों को लेकर नहीं है, आप अगले [टी20] विश्व कप के लिए अपनी योजनाओं को लेकर कैसे जाना चाहते हैं, क्योंकि आप वहां जीतने के लिए जाना चाहते हैं। अगर ये खिलाड़ी इसे हासिल नहीं कर पाए हैं, तो क्या पता कुछ अलग हो। सूर्यकुमार जैसे खिलाड़ी, युवा पीढ़ी उस सपने को हासिल करने के लिए आगे बढ़ सकती है।"
गंभीर ने 2024 टी20 विश्व कप के लिए स्पष्ट योजना बनाने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया और अभी उन्हें राहुल और कोहली को उन योजनाओं में फ़िट होते देखना मुश्किल लग रहा है।
गंभीर ने कहा, "निजी तौर पर अगर आप मुझसे पूछें तो यह मुश्किल लगता है। सूर्यकुमार यादव, इशान किशन जैसे खिलाड़ियों को इसमें होना चाहिए। हार्दिक पांड्या हैं ही, मैं पृथ्वी शॉ, राहुल त्रिपाठी और संजू सैमसन जैसे खिलाड़ियों को इसमें लाने की कोशिश करना चाहता हूं। वे निडर क्रिकेट खेल सकते हैं।"
उन्होंने आगे कहा, "हमने पिछले [टी20] विश्व कप में चल रहे टेम्पलेट और कार्यक्रम के बारे में काफ़ी कुछ कहा कि हम एक ख़ास टेम्पलेट पर खेलना चाहते हैं, हम आक्रामक क्रिकेट खेलना चाहते हैं, लेकिन जब एक मुश्किल मैच [इंग्लैंड के ख़िलाफ़ सेमीफ़ाइनल] की बात आई, तो वह सारा टेम्पलेट गायब दिखा।
"मुमकिन है कि क्रिकेटरों की यह नई पीढ़ी उस टेम्पलेट को सफल बनाने में दक्ष हो सकती है और टी 20 क्रिकेट खेल सकती है जो हर कोई चाहता है कि भारत खेले। लिहाज़ा मुझे लगता है, अगर ये खिलाड़ी मिले मौक़ों में अच्छा प्रदर्शन करना जारी रखते हैं, तो जिन्हें आराम दिया गया है या शायद बाहर कर दिया गया है ऐसे खिलाड़ियों के लिए मुश्किल होगी।"
गंभीर: पंत को सिर्फ़ टेस्ट क्रिकेट पर ध्यान देना चाहिए
ऋषभ पंत को लेकर भी कुछ सवाल हैं, जिन्हें श्रीलंका के ख़िलाफ़ टी20 और वनडे दोनों के लिए नहीं चुना गया है। उनकी अनुपस्थिति का कोई कारण नहीं बताया गया है, हालांकि ऐसा माना जा रहा है कि उन्हें ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ चार टेस्ट मैचों की सीरीज़ की तैयारी के लिए राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में कुछ समय चाहिए।
पिछले टी20 विश्व कप को ध्यान में रखकर भारत की अधिकांश बिल्डअप के लिए टीम मैनेजमेंट ने दिनेश कार्तिक को पहली पसंद के विकेटकीपर के रूप में वरीयता दी थी। पंत ने उस टूर्नामेंट में सेमीफ़ाइनल सहित सिर्फ़ दो मैच खेले, जिसमें उन्होंने तीन और छह रन बनाए।
यह सैंपल साइज़ छोटा है, लेकिन सैंपल साइज़ बढ़ाने पर भी पंत के आंकड़े बेहतर नहीं होते। 2021 के बाद से उन्होंने टी20 अंतर्राष्ट्रीय में 31 पारियों में 24.04 की औसत और 129.95 के स्ट्राइक रेट से 577 रन बनाए हैं, जिसमें एक अर्धशतक है। इसे देखते हुए गंभीर का मानना ​​है कि पंत के लिए बेहतर यही होगा कि वह बस अपने टेस्ट मैच कौशल पर ध्यान दें।
गंभीर ने कहा, "सबसे पहले चयनकर्ताओं को स्पष्ट करना चाहिए कि उन्हें आराम दिया गया है या बाहर किया गया है। मेरे अनुसार, उसे ज़रूर सफ़ेद गेंद क्रिकेट से ड्रॉप कर दिया गया होगा। कभी भी पर्याप्त स्पष्टता नहीं रही है। 'विश्राम' नामक यह शब्द बहुत अच्छा है; यह तब नहीं था जब हम खेल रहे थे। या तो हमें ड्रॉप कर दिया जाता था या चुना जाता था।"
उन्होंने आगे कहा, "ऋषभ को सफ़ेद गेंद के क्रिकेट में मौक़े मिले थे और वह इसे लपक नहीं पाए और इशान किशन जैसा कोई और इसे लपकने में सफल रहा है।। लिहाज़ा शायद अब उन्हें सिर्फ़ लाल गेंद वाले क्रिकेट पर ध्यान देना चाहिए और जब भी उन्हें मौक़ा मिलता है तो कोशिश करें और उसे लपक लें।
"अगर इशान उसी तरह से खेलना जारी रखते हैं जिस तरह से वह खेल रहे हैं, तो मुझे नहीं लगता कि निकट भविष्य में ऐसा होने वाला है, क्योंकि हम उस टेम्पलेट के बारे में बात करते रहते हैं, पृथ्वी शॉ, इशान किशन, सूर्यकुमार यादव जैसे खिलाड़ी उस टेम्पलेट में स्वभाविक रूप से खेलते हैं।"

शशांक किशोर ESPNcricinfo में सीनियर सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के एडिटोरियल फ़्रीलांसर कुणाल किशोर ने किया है।