ख़बरें

महिला टी20 चैलेंज: क्या महिला आईपीएल की शुरुआत का समय आ चुका है?

बीसीसीआई से मिले संकेतों के अनुसार हमें इसके लिए ना तो अधिक निराश होना चाहिए और ना ही अधिक उत्साहित

The three captains, Smriti Mandhana, Deepti Sharma and Harmanpreet Kaur pose with the trophy, Women's T20 Challenge 2022, Pune, May 22, 2022

महिला टी20 चैलेंज ट्रॉफ़ी के साथ तीनों टीमों की कप्तान  •  BCCI

चार साल पहले महिला टी20 चैलेंज टूर्नामेंट की शुरुआत हुई थी। लेकिन इसके बाद हमेशा से इसके ऊपर संकट के बादल मंडराते रहे हैं। यह आईपीएल के प्लेऑफ़ के समय होता है और कहा जाता है कि इससे महिला आईपीएल का रास्ता साफ़ होगा। स्मृति मांधना के शब्दों में कहे तो, "हम इस टूर्नामेंट में हर संभव सर्वश्रेष्ठ क्रिकेट खेलने की कोशिश करते हैं, ताकि महिला आईपीएल का रास्ता जल्द से जल्द साफ़ हो।"
अब जब महिला टी20 चैलेंज टूर्नामेंट अपने चौथे संस्करण में प्रवेश कर रहा है, तो ईएसपीएनक्रिकेइफ़ो यह नज़र डालने की कोशिश करेगा कि हम इस दिशा में कितने आगे बढ़ चुके हैं।
यह आख़िरी महिला टी20 चैलेंज टूर्नामेंट साबित हो सकता है। लेकिन दुःखी होने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि ऐसा हो सकता है कि बीसीसीआई अगले साल मार्च में छह टीमों के महिला आईपीएल का आयोजन कर दे। क्रिकेट के गलियारों में ऐसी चर्चा तेज़ है।
लेकिन इसमें अधिक उत्साहित होने की भी ज़रूरत नहीं है। अगले साल महिला क्रिकेट का अंतर्राष्ट्रीय कैलेंडर काफ़ी व्यस्त है। 2023 में ही पहला अंडर-19 विश्व कप और सीनियर टी20 विश्व कप होना है, जो जनवरी और फ़रवरी में साउथ अफ़्रीका में आयोजित होगा। इसके अलावा अलग-अलग देशों में महिला लीग (फ़ेयरब्रेक, हंड्रेड, सीपीएल, महिला बीबीएल) भी होते हैं। इससे महिला आईपीएल के लिए विदेशी खिलाड़ियों के उपलब्ध होने पर सवाल हैं।
टूर्नामेंट की पूर्व संध्या पर पूर्व चैंपियन ट्रेलब्लेज़र्स की कप्तान मांधना ने कहा, "इस टूर्नामेंट से भारतीय महिला क्रिकेट को कई प्रतिभाएं मिली हैं। शेफ़ाली वर्मा को सभी जानते हैं, हमने उनको पहली बार जयपुर में इसी टूर्नामेंट में खेलते हुए देखा था। ऋचा घोष और पूजा वस्त्रकर ने भी इसी प्लेटफ़ॉर्म पर सबको प्रभावित किया था," सुपरनोवाज़ की कप्तान हरमनप्रीत कौर ने बात को आगे बढ़ाते हुए कहा।
सवाल यह है कि क्या इस सीज़न भी भारतीय युवा अनकैप्ड खिलाड़ियों को मौक़ा मिलेगा? 2020 में जब आख़िरी बार यह टूर्नामेंट हुआ था, तो छह में से सिर्फ़ दो अनकैप्ड खिलाड़ी सुश्री दिब्यदर्शिनी और मनाली दक्षिणी को खेलने का मौक़ा मिला था। इस बार तीन टीमों में 13 घरेलू अनकैप्ड खिलाड़ी हैं। इस साल टी20 विश्व कप और कॉमनवेल्थ गेम्स को देखते हुए अधिक से अधिक खिलाड़ियों को इस टूर्नामेंट में खेलने का मौक़ा मिलना चाहिए ताकि उन्हें विदेशी खिलाड़ियों के साथ खेलने का अंतर्राष्ट्रीय स्तर का अनुभव मिल सके।
मांधना कहती हैं, "बिल्कुल, यह भारत का महिला टी20 टूर्नामेंट है, इसलिए हम चाहते हैं कि अधिक से अधिक युवा खिलाड़ियों को इसमें खेलने का मौक़ा मिले। लेकिन दो या तीन मैच बहुत कम होते हैं।"
2018 में इस टूर्नामेंट की शुरुआत वानेखेड़े के एक खाली स्टेडियम में हुई थी। 2019 में जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम में जब यह टूर्नामेंट आयोजित हुआ, तो दर्शक उत्साहित होकर देखने आए। 2020 में महामारी के कारण यह टूर्नामेंट संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में आयोजित हुआ और फिर 2021 में हुआ ही नहीं। इस साल यह टूर्नामेंट पुणे के महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में होना है|
हरमनप्रीत ने टूर्नामेंट की पूर्व संध्या पर कहा, "हमें इस बार टूर्नामेंट से पहले पर्याप्त प्रैक्टिस सेशन मिले लेकिन अब हमें लगातार मैच खेलने हैं, जबकि हमें आराम और रिकवर होने का मौक़ा भी मिलना चाहिए।"
अब समय ही बताएगा कि क्या महिला आईपीएल निकट भविष्य में सभंव है या नहीं?

ऑन्नेशा घोष स्वतंत्र पत्रकार हैं।