मैच (19)
आईपीएल (3)
T20I Tri-Series (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
Charlotte Edwards (4)
ENG v PAK (W) (1)
ख़बरें

रेटिंग्‍स : सूर्यकुमार रहे भारत की इस जीत के हीरो

कोहली का अर्धशतक, जाडेजा और चहल की गेंदबाज़ी ने भी उनको दिलाए अहम अंक

अगर सूर्यकुमार यादव की नाबाद 68 रनों की पारी को अगर दरकिनार कर दिया जाए तो हॉन्‍ग कॉन्‍ग के बाबर हयात समेत अन्‍य बल्‍लेबाज़ तो कुछ अलग ही करने उतरे थे। सूर्यकुमार और विराट कोहली के अर्धशतकों की वजह से भारत 192 रनों तक पहुंचने में कामयाब हुआ लेकिन बाबर हयात के 41 और किंचित शाह की 30 रन की पारी के बावजूद लक्ष्‍य से 40 रन दूर रह गई।
क्या सही और क्या ग़लत?
भारत के लिए सबसे अच्छी चीज़ की विराट कोहली ने अर्धशतक लगाया और बढ़िया लय में नज़र आ रहे थे। साथ ही सूर्यकुमार यादव का लगातार फ़ॉर्म में बने रहना भी भारत के लिए आने वाले टी20 विश्‍व कप में फ़ाायदेमंद हो सकता है।
हालांकि एक बार के लिए ऐसा भी प्रतीत हुआ कि रोहित शर्मा, केएल राहुल और विराट कोहली तेज़ी से रन बनाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। रोहित ज़रूर अपनी पारी को ज़ल्‍दी चौथे गियर में डाल लेते हैं, लेकिन केएल राहुल और विराट ऐसे नहीं हैं। रोहित का विकेट गिरने के बाद राहुल और कोहली बीच हुई 56 रनों की साझेदारी हुई लेकिन उस समय भारत तेज़ी से रन बनाने में कामयाब नहीं हो पाया। वहीं आवेश ख़ान की गेंदबाज़ी इस टूर्नामेंट में अब तक सवालों के घेरे में ही रही है।
प्लेयर रेटिंग्स (1 से 10, 10 सर्वाधिक)
केएल राहुल, 4 : 39 गेंद में 36 रन, वह भी ऐसी टीम के ख़‍िलाफ़ जो एशिया कप में क्‍वालीफ़ाई करके आई है। उनकी इस पारी को समझ पाना बहुत ही मुश्किल है। उन्‍होंने अपनी पारी में केवल दो छक्‍के लगाए, यह जब भी लगे तो लगा राहुल अब लय में आ जाएंगे और बड़ा स्‍कोर करेंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ।
रोहित शर्मा, 5 : रोहित ने टीम के बारे में जैसी संभावना के बारे में बात की थी, वह इसमें सबसे पहले आगे निकलकर आए। 13 गेंद में 21 रन, दो चौके और एक छक्‍का साफ़ दर्शा रहा था कि वह किस तरह से बल्लबाज़ी करना चाह रहे हैं। राहुल दूसरी ओर जूझ रहे थे लेकिन रोहित ने अपना मन बना लिया था। हालांकि एक धीमी गति की गुड लेंथ कटर गेंद पर वह चकमा खाकर अपना विकेट गंवा गए। कप्‍तानी करते हुए रवींद्र जाडेजा के चार ओवर लगातार निकाल देना भी उनकी चतुराई भरी कप्‍तानी का हिस्‍सा रहा।
विराट कोहली, 7 : कोहली आज बेहद ही संभलकर अपनी पारी को बनाने उतरे थे। पिछले मैच में जो वह शॉट लगाना चाहते थे उसमें चूक रहे थे, लेकिन आज उनके एक दो शॉट को छोड़कर सबकुछ सही जा रहा था। इससे पहले कि राहुल के आउट होने के बाद कोहली आक्रमण की कमान संभालते सूर्यकुमार की आंधी क्रीज़ पर आ गई थी और उन्‍होंने साइड रोल निभाना शुरू कर दिया। इस साझेदारी में उन्‍हें बेहद कम गेंद मिली लेकिन 44 गेंद में 59 रनों की पारी ने उनका हौसला ज़रूर बढ़ाया होगा।
सूर्यकुमार यादव, 9 : सूर्यकुमार यादव जब अच्‍छे प्रदर्शन के बाद भी टीम में नहीं चुने गए थे, तो आईपीएल में उसी दिन मुंबई इंडियंस का सामना रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु से था। वह मैच सूर्यकुमार ने अपने दम पर जीता दिया था। आज उनके सामने विरोधी टीम (नॉन स्‍ट्राइकर एंड) और भारतीय टीम के पूर्व कप्‍तान विराट कोहली थे। उन्‍होंने दिखाया कि टी20 में शॉट किस तरह से खेले जाते हैं। कैसे बाउंड्री लगाने के मौके़ बनाए जाते हैं। 26 गेंद में 68 रनों की नाबाद पारी उनकी काबिलियत बताने के लिए काफ़ी है।
ऋषभ पंत, कोई रेटिंग नहीं। : हार्दिक पंड्या को आराम देते हुए पंत को टीम में शामिल किया गया था, लेकिन ना तो उनकी बल्‍लेबाज़ी आई और ना ही उन्‍होंने कीपिंग में कोई कमाल किया।
दिनेश कार्तिक, कोई रेटिंग नहीं : फ़‍िनिशर का रोल निभाने वाले कार्तिक भी अपनी बल्‍लेबाज़ी का इंतज़ार ही करते दिखे। उनके लिए भी यह मैच शून्‍य योगदान वाला रहा।
रवींद्र जाडेजा, 8 : पिछले मैच की तरह जाडेजा चौथे नंबर पर तो नहीं आए लेकिन ज‍ब उनकी गेंदबाज़ी आई तो उन्‍होंने अपनी क़ीमत साबित करके दिखाई। पावरप्‍ले ख़त्‍म होने की कगार पर था, लेकिन जाडेजा ने बैकवर्ड प्‍वाइंट पर अपनी चपलता दिखाते हुए निज़ाकत ख़ान को रन आउट कर दिया। यह पावरप्‍ले की आख़‍िरी गेंद थी। इसके बाद जब जाडेजा गेंदबाज़ी करने आए तो उन्‍होंने पिच को भांपते हुए धीमी गति की गेंद, आर्म बॉल डाली और चार ओवर में 15 रन देकर बाबर हयात का एक अहम विकेट भी लिया।
भुवनेश्‍वर कुमार, 7 : भुवनेश्‍वर शायद ही कभी अपने काम से चूकते हैं, लेकिन इस बार उन्‍हें पहला विकेट पावरप्‍ले में नहीं मिला। किंचित शाह का एक मात्र विकेट उनके नाम लगा लेकिन तीन ओवर में 15 रन देकर एक विकेट उनका योगदान बताते हैं। किंचित उस समय आउट हुए जब हॉन्‍ग कॉन्‍ग तेज़ी से रन बनाने की ओर देख रहा था।
युज़वेंद्र चहल, 7 : चहल को विकेट तो नहीं मिल सका, लेकिन हॉन्‍ग कॉन्‍ग के लिए यह ऐसे गेंदबाज़ थे, जिसको उन्‍हें संभलकर खेलना था। विरोधी टीम के बल्‍लेबाज़ों ने भी यही किया। चार ओवर में 18 रन लेकिन कोई विकेट लिया। यह दिखाता है कि वह कितनी सटीक लाइन और लेंथ पर गेंदबाज़ी कर रहे थे।
आवेश ख़ान, 6 : आवेश ख़ान को एशिया कप टीम में शामिल किया गया, लेकिन उस पर भी सवाल थे। एक हॉन्‍ग कॉन्‍ग जैसी कमजोर टीम के आगे भी उन्‍होंने चार ओवर में 53 रन लुटा दिए। यह कहीं से भी ज़ायज़ नहीं ठहराया जा सकता है, लेकिन उनके एक बोल्‍ड ने उनको एक अंक ज़रूर दिलाया है।
अर्शदीप सिंह, 7 : अर्शदीप भी इस मैच में ख़ास नहीं कर सके। दो नो बॉल उनके ख़राब प्रदर्शन को दर्शाता भी है। पावरप्‍ले में उन्‍होंने पहला विकेट ज़रूर दिलाया लेकिन उनके आंकडे (1/44) भी चौंकाने वाले रहे।

निखिल शर्मा ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर हैं। @nikss26