मैच (14)
IND v ENG (1)
PSL 2024 (2)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
विश्व कप लीग 2 (1)
Marsh Cup (1)
NZ v AUS (1)
CWC Play-off (3)
WPL (1)
फ़ीचर्स

आंकड़े झूठ नहीं बोलते : वानखेड़े के चैंपियन हैं ब्रावो, क्या पंजाब के पास है धोनी का जवाब?

जाडेजा के दो से अधिक विकेट हैं चेन्नई की जीत का मंत्र

ड्वेन ब्रावो ने इस सीज़न में चेन्नई के लिए सबसे अधिक विकेट लिए हैं  •  BCCI

ड्वेन ब्रावो ने इस सीज़न में चेन्नई के लिए सबसे अधिक विकेट लिए हैं  •  BCCI

सोमवार को चेन्नई सुपर किंग्स और पंजाब किंग्स के बीच आईपीएल के इस सीज़न का 38वां मुक़ाबला खेला जाएगा। इस वक़्त दोनों ही 'किंग्स' अंक तालिका में अच्छी स्थिति में नहीं हैं। ऐसे में वानखेड़े पर होने वाली इस भिड़ंत से पहले आंकड़ों पर एक नज़र डाल लेते हैं क्योंकि आंकड़े कभी झूठ नहीं बोलते।
जाडेजा के दो विकेटों में छिपी है सीएसके की जीत की कुंजी
चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान और टीम के ऑलराउंडर खिलाड़ी रवींद्र जाडेजा की गेंदबाज़ी का ट्रैक रिकॉर्ड कहता है कि अगर वह किसी भी मुक़ाबले में दो से अधिक विकेट ले लेते हैं तो उनकी टीम की जीत की संभावना बढ़ जाती है।
हालांकि जीत की एक ऐसी ही चाभी पंजाब किंग्स के पास भी है। पंजाब किंग्स के सलामी बल्लेबाज़ शिखर धवन का अर्धशतक मानों उनकी टीम को जीत की दहलीज़ पर ही पहुंचा देता है। धवन ने आईपीएल 2019 से लेकर अब तक कुल 15 बार अर्धशतक जड़े हैं, जिनमें 12 मुक़ाबलों में उनकी टीम को जीत मिली है।
गब्बर निकाल देते हैं जाडेजा की गेंदों का गुब्बार
जब इन दोनों के बीच टक्कर की बारी आती है, तब गब्बर जाडेजा की गेंदों का गुब्बार निकाल देते हैं। टी20 में धवन ने जाडेजा की 76 गेंदों का सामना करते हुए 150 के स्ट्राइक रेट से 114 रन बनाए हैं। कुल 11 पारियों में जाडेजा सिर्फ़ एक बार ही धवन को आउट कर पाए हैं। हालांकि धवन और ब्रावो के बीच कांटे का मुक़ाबला देखने को मिल सकता है। धवन ने 73 गेंदों पर 153 के स्ट्राइक रेट से 152 रन बनाए हैं, लेकिन ब्रावो ने 11 पारियों में से तीन बार धवन को पवेलियन की राह पकड़ने पर मजबूर भी किया है।
वानखेड़े के चैंपियन हैं ब्रावो
ड्वेन ब्रावो इस सीज़न चेन्नई सुपर किंग्स के सबसे ज़्यादा 12 विकेट लेने वाले गेंदबाज़ हैं। पिछले कुछ सीज़न के मुक़ाबले ब्रावो के लिए यह सीज़न काफ़ी अच्छा रहा है। आईपीएल के आंकड़े कहते हैं कि ब्रावो ने वानखेड़े पर खेले कुल 17 आईपीएल मुक़ाबलों में 15 के बेहतरीन स्ट्राइक रेट से कुल 24 बार बल्लेबाज़ों को अपना शिकार बनाया है।
सैंटनर और प्रिटोरियस इन दो बल्लेबाज़ों के लिए चुनौती
हालांकि कहानी यही समाप्त नहीं होती है। अगर ब्रावो वानखेड़े के आंकड़े ने ब्रावो का साथ न भी दिया तब भी पंजाब किंग्स की बल्लेबाज़ी की अहम कड़ी लियम लिविंगस्टन और जॉनी बेयरस्टो के लिए टी20 में क्रमशः ड्वेन प्रिटोरियस और मिचेल सैंटनर का सामना करना चुनौतीपूर्ण रहा है। लिविंगस्टन ने टी20 में प्रिटोरियस के ख़िलाफ़ कुल चार मुुक़ाबलों की 15 गेंदों पर केवल 13 रन ही बना पाए हैं, जबकि दो बार उन्हें पवेलियन लौटने पर मजबूर होना पड़ा है।
बेयरस्टो का तो सैंटनर के ख़िलाफ़ रिकॉर्ड और भी निराशाजनक रहा है। दोनों का टी20 में कुल चार बार आमना-सामना हुआ है, जिसमें वह तीन बार सैंटनर की गेंद का शिकार बन चुके हैं। इस दौरान उन्होंने सैंटनर की 13 गेंदों पर 17 रन बनाए हैं।
पंजाब के ख़िलाफ़ धोनी का रिकॉर्ड है लाजवाब
चेन्नई सुपर किंग्स के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के लिए यह सीज़न पिछले कुछ सीज़न के मुक़ाबले अच्छा रहा है। पिछले मैच में मुंबई के मुंह से जीत छीन लेने वाले धोनी का पंजाब के ख़िलाफ़ लाजवाब रिकॉर्ड रहा है। पंजाब के ख़िलाफ़ धोनी ने 23 पारियों में 148 के स्ट्राइक रेट और 52.5 के औसत से 630 रन बनाए हैं। सनराइज़र्स हैदराबाद के ख़िलाफ़ धोनी का सबसे अधिक बैटिंग औसत (53.3) रहा है। इसके बाद उनका सबसे बेहतरीन औसत पंजाब के ख़िलाफ़ ही रहा है।
वहीं पंजाब की टीम धोनी के लिए दूसरी सबसे पसंदीदा टीम की तरह है, तो कुछ यही हाल राहुल चाहर के साथ भी है। कोलकाता नाइट राइडर्स के विरुद्ध अपने आईपीएल करियर में सबसे अधिक 11 विकेट लेने के बाद राहुल चाहर ने सबसे अधिक नौ विकेट चेन्नई के ख़िलाफ़ ही लिए हैं। इतना ही नहीं इन नौ विकेटों में तीन बार तो चाहर धोनी को ही आउट कर चुके हैं। चाहर की 30 गेंदों पर धोनी ने 57 के स्ट्राइक रेट से 17 रन बनाए हैं। कगिसो रबाडा के विरुद्ध भी धोनी का स्ट्राइक रेट 100 से नीचे का रहा है। धोनी ने टी20 की कुल सात पारियों में रबाडा की 21 गेंदों का सामना किया है, जिसमें उन्होंने महज़ 48 के स्ट्राइक रेट से 10 रन ही बनाए हैं। रबाडा एक बार धोनी को आउट भी कर चुके हैं।

नवनीत झा (@imnot_nav) ESPNcricinfo हिंदी में एडिटोरियल फ़्रीलांसर हैं।