मैच (8)
ऑस्ट्रेलिया बनाम वेस्टइंडीज़ (1)
पाकिस्तान बनाम इंग्लैंड (1)
भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया (1)
वेस्टइंडीज़ बनाम इंग्लैंड (1)
ऑस्ट्रेलिया बनाम साउथ अफ़्रीका (1)
बांग्लादेश ए बनाम इंडिया ए (1)
एलपीएल (1)
विश्व कप लीग 2 (1)
ख़बरें

रोहित : अभी हमारा ध्यान बल्लेबाज़ी से ज़्यादा गेंदबाज़ी पर है

भारतीय कप्तान ने चोट से वापसी के बाद संघर्ष कर रहे हर्षल का समर्थन किया

वैसे तो भारतीय टीम खेल के तीनों विभागों में बेहतर प्रदर्शन करना चाहती है लेकिन कप्तान रोहित शर्मा के अनुसार इस समय टीम का ज़्यादा ध्यान अपनी गेंदबाज़ी में सुधार करने पर है। हैदराबाद में खेले गए तीसरे और अंतिम टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच में ऑस्ट्रेलिया पर जीत दर्ज करने के बाद कप्तान ने कहा कि टीम ने इस सीरीज़ से बहुत कुछ सीखा और वह गेंदबाज़ी में एक या दो पहलुओं पर काम करना चाहते हैं।
मैच के बाद प्रेस कॉन्फ़्रेंस में रोहित ने कहा, "सच कहूं तो हम तीनों विभागों में और अच्छा करना चाहते हैं। एशिया कप से पिछले आठ-नौ मैचों में हमारी बल्लेबाज़ी बढ़िया रही है लेकिन हमें आक्रामक होकर खेलना होगा। हम फ़ील्डिंग में लगातार बेहतर होना चाहते हैं। गेंदबाज़ी में हम एक-दो चीज़ों पर नज़र जमाए हुए हैं जिनमें सुधार की आवश्यकता है। इस समय हमारा ध्यान बल्लेबाज़ी से ज़्यादा गेंदबाज़ी पर है।"
सीरीज़ के निर्णायक मुक़ाबले में भारत ने विराट कोहली और सूर्यकुमार यादव के अर्धशतकों की मदद से एक गेंद शेष रहते 187 रनों का लक्ष्य हासिल किया। रोहित विशेषकर सूर्यकुमार यादव की बल्लेबाज़ी से प्रसन्न हुए।
उन्होंने कहा, "हम सूर्या की प्रतिभा जानते हैं, वह मैदान के चारों तरफ़ शॉट लगा सकते हैं। हम मौक़े पर उन्होंने हमारे लिए महत्वपूर्ण पारियां खेली है। वह हर मैच के साथ बेहतर खिलाड़ी बनते जा रहे हैं। आज भी एक अद्भुत पारी थी। पावरप्ले में दो विकेट गंवाने के बाद इस तरह की पारी खेलने का अर्थ है सामने वाली टीम के हाथ से मैच को छीन लेना और उन्होंने ठीक वैसा ही किया।"
सूर्यकुमार के साथ-साथ रोहित ने अनुभवी कोहली के योगदान की सराहना की। उन्होंने कहा कि कोहली के रनों को भुलाया नहीं जाना चाहिए क्योंकि वह 100 रनों की साझेदारी अहम थी।
ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध खेली गई यह सीरीज़ कई मायनों में टीम इंडिया के लिए अहम थी। अगले महीने खेले जाने वाले विश्व कप से पहले यह खिलाड़ियों के लिए फ़ॉर्म प्राप्त करने का बढ़िया मौक़ा था। साथ ही चोट से वापसी कर रहे खिलाड़ियों के लिए अपनी मैच फ़िटनेस प्राप्त करने का अवसर था। एक खिलाड़ी जिसने लगभग दो महीने चोटिल रहने के बाद एकादश में वापसी की थी, वह थे हर्षल पटेल। डेथ ओवरों के विशेषज्ञ गेंदबाज़ हर्षल लय में कतई नहीं नज़र आए और उन्होंने आठ ओवरों में 99 रन ख़र्च करते हुए केवल एक शिकार किया।
रोहित ने अपने खिलाड़ी पर विश्वास जताते हुए कहा, "वह हमारे लिए एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी हैं। चोट से वापसी करना, ख़ासकर गेंदबाज़ों के लिए, आसान नहीं होता है। हमने इन तीन मैचों में किए उनके प्रदर्शन पर उनका आकलन नहीं किया है क्योंकि हमें उनकी प्रतिभा का अंदाज़ा है। हमें उनकी प्रतिभा पर पूरा भरोसा है और यह विश्वास दिखाना अहम है। वह अपनी गेंदबाज़ी पर तथा ग़लतियों को सुधारने पर काम कर रहे हैं।"
हर्षल के अलावा भुवनेश्वर कुमार के लिए भी हालिया मैच आसान नहीं रहे हैं। एशिया कप में वह पारी के अंतिम ओवरों में रन रोकने में नाकाम रहे थे। आलोचकों ने इतना तक कहना शुरू कर दिया था कि उनके ओवर शुरुआत में ही पूरे करवाए जाने चाहिए। रोहित को लगता है कि इस गेंदबाज़ों को थोड़ा समय दिया जाना चाहिए क्योंकि उनके पास अभी भी वह सारे गुण है।
भारतीय कप्तान ने कहा, "डेथ ओवरों में गेंदबाज़ी करना आसान नहीं है। लेकिन हम कुछ चीज़ों पर काम कर रहे हैं। ऐसा नहीं है कि वह सब कुछ भूल गए हैं। उनके पास वह सभी कौशल है। अभी हमें उन पर विश्वास जताना है और उनका समर्थन करना है। अगर वह विश्वास के साथ गेंदबाज़ी करेंगे तो सब कुछ सही हो जाएगा।"

अफ़्ज़ल जिवानी ESPNcricinfo हिंदी में सब एडिटर हैं | @jiwani_afzal