मैच (17)
IPL (3)
Pakistan vs New Zealand (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (2)
PAK v WI [W] (1)
फ़ीचर्स

आंकड़े झूठ नहीं बोलते : घरेलू सीरीज़ के निर्णायक मैचों में अजेय है भारत का रिकॉर्ड

भारतीय गेंदबाज़ों को ढूंढ़ना होगा श्रीलंकाई कप्तान का तोड़

भारत और श्रीलंका के बीच चल रही टी20 श्रृंखला रोमांचक दौर में पहुंच गई है। 1-1 से बराबरी पर चल रही सीरीज़ का फ़ैसला राजकोट में होने वाले तीसरे मैच के परिणाम से होगा। आंकड़ों की नज़र से आइए देखते हैं कि इस मैच को कौन-कौन से खिलाड़ी प्रभावित कर सकते हैं, क्योंकि 'आंकड़े झूठ नहीं बोलते।'

क्या भारत के प्रमुख बल्लेबाज़ के सामने चल पाएगी श्रीलंका के प्रमुख गेंदबाज़ की फिरकी?



यूं तो वनिंदु हसरंगा श्रीलंकाई टीम के प्रमुख गेंदबाज़ हैं, लेकिन भारतीय बल्लेबाज़ों के सामने उनकी फ़िरकी कुछ ख़ास नहीं चलती है। इसको हम इस सीरीज़ के आंकड़े से ही देख सकते हैं, जहां उनके नाम दो पारियों में सिर्फ़ दो विकेट हैं जबकि उन्होंने नौ की इकॉनमी से रन दिए हैं। सीरीज़ के दूसरे मैच में तो उन्होंने तीन ओवर में ही 41 रन दे दिए और श्रीलंकाई कप्तान ने उनसे चौथा ओवर कराना उचित नहीं समझा। भारत के सबसे प्रमुख बल्लेबाज़ सूर्यकुमार यादव उनके ख़िलाफ़ 51 की औसत और 176 के स्ट्राइक रेट से रन बनाते हैं, वहीं दीपक हुड्डा का भी स्ट्राइक रेट उनके ख़िलाफ़ 148 का है।



भारतीय कप्तान को नहीं भाती है श्रीलंकाई कप्तान की गेंदबाज़ी



श्रीलंका के कप्तान दसून शानका ने भले ही दूसरे टी20 में अपने बल्ले से मैच जिताया हो, लेकिन वह गेंदबाज़ी से भी कमाल करने की क्षमता रखते हैं। एक ही ओवर में दो विकेट चटकाकर उन्होंने इसकी झलक दिखलाई थी। टी20 मैचों में भारतीय कप्तान हार्दिक पंड्या उनके प्रमुख शिकार हैं और उन्होंने हार्दिक को तीन पारियों में तीनों बार आउट किया है। इस दौरान हार्दिक उन पर 12 गेंदों में सिर्फ़ 13 रन ही बना सके हैं।

क्या भारतीय गेंदबाज़ों के पास शानका का कोई है तोड़?



अब तक हुए दोनों टी20 मैच में दोनों टीमों के बीच शानका ही प्रमुख अंतर बनकर उभरे हैं और मौजूदा भारतीय गेंदबाज़ी क्रम के पास उनका कोई तोड़ नहीं दिखता है। उन्हें भारत के प्रमुख स्पिनर युज़वेंद्र चहल ने दो बार आउट किया है, लेकिन इसके लिए उन्होंने 11 पारियां ली हैं। इसके अलावा सिर्फ़ एक बार उन्हें उमरान मलिक ने पवेलियन भेजा है, बाक़ी गेंदबाज़ों के नाम नील बटा सन्नाटा है। इस दौरान शानका ने हर्षल पटेल के ख़िलाफ़ 258, उमरान के ख़िलाफ़ 207, हार्दिक के ख़िलाफ़ 147, शिवम मावी के ख़िलाफ़ 209, अर्शदीप सिंह के ख़िलाफ़ 191 और अक्षर पटेल के ख़िलाफ़ 200 के तेज़-तर्रार स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं।

सीरीज़ के निर्णायक मैच में भारत का बेहतरीन रिकॉर्ड



इन सबके बीच भारत के लिए बस राहत की बात यह है कि उनका टी20 सीरीज़ के निर्णायक मैचों में रिकॉर्ड बेहतरीन रहा है। तीन या तीन से अधिक मैचों की सीरीज़ के अंतिम व निर्णायक 10 मैचों में भारतीय टीम ने आठ में जीत हासिल की है, जबकि सिर्फ़ दो में उन्हें हार का सामना करना पड़ा है। घर पर यह रिकॉर्ड और बेहतर होकर शत प्रतिशत हो जाता है।

भारत, श्रीलंका के ख़िलाफ़ एक भी घरेलू टी20 सीरीज़ नहीं हारा है। पिछले 11 घरेलू टी20 सीरीज़ में भारत के नाम जीत दर्ज है, जो कि विश्व रिकॉर्ड है। भारत इस रिकॉर्ड को राजकोट में और बेहतर करना चाहेगा।

दया सागर ESPNcricinfo हिंदी में सब एडिटर हैं @dayasagar95