मैच (19)
आईपीएल (3)
T20I Tri-Series (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
Charlotte Edwards (4)
ENG v PAK (W) (1)
फ़ीचर्स

युवा भारतीय और श्रीलंकाई खिलाड़ियों के बीच का फ़र्क हैं इशान किशन

इशान ने 56 गेंदों पर खेली 89 रन की पारी जबकि श्रीलंकाई युवा बल्लेबाज़ इनके विपरीत नज़र आए

इशान किशन ने अपनी पारी की अभी सात गेंद ही खेली थी और उन्हें ऑफ़ स्टंप के बाहर एक फ़ुलटॉस मिली। पलक झपकते ही इशान ने उस गेंद को कवर बाउंड्री के पार पहुंचा दिया था। चमिका करुणारत्ने की अगली गेंद धीमी और लंबाई में थोड़ी छोटी थी, और नतीजा ठीक वही बल्कि इस बार तो गोली की रफ़्तार से गेंद सीमा रेखा के पार।
अगर आप 1990 का दशक याद करें जब भारत और श्रीलंका के बीच जब भी भिड़ंत होती थी तो सनथ जयासूर्या का बल्ला आग उगलता था। भारतीय फ़ैन्स तो यहां तक कहने लगे थे कि जयासूर्या के बल्ले में लगता है स्प्रिंग लगी हुई है, वरना वह इतनी आसानी से जवागल श्रीनाथ या and वेंकटेश प्रसाद की गेंदों को कैसे सीमा रेखा के पार पहुंचा देते हैं।
इशान भी जब अपनी लय में होते हैं तो उनकी बल्लेबाज़ी में भी कुछ वैसी ही झलक नज़र आती है।
हालांकि इशान किशन का टी20 अंतर्राष्ट्रीय करियर बहुत लंबा नहीं है, गुरुवार की रात वह अपना नौवां ही टी20आई खेल रहे थे। जबकि जयासूर्या को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी वह छाप छोड़ने के लिए क़रीब सात सालों का समय लगा था। दरअसल इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में ही इशान अपनी ताक़त दिखा चुके हैं, जहां उन्होंने 1452 रन बनाए हैं और हाल ही में हुई आईपीएल मेगा नीलामी 2022 में वह सबसे महंगे खिलाड़ी रहे थे।
आईपीएल में इशान ने 56 पारी खेली है और कुल टी20 में उनके नाम 108 पारियां हैं, और वह अब तक क़रीब-क़रीब हर परिस्तिथि और कई क्रमों पर बल्लेबाज़ी कर चुके हैं। गुरुवार की शाम भी कुछ अलग नहीं हुआ और इशान की 56 गेंदों पर 89 रन की पारी की बदौलत भारत ने 199-2 रन का स्कोर खड़ा कर दिया था।
श्रीलंका के पास भी . पथुम निसंका और चरिथ असलंका जैसे कुछ बेहतरीन प्रतिभाशाली बल्लेबाज़ हैं, लेकिन इस मैच में कोई भी इशान की बल्लेबाज़ी के आस पास भी नहीं दिखा।
हालांकि पूरी उम्मीद है कि जैसे जैसे ये दौरा आगे बढ़ेगा इन बल्लेबाज़ों के शॉट भी बेहतर होते नज़र आएंगे, जिस तरह से असलंका ने चौथे ओवर में जसप्रीत बुमराह की गेंद पर रैंप शॉट लगाया था वह उसी की एक झलक थी। 14वें ओवर में भी रवींद्र जाडेजा की तेज़ और फ़्लैट गेंद पर उन्होंने एक बेहतरीन रिवर्स स्वीप भी लगाया था।
आपने ये भी ध्यान दिया होगा कि भारतीय युवा खिलाड़ी कुछ नया नहीं कर रहे थे बल्कि वह वही कर रहे थे जो पहले भी करते आए हैं। जिस तरह से उन्होंने पहले भी इन्हीं परिस्तिथियों में शानदार प्रदर्शन किया था, वह उसी को याद करते हुए दोहराने की कोशिश में थे। जबकि श्रीलंका के युवा खिलाड़ी ऐसा लग रहा था मानो कुछ अलग और बड़ा करने के प्रयास में थे। और यही इन दोनों ही टीमों के बीच का बड़ा फ़र्क नज़र आया।
कभी कभी तो वह कुछ अलग कर पा रहे थे, लेकिन ज़्यादातर वह इस प्रयास को पुख़्ता तौर पर सफल नहीं कर पाए। यहां तक कि असलंका जो पिछले कुछ समय से श्रीलंका के सर्वश्रेष्ठ टी20 बल्लेबाज़ के रूप में स्थापित हुए हैं, उन्हें भी इस मैच में दो बार जीवनदान मिला, जिसके बाद वह अर्धशतक तक पहुंच पाए।
इस दौरे पर श्रीलंका को अभी दो और टी20आई खेलने हैं और फिर दो टेस्ट मैचों की सीरीज़ भी खेली जानी है, हालांकि इन दोनों ही फ़ॉर्मैट में हाल के दिनों में ये टीम कुछ बहुत अच्छा नहीं कर पाई है। अगर उन्हें इस दौरे पर एक अलग छाप छोड़नी है तो फिर उन्हें कुछ ऐसा प्रदर्शन करना होगा जिससे भारत जैसी टीम को चुनौती मिल सके।
दूसरी तरफ़ भारत अपने घर में इशान किशन जैसा ही आक्रामक क्रिकेट खेलने के लिए तैयार है, और जहां वह अच्छा भी करते आ रहे हैं।

ऐंड्रयू फ‍़िडेल फ़र्नांडो (@afidelf) ESPNcricinfo के श्रीलंकाई संवाददाता हैं, अनुवाद ESPNCricinfo हिंदी के मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट सैयद हुसैन ने किया है।