मैच (6)
IPL (2)
ACC Premier Cup (2)
Women's QUAD (2)
ख़बरें

टीम प्रबंधन शॉट सेलेक्शन पर पंत से बात करेगा : द्रविड़

द्रविड़ और इस मैच में कप्तान केएल राहुल दोनों ने माना कि टीम ने पहली पारी में थोड़ा कम स्कोर बनाया

भारतीय टीम के प्रमुख कोच राहुल द्रविड़ ने कहा कि टीम प्रबंधन ऋषभ पंत के शॉट सेलेक्शन पर उनसे बातचीत करेगा, साथ ही टीम प्रबंधन उनके नैसर्गिक आक्रमकता का भी समर्थन करता रहेगा। जोहैनेसबर्ग टेस्ट की दूसरी पारी में पंत शून्य पर आउट हो गए थे। कगिसो रबाडा की गेंद पर वह क्रीज़ से आगे निकलकर खेलने गए लेकिन गेंद उनके बल्ले का किनारा लेती हुई विकेटकीपर के दस्तानों में पहुंच गई थी।
द्रविड़ ने मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा, "हम जानते हैं कि ऋषभ सकारात्मक होकर खेलता है और इससे उसे थोड़ी सफलता मिली है। लेकिन हां, निश्चित रूप से ऐसा समय आ गया है जब हम उसके साथ बातचीत करना चाहेंगे। बस उस शॉट को खेलने के लिए समय का थोड़ा सा चयन होता है।"
"कोई भी कभी भी ऋषभ को सकारात्मक खिलाड़ी नहीं बनने, आक्रामक खिलाड़ी नहीं बनने के लिए कहने वाला है, लेकिन कभी-कभी यह ऐसा करने के लिए समय चुनने का सवाल है। मुझे लगता है कि जब आप अभी आते हैं, तो शायद खुद को थोड़ा अधिक समय दे सकते हैं, लेकिन अंत में हम जानते हैं कि हमें ऋषभ से क्या मिल रहा है। वह वास्तव में सकारात्मक खिलाड़ी है, वह ऐसा व्यक्ति है जो हमारे लिए बहुत जल्दी खेल को बदल सकता है, इसलिए आप स्वाभाविक रूप से उसे उससे दूर नहीं ले जाना चाहते हैं। कभी-कभी सिर्फ़ यह समझना होता है कि अटैक करने का सही समय क्या है या शायद थोड़े कठिन समय में संभलकर खेलना होता है, जिससे आपका खेल सेट होता है, आपकी पारी आगे बढ़ती है और टीम को पारी बनाने में मदद मिलती है।"
"वह सीख रहा है। वह एक विशेष तरीके से खेलता है, इसलिए यह हमेशा कुछ ऐसा है जो वह सीखने वाला है, वह सुधार करता रहेगा और बेहतर होता रहेगा।"
असमान उछाल की विशेषता वाली चुनौतीपूर्ण पिच पर भारत टेस्ट मैच के तीन-चौथाई हिस्से में साउथ अफ़्रीका के साथ बराबरी पर था। चौथी पारी में मेज़बानों ने 240 रन बनाकर अपनी टीम को जीत दिलाई। कप्तान डीन एल्गर ने नाबाद रहकर अपनी टीम को सीरीज़ में बराबरी कराई। द्रविड़ ने महसूस किया कि परिणाम अलग हो सकता था अगर भारत टॉस जीतकर पहली पारी में बड़ा स्कोर बनाता।
उन्होंने कहा, "यह दोनों टीमों के लिए चुनौतीपूर्ण विकेट रहा है। यह चौथी पारी शायद उनकी सर्वश्रेष्ठ पारी भी थी। विकेट थोड़े चुनौतीपूर्ण रहे हैं, मैं श्रेय बल्लेबाज़ों को दूंगा, लेकिन हां ईमानदारी से हम बेहतर करने की इच्छा रखते हैं और बेहतर करना चाहते हैं, इसलिए एक बल्लेबाज़ी इकाई महत्वपूर्ण पलों को हासिल कर सकती है और जब हमें साझेदारियां मिलें तो हम उन्हें थोड़ा लंबा कर सकते हैं।"
"पहली पारी में ऐसे चरण हो सकते थे जहां यह चुनौतीपूर्ण था, लेकिन हम ऐसी स्थिति में भी थे जहां पर शायद 60-70 रन अधिक बना सकते थे, यह शायद इस मैच में एक महत्वपूर्ण अंतर बना सकता था।"
"तो हां, निश्चित रूप से हम थोड़ा बेहतर बल्लेबाज़ी करना चाहेंगे, हो सकता है कि कुछ लोग जिन्होंने शुरुआत की हो, उन्हें शतक में परिवर्तित कर सकते थे। यह पहले मैच में एक अंतर था। हमारे पास केएल राहुल थे, जिन्होंने शतक लगाया और हमने मैच जीता। दूसरे मैच में उनके पास कोई था, जिन्होंने अपनी पारी को 96 रनों तक पहुंचाया और वह जीत गए। इसलिए यह वास्तव में आपको असल महत्व दिखाता है, इस तरह के विकेटों पर यह जरूरी होता है कि आपका एक बल्लेबाज़ आगे बढ़े और एक बड़ा स्कोर बनाए।"
"यह बल्लेबाज़ी की स्थिति आसान नहीं है, इसलिए यदि आपका कोई बल्लेबाज़ जो सेट हो जाता है और महत्वपूर्ण स्कोर बना सकता है, तो निश्चित रूप से स्कोर में 60-70 रन जुड़ जाते हैं, जो कभी-कभी अंत में अंतर साबित होते हैं।"