मैच (15)
IPL (3)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (2)
Women's Tri-Series (1)
ख़बरें

ग्रीन : एक पल के लिए मैं चल नहीं पा रहा था

ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर ने शरीर के कई हिस्सों में जकड़न के बावजूद 89 नाबाद बनाकर ऑस्ट्रेलिया को ज़बरदस्त जीत दिलाई

ग्रीन जब बल्लेबाज़ी करने आये तब 233 का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलिया 44 पर पांच विकेट गंवा चुका था।  •  AFP/Getty Images

ग्रीन जब बल्लेबाज़ी करने आये तब 233 का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलिया 44 पर पांच विकेट गंवा चुका था।  •  AFP/Getty Images

न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ केर्न्स में एक ऐसा समय था जब कैमरन ग्रीन शायद आश्वस्त नहीं थे कि वह पारी के अंत तक मैदान पर टिके रह पाएंगे या नहीं। उनके शरीर में अकड़न के चलते फ़िज़ियो मैदान पर आ चुके थे और उपचार इतनी देर चल चुका था कि अंपायर हस्तक्षेप कर सकते थे।
बारिश की वजह से एक छोटे विलंभ के दोनों तरफ़ दौड़ते हुए ऐसा लग रहा था कि ग्रीन किसी भी वक़्त पूरी तरह चोटग्रस्त होकर रुक जाएंगे। ऐसे में दूसरे छोर पर ऐडम ज़ैम्पा का लगाया गया चौका और एक वाइड गेंद के ज़रिए दो विकेट की जीत हासिल होना ग्रीन के लिए राहत की सांस रही होगी।
मैच के बाद प्रेज़ेंटेशन पर जब ग्रीन से पूछा गया कि क्या वह उनके क्रीज़ पर बने रहने पर संशय था तो उन्होंने बोला, "बिलकुल। एक पल के लिए मैं चल नहीं पा रहा था। जांघ, पिंडली, हैमस्ट्रिंग और हाथों में हर जगह दर्द हो रहा था।"
ग्रीन जब बल्लेबाज़ी करने आए थे तब 233 का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलिया 44 पर पांच विकेट गंवा चुका था। उन्होंने कहा, "उस वक़्त खोने को कुछ नहीं था और हम पर कोई दबाव भी नहीं था। मैं और केज़ [ऐलेक्स कैरी] पूरी आज़ादी के साथ सामान्य तरीक़े से खेल सकते थे।"
शरीर में दर्द होने से पहले तक ग्रीन नियंत्रित बल्लेबाज़ी कर रहे थे। पारी की शुरुआत में लॉकी फ़र्ग्यूसन की गेंद पर अंदरूनी किनारा स्टंप्स तक जा सकता था और बाद में उसी गेंदबाज़ के ख़िलाफ़ एक हुक शॉट पर ट्रेंट बोल्ट ने फ़ाईन लेग पर एक कैच छोड़ा था। 89 रनों की नाबाद पारी के दौरान बस यही दो मौक़े उन्होंने न्यूज़ीलैंड के गेंदबाज़ों को दिए।
यह एक नया नमूना है पिछले सीज़न के शुरुआत से ग्रीन के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में प्रभावशाली वर्चस्व की। टेस्ट में उन्होंने बतौर गेंदबाज़ एक लंबे सूखे के बाद विकेट लेना शुरू किया है, ऐशेज़ में कुछ तकनीकी परेशानियों से जूझने के बाद उन्होंने अच्छी वापसी की, पाकिस्तान और श्रीलंका में उन्होंने रिवर्स स्विंग और स्पिन के विरुद्ध बहुमूल्य रन बनाए और टाउंसविल में हाल ही में ज़िम्बाब्वे के विरुद्ध वनडे क्रिकेट में पहली बार पारी में पांच विकेट लिए। इस चेज़ में उन्होंने बल्लेबाज़ी क्रम का स्तंभ होने की क्षमता दिखाई है जो अगले साल भारत में वनडे विश्व कप में कारगर सिद्ध होगा।
ग्रीन के साथ 158 रन जोड़ने वाले कैरी ने कहा, "हम शुरुआती विकेट गंवाने के बाद संकट में ज़रूर थे लेकिन हमें यह भी पता था कि मैच में बहुत समय बचा है। हमें साथ बल्लेबाज़ी करने में मज़ा आता है। वह काफ़ी आज़ादी से बल्लेबाज़ी कर लेते हैं और इससे मुझे आसानी होती है। आपने आज देखा कि वह कहीं भी बल्लेबाज़ी करने आ सकते हैं और यह उनके लिए बहुत बड़ी ख़ूबी है। वह बल्ला, गेंद लेकर और फ़ील्ड पर एक स्थिर खिलाड़ी हैं और अपना काम कर जाते हैं। हम जानते हैं वह कितने अच्छे हैं और वह इसे एक स्तर ऊपर ले जा रहे हैं।"
न्यूज़ीलैंड ने पिछली बार जब किसी भी प्रारूप में ऑस्ट्रेलिया को ऑस्ट्रेलिया में हराया था तब बोल्ट अंतर्राष्ट्रीय डेब्यू पर थे। 2011 के उस होबार्ट टेस्ट के बाद आज न्यूज़ीलैंड को लगा होगा कि जीत उनके हाथ में है, ख़ास कर जिस तरह बोल्ट ने गेंद से शुरुआत दिलाई थी। हालांकि शायद मेहमान टीम से रणनीति में चूक हुई कि ज़बरदस्त लय में गेंदबाज़ी करते हुए बोल्ट को पांच ओवर के बाद विश्राम मिला जब ऑस्ट्रेलिया 38 पर चार गंवा चुका था। जब वह 29वें ओवर में दूसरे स्पेल के लिए लौटे तब कैरी और ग्रीन की साझेदारी जम चुकी थी।
बोल्ट ने बाद में कहा, "मैं छठा, सातवां या आठवां ओवर भी डालने के लिए तैयार था। मुझे नहीं पता इस के पीछे क्या सोच थी लेकिन [ग्लेन] मैक्सवेल आठ पर थे और हमें पता था उनकी बल्लेबाज़ी क्रम में गहराई होगी। शायद इसी के चलते मेरे ओवर रोके गए थे। यह मज़ेदार मैच था लेकिन हारने वाली टीम का हिस्सा होना सुखदायी अनुभव नहीं है।"

ऐंड्रयू मक्ग्लैशन ESPNcricinfo के डिप्टी एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सहायक एडिटर और स्थानीय भाषा लीड देबायन सेन ने किया है।