मैच (18)
WI vs SA (1)
ENG v PAK (W) (1)
USA vs BAN (1)
CE Cup (3)
T20I Tri-Series (2)
आईपीएल (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ख़बरें

शॉन टेट पाकिस्तान के गेंदबाज़ों को उनकी प्रतिभा याद दिलाना चाहते हैं

पाकिस्तान के गेंदबाज़ी कोच का कहना है कि प्रतिभाशाली युवाओं के साथ काम करना उनके लिए आदर्श है

Shaun Tait keeps an eye on a training session, Abu Dhabi, November 3, 2021

शॉन टेट का कहना है कि मेरा काम होगा पाकिस्तानी गेंदबाज़ों को याद दिलाना कि उनमें कितनी प्रतिभा है  •  ICC via Getty

पाकिस्तान के गेंदबाज़ी कोच शॉन टेट का कहना है कि उनका काम है अपने गेंदबाज़ों में तीव्रता और आक्रामकता लौटाना और उन्हें अपनी प्रतिभा के बारे में याद दिलाना है। टेट का कहना है कि उनके लिए यह पद उन जैसे व्यक्ति के लिए "आदर्श" है।
ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध लाहौर में निर्णायक तीसरे टेस्ट से पूर्व टेट ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस को संबोधित करते हुए कहा, "पाकिस्तान की कई ख़ूबियों में शायद सबसे बड़ी है कि यहां अच्छे तेज़ गेंदबाज़ उभरते हैं। किसी गेंदबाज़ी कोच के लिए यह आदर्श है, क्योंकि आपको प्रतिभाशाली युवाओं के साथ काम करने को मिलता है। इनमें अनुभव भी है लेकिन इनकी उम्र काफ़ी कम है। पिछले एक सप्ताह में इन्हें क़रीब से देखना और समझना ही मेरे लिए काफ़ी मज़ेदार रहा है और उम्मीद है मैं इनकी मदद कर सकता हूं।"
"मुझे कोई विशिष्ट काम नहीं बताया गया है लेकिन जब आप [बल्लेबाज़ी कोच] मैथ्यू हेडन की आक्रामकता की बात करते हैं तो मेरे लिए भी क्रिकेट की शैली ठीक वैसी ही है। तीव्रता और आक्रामकता तेज़ गेंदबाज़ी का अभिन्न अंग है और मैं इन लड़कों को यही सिखा सकता हूं।"
टेट ने क्रिकेट से 2017 में संन्यास लेने के बाद कुछ देर अफ़ग़ानिस्तान टीम के साथ काम किया था। उसके बाद पाकिस्तान के साथ उनका एक साल का अनुबंध हाल ही में शुरू हुआ था। वैसे तो उन्हें ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ टेस्ट सीरीज़ में टीम के साथ शुरू से ही रहना था लेकिन पारिवारिक कारणों से उन्होंने टीम को कराची में ही ज्वॉइन किया।
टीम के तेज़ गेंदबाज़ों पर उन्होंने कहा, "इनमें कोई कमज़ोरी नहीं है, और इस बात की चर्चा यहां ही नहीं ऑस्ट्रेलिया में भी होती है कि पाकिस्तान के पास कितने अच्छे तेज़ गेंदबाज़ हैं।"
"यहां मेरा काम होगा इन्हें याद दिलाना कि इनमें कितनी प्रतिभा है। कई खिलाड़ी तो कुछ सालों से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में है तो कुछ अपनी शुरुआत कर रहे हैं। यदि एक साल में इनसे अच्छे परिणाम आपको देखने को मिलें तो शायद मैं समझूंगा मैंने इन्हें याद दिलाया है कि यह कितने प्रभावशाली हैं।"
ऑस्ट्रेलिया दौरे के बाद पाकिस्तान श्रीलंका का दौरा करेगा, जिसके बाद एशिया कप आयोजित होगा और फिर ऑस्ट्रेलिया में टी20 विश्व कप। बाद में इंग्लैंड और न्यूज़ीलैंड से भिड़ना भी बाक़ी है साल के अंत तक। टेट ने कहा, "इतना व्यस्त अंतर्राष्ट्रीय सत्र शायद ही पहले कभी एक साल में हुआ है। तीनों प्रारूप में काफ़ी सारा क्रिकेट खेला जाएगा और यह टीम के साथ जुड़ने का उचित समय है। मैंने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के तीनों प्रारूप खेलें हैं और मैं इनका दबाव समझ सकता हूं। मेरा काम होगा खिलाड़ियों को इस दबाव से दूर रखने का।"
कराची टेस्ट में पाकिस्तान के गेंदबाज़ों की आलोचना पर उन्होंने कहा, "गेंदबाज़ी में कोई ख़राबी नहीं थी। नतीजों से साफ़ है कि इन विकेटों पर तेज़ गेंदबाज़ों के लिए काफ़ी मुश्किलें हैं। टेस्ट क्रिकेट में ऐसा हो सकता है और हम अभी नहीं कह सकते अगले मैच में परिस्थितियां कैसी होंगी।"

उमर फारूख Espncricinfo के पाकिस्तानी संवाददाता हैं। अनुवाद Espncricinfo हिंदी में सीनियर सहायक एडिटर और स्थानीय भाषा लीड देबायन सेन ने किया है।