मैच (18)
सीपीएल (2)
भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया (1)
पाकिस्तान बनाम इंग्लैंड (1)
यूएई बनाम बांग्लादेश (1)
वेस्टइंडीज़ बनाम न्यूज़ीलैंड (महिला) (1)
रोड सेफ़्टी (2)
महिला विश्व कप क्वालिफ़ायर (4)
लेजेंड्स लीग (2)
इंडिया ए बनाम न्यूज़ीलैंड ए (1)
इंग्लैंड बनाम भारत (महिला) (1)
दलीप ट्रॉफ़ी (1)
काउंटी डिवीज़न एक (1)
फ़ीचर्स

रेटिंग्स : अक्षर, बिश्नोई और कुलदीप ने किया टॉप

श्रेयस रहे शानदार तो वहीं इशान ने किया निराश

Kuldeep Yadav celebrates snagging Nicholas Pooran, West Indies vs India, 5th T20I, Lauderhill, August 7, 2022

एकादश में वापसी करते हुए कुलदीप यादव ने तीन शिकार किए  •  AFP/Getty Images

वेस्टइंडीज़ के विरुद्ध टी20 सीरीज़ के पांचवें और अंतिम मुक़ाबले में दमदार जीत के साथ भारत ने कैरेबियन के दौरे का सुखद अंत किया। फ़्लोरिडा की पिच पर खेले गए लगातार दूसरे मैच में भारत ने मेज़बान टीम को ऑलआउट किया और 88 रन से मैच को अपने नाम किया। आइए नज़र डालते हैं कि सीरीज़ के आख़िरी मैच में भारतीय एकादश के खिलाड़ियों को 10 में से कितने अंक मिले हैं।
क्या रहा सही और क्या ग़लत ?
एक तरह से देखा जाए तो इस मैच में भारतीय टीम के लिए लगभग सब कुछ सही हुआ। श्रेयस अय्यर ने आक्रामक शुरुआत की, दीपक हुड्डा ने मध्य क्रम में महत्वपूर्ण पारी खेली और कप्तान हार्दिक पंड्या ने अंत में बड़े शॉट लगाए। इसके बाद गेंद के साथ टीम की हर एक योजना सफल रही और स्पिनरों ने धीमी पिच का पूरा लाभ उठाया।
अगर कुछ सही नहीं रहा तो वह था दिनेश कार्तिक का विफल होना। 16वें ओवर में बल्लेबाज़ी करने आए कार्तिक को अंतिम पांच ओवर रास आते हैं लेकिन एक अजीबोग़रीब शॉट खेलते हुए वह आउट हो गए। टी20 विश्व कप की तैयारियों में भारत को उनसे ऐसी ग़लतियों की उम्मीद नहीं होगी।
प्लेयर रेटिंग्स (1 से 10, 10 सर्वाधिक)
इशान किशन, 5 : रोहित शर्मा और सूर्यकुमार यादव की अनुपस्थिति में पारी की शुरुआत करने के मौक़े का लाभ उठाने में इशान नाकाम रहे। दोबारा इस्तेमाल की जा रही पिच पर बल्लेबाज़ी के लिए सबसे अनुकूल परिस्थितियों में 13 गेंदों का सामना करते हुए वह केवल 11 रन ही बना पाए। उन्होंने टी20 विश्व कप के लिए अपनी दावेदारी को मज़बूत करने का अवसर गंवा दिया।
श्रेयस अय्यर, 10 : जहां इशान ने मौक़ा गंवाया नहीं श्रेयस ने दोनों हाथों से ओपनिंग करने की ज़िम्मेदारी को स्वीकार किया। गेंदबाज़ों पर हावी होते हुए उन्होंने 10 बाउंड्री लगाई और 160 के स्ट्राइक रेट से 64 रन बनाकर बड़े स्कोर की नींव रखी।
दीपक हुड्डा, 8 : इस साल हुड्डा सफलता की सीढ़ी पर ऊपर चढ़ते ही जा रहे हैं। एक बार फिर तीसरे नंबर पर बल्लेबाज़ी करते हुए उन्होंने आक्रामक रुख़ अपनाया और टीम की योजना के अनुसार तेज़ गति से रन बंटोरे। जल्दी विकेट गंवाने के बावजूद उन्होंने डॉट गेंदों का दबाव बनने नहीं दिया।
संजू सैमसन, 5.5 : प्रतिभा को प्रदर्शन में तब्दील करने में सैमसन को हमेशा से परेशानी हुई है। एक बार फिर इसका मुज़ाहिरा देते हुए उन्होंने अच्छे मौक़े को गंवा दिया। मध्य क्रम में खेलते हुए उन्होंने दो चौके लगाए लेकिन 15 रनों के बाद वह बोल्ड होकर चलते बने। फ़ील्डिंग में उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया जिसके चलते उन्हें आधा अंक और दिया जा रहा है।
हार्दिक पंड्या, 8 : इस मैच में टीम की कप्तानी कर रहे हार्दिक ने फ़िनिशर की भूमिका निभाई और अंतिम ओवरों में आतिशबाज़ी करते हुए टीम को एक बड़े स्कोर तक पहुंचाया। इसके बाद अपनी कप्तानी का जौहर दिखाते हुए उन्होंने स्पिन के साथ शुरुआत की और वेस्टइंडीज़ को मैच में काफ़ी पीछे धकेल दिया। हालांकि गेंद के साथ उन्होंने साधारण प्रदर्शन किया।
दिनेश कार्तिक, 6 : भारत ने कई मौक़ों पर कार्तिक को 15वें ओवर तक बचाकर रखा है ताकि सही समय पर उनका इस्तेमाल किया जाए। इस मैच में कार्तिक सही समय पर क्रीज़ पर आए थे लेकिन एक अजीबोग़रीब रिवर्स स्वीप लगाने के प्रयास में वह आउट हुए। उनकी भूमिका अंत तक रहकर पारी को अच्छी फ़िनिश देने की है और वह इसमें असफल रहे।
अक्षर पटेल, 9.5 : बल्ले के साथ एक छक्का लगाने के बाद अक्षर को नई गेंद के साथ पहला ओवर दिया गया। विकेट मेडन ओवर के साथ शुरुआत करने वाले अक्षर ने कसी हुई गेंदबाज़ी की और पावरप्ले के भीतर तीन विकेट लेकर वेस्टइंडीज़ की गाड़ी को पटरी से नीचे उतार दिया।
कुलदीप यादव, 9 : चोट से उबरने के बाद एकादश में वापसी करते हुए कुलदीप ने बल्लेबाज़ों को अपनी फिरकी के जाल में फंसाया। एक मेडन ओवर डालते हुए उन्होंने पहले विपक्षी कप्तान और फिर दो निचले क्रम के बल्लेबाज़ों को अपना शिकार बनाया।
रवि बिश्नोई, 10 : आधी पारी की समाप्ति के बाद 11 ओवर में गेंदबाज़ी करने आते हुए बिश्नोई ने 33 रनों की साझेदारी को तोड़ा। दो बार एक ओवर में दो-दो सफलताएं अर्जित करते हुए उन्होंने यह सुनिश्चित किया कि पुरुष टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच में पहली बार एक पारी में स्पिनरों ने सभी 10 विकेट झटके।
आवेश ख़ान, 6 : जहां स्पिनरों ने कसी हुई गेंदबाज़ी की वहीं आवेश उम्मीदानुसार प्रदर्शन नहीं कर पाए। दो ओवरों में 20 रन ख़र्च करते हुए उन्हें ख़ाली हाथ लौटना पड़ा। अर्शदीप सिंह, 6 : नई गेंद के साथ दो ओवर डालते हुए अर्शदीप ने अपनी गेंदबाज़ी में विविधता का प्रदर्शन किया। हालांकि वह रन रोकने में सफल नहीं हुए और नौ की इकॉनमी से उन्होंने इस मैच में रन दिए।

अफ़्ज़ल जिवानी (@jiwani_afzal) ESPNcricinfo हिंदी में सब एडिटर हैं।