मैच (19)
IPL (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (6)
Women's QUAD (2)
फ़ीचर्स

रेचल हेंस : 'डब्ल्यूपीएल भारतीय क्रिकेट को समृद्ध बनाएगा'

गुजरात जायंट्स की प्रमुख कोच ने नीलामी की तैयारी और रणनीति पर अपने विचार साझा किए

3 फ़रवरी 2023 को रेचल हेंस को विमेंस प्रीमियर लीग (डब्ल्यूपीएल) के पहले सीज़न के लिए गुजरात जायंट्स का प्रमुख कोच नियुक्त किया गया। 13 फ़रवरी 2023 को डब्ल्यूपीएल की पहली नीलामी हुई।
ऐसे में पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान हेंस के पास पहले सीज़न के लिए 18 सदस्यीय दल गठित करने के लिए केवल 10 दिन थे। जहां एक तरफ़ आईपीएल टीमें साल भर खिलाड़ियों की प्रगति पर नज़र रखती हैं और सुदृढ़ तैयारी करती हैं, हेंस, गुजरात टीम की मेंटॉर और सलाहकार मिताली राज और गेंदबाज़ी कोच नूशीन अल ख़दीर के सामने इतने कम समय में एक पूरी टीम एकत्रित करने की चुनौती थी। हेंस के लिए यह चुनौती और भी कठिन थी क्योंकि वह पहली बार किसी पेशेवर टीम की प्रमुख कोच बनी हैं।
यह कार्य अपने साथ बहुत सारा दबाव लेकर आया होगा लेकिन उस खिलाड़ी पर कैसा दबाव जो छह विश्व ख़िताब और राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक अपने नाम कर चुकी हैं? शायद इसी वजह से कई वर्षों तक उनके विरुद्ध खेलने वाली मिताली ने इस भूमिका के लिए हेंस का संपर्क किया।
हेंस ने ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो को बताया, "इतना कम समय होने के कारण हमें तुरंत सब कुछ शुरू करना पड़ा। हमें जल्द से जल्द एक दूसरे का संपर्क करना था ताकि हम सब एक समान विचारधारा पर हो और आगे बढ़ने के लिए आवश्यक फ़ैसले लिए जा सकें।"
उन्होंने आगे कहा, "स्थानीय खिलाड़ियों के लिए मैं मिताली और नूश (नूशीन) पर निर्भर थी। उनके पास भारत में खेल से जुड़ी जानकारी है और हमने उन स्थानीय खिलाड़ियों के बारे में बात की जो हमारे लिए महत्वपूर्ण स्थान भर सकती हैं। हमने इस सोच के साथ अपने दल का गठन किया कि टीम में कौन से स्थान भरे जाने है और कौन उन्हें भर सकता है।"
गुजरात ने स्थानीय और विदेशी खिलाड़ियों से भरपूर एक मज़बूत समूह का गठन किया। छह में से चार विदेशी खिलाड़ी ऑस्ट्रेलिया से हैं जबकि वेस्टइंडीज़ की डिएंड्रा डॉटिन और सोफ़िया डंकली भी टीम का हिस्सा हैं। इसके अलावा उन्होंने हरलीन देओल, स्नेह राणा, एस मेघना और सुषमा वर्मा को ख़रीदा।
नीलामी में गुजरात किसी एक खिलाड़ी पर न टिके रहने की रणनीति के साथ गई थी। ऐश्ली गार्डनर और बेथ मूनी के अलावा उन्होंने किसी अन्य खिलाड़ी पर बढ़-चढ़कर बोलियां नहीं लगाई।
इस पर हेंस ने कहा, "हम किसी एक खिलाड़ी से अधिक जुड़े हुए नहीं थे। जब आप किसी एक खिलाड़ी के लिए रुके हुए होते हैं और फिर वह आपको नहीं मिलती तो दिल टूट जाता है। हम इस सोच के साथ गए थे कि हमें अपनी टीम में आवश्यक भूमिकाएं पता हो। हमें यह पता था कि कौन ओपनिंग कर सकते हैं, कौन मध्य क्रम में खेलेगा और कौन से ऑलराउंडर टीम में होने चाहिए।"
हेंस ने आगे कहा, "यह स्पष्ट था कि हम ऐश गार्डनर को ख़रीदना चाहते थे और यह उनके लिए लगाई गई हमारी आक्रामक बोलियों में देखा जा सकता है।"
गुजरात जायंट्स में हेंस प्रत्यक्ष ज्ञान अपने साथ लेकर आती हैं। छह महीने पहले खेल से संन्यास लेने वाली 36 वर्षीय हेंस ने ऐनाबेल सदरलैंड, मूनी, गार्डनर और जॉर्जिया वेयरहम के साथ ऑस्ट्रेलियाई ड्रेसिंग रूम साझा किया है। नीलामी में पंजीकरण करने वाली कई खिलाड़ियों को उन्होंने क़रीब से देखा है।
खिलाड़ी से कोच बनने का हेंस का सफ़र स्वाभाविक है। उन्होंने पिछले साल एलीस विलानी और मेग लानिंग के साथ ऑस्ट्रेलिया की उच्चतम लेवल 3 कोचिंग मान्यता प्राप्त की। सितंबर 2022 में जब उन्होंने अपने 13 वर्षीय अंतर्राष्ट्रीय करियर को समाप्त किया, वह अपने पेशेवर जीवन के अगले अध्याय के लिए तैयार थी।
कोचिंग शुरू करने के लिए प्रेरणा देने का श्रेय हेंस ऑस्ट्रेलिया महिला टीम के पूर्व तथा इंग्लैंड वनडे और टी20 अंतर्राष्ट्रीय टीम के वर्तमान कोच मैथ्यू मॉट को देती हैं।
उन्होंने कहा, "मैथ्यू मॉट ने यह सुनिश्चित किया की खेलने के साथ-साथ हम वरिष्ठ खिलाड़ी अपनी कोचिंग मान्यता प्राप्त करें। यह (कोचिंग की भूमिका) एक चुनौती होगी। खिलाड़ी होने के बाद अब कोच बनकर अपने खिलाड़ियों के लिए एक सकारात्मक माहौल बनाने और सीखने का (मौक़ा होगा)।"
डब्ल्यूपीएल को महिला क्रिकेट की अगली बड़ी पेशकश माना जा रहा है। टूर्नामेंट शुरू होने से पहले ही सुर्ख़ियों में रहा है। वायकॉम18 ने इस साल जनवरी में 951 करोड़ रुपये की बोली लगाकर पांच वर्षों के लिए डब्ल्यूपीएल के प्रसारण अधिकार अपने नाम किए। इसके कुछ दिनों बाद बीसीसीआई ने 4669.99 करोड़ रुपये की कुल राशि में पांच फ़्रैंचाइज़ियां बेची।
इसके बाद नीलामी में कई खिलाड़ियों को मोटी रक़म मिली। स्मृति मांधना (रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु) 3 करोड़ 40 लाख रुपये में डब्ल्यूपीएल में बिकने वाली सबसे पहली और सबसे महंगी खिलाड़ी बनी। गार्डनर और नैटली सिवर-ब्रंट (मुंबई इंडियंस) संयुक्त रूप में सबसे महंगी विदेशी खिलाड़ी रहीं।
आर्थिक निवेश के अलावा हेंस को उम्मीद है कि यह टूर्नामेंट भारतीय खिलाड़ियों के लिए घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के बीच की कड़ी का काम करेगा। ठीक उसी तरह जैसे डब्लयूबीबीएल ऑस्ट्रेलिया और द हंड्रेड इंग्लैंड के लिए कर रहा है।
चकाचौंध से भरे इस टूर्नामेंट को लेकर सभी उत्साहित हैं। तो क्या हेंस के मन में संन्यास वापस लेकर इस प्रतियोगिता में खेलने का विचार आया था?
उन्होंने कहा, "मैं जातनी थी कि कब मुझे पीछे हटकर अगली चुनौती का अनुभव करना है। मुझे पता था कि मैंने अपना सब कुछ झोंक दिया था और मैं ख़ुश तथा संतुष्ट थीं। मैं ईर्ष्या में नहीं बैठी थी कि मुझे खेलना है या ऐसा कुछ भी। मैं रिटायरमेंट से ख़ुश हूं।"

आशीष पंत ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर अफ़्ज़ल जिवानी ने किया है।