मैच (13)
IPL (2)
Pakistan vs New Zealand (1)
ACC Premier Cup (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ख़बरें

जगदीशन चेन्नई सुपर किंग्स में रिटेन भले ना हुए हों, उनका बल्ला बराबर बोल रहा है

तमिलनाडु के विकेटकीपर बल्लेबाज़ ने लगातार तीसरे विजय हज़ारे ट्रॉफ़ी मैच में ठोका शतक

जगदीशन विजय हज़ारे ट्रॉफ़ी के लगातार तीन मैचों में तीन शतक लगा चुके हैं  •  BCCI

जगदीशन विजय हज़ारे ट्रॉफ़ी के लगातार तीन मैचों में तीन शतक लगा चुके हैं  •  BCCI

विजय हज़ारे ट्रॉफ़ी 2022 में लगातार तीन मैचों में तीन शतक लगा चुके नारायण जगदीशन ने गुरुवार को गोवा के ख़िलाफ़ जैसे ही सैकड़ा लगाया, उन्होंने ऊपर की तरफ़ एक लंबी छलांग लगाते हुए हवा में पंच किया। यह छलांग इतनी ऊंची थी कि लांग ऑन सीमा रेखा के पास खड़े एक कैमरामैन ने कहा, 'ओ भाई ये तो मेरी फ़्रेम से ही बाहर चला गया।' इसके बाद मैदान पर चारों तरफ़ तालियों की गड़गड़ाहट से सभी खिलाड़ी और प्रत्यक्षदर्शियों ने उनका अभिवादन किया।
हालांकि जगदीशन यहीं नहीं रूके, उन्हें अपने छलांग को और ऊपर की तरफ़ लेकर जाना था और यह काम उनके बल्ले से निकल रहे दनदनाते हुए चौके और सिक्सर कर रहे थे। जगदीशन ने कुल 140 गेंदों को सामना करते हुए 168 रनों की दर्शनीय पारी खेली, जिसमें पांच गगनचुंबी सिक्सर और 15 चौके शामिल थे।
इस पारी के बारे में बात करते हुए जगदीशन ने ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो से कहा, "आज की पिच शुरुआत में थोड़ी कठिन थी। आसमान बादलों से घिरा हुआ था तो गेंदबाज़ों को थोड़ी मदद मिल रही थी। उस दौरान मैंने थोड़ा संभल कर खेलने का प्रयास किया लेकिन एक बार जब बल्ले पर गेंद ठीक से आने लगी तो मैं अपने शॉट्स खेलने लगा।"
इससे पहले भी बुधवार को जगदीशन ने छत्तीसगढ़ के ख़िलाफ़ शतकीय पारी खेली थी, जो टूर्नामेंट में उनका दूसरा शतक था। हालांकि उस दिन एक और ख़बर आई थी जो जगदीशन के लिए अच्छी नहीं थी। उन्हें उनके आईपीएल की टीम, चेन्नई सुपर किंग्स ने रिटेन नहीं किया। हालांकि जगदीशन इससे निराश नहीं हैं और उनका मानना है कि यह उनके लिए नए और बड़े मौक़े भी खोल सकता है।
गोवा के ख़िलाफ़ शतक लगाने के बाद उन्होंने कहा, "बेशक़ मैं इतने रन बनाने के बाद काफ़ी बढ़िया महसूस कर रहा हूं, लेकिन यह एक लंबे मेहनत का नतीजा है, जो अब रंग ला रहा है। फ़िलहाल मैं एक समय पर एक मैच पर फ़ोकस कर रहा हूं। ईमानदारी से कहूं तो मैं भविष्य के बारे में बिल्कुल भी नहीं सोच रहा हूं और न ही भविष्य के लिए कोई गोल सेट कर रहा हूं। फ़िलहाल मेरा बस एक ही लक्ष्य है कि अच्छे से आराम करूं और अगले मैच के लिए तैयार रहूं।"
"पिछला सीज़न मेरे लिए कुछ ख़ास नहीं था। वहां मैंने बस एक शतक लगाया था। उसके बाद मैं ख़ुद के प्रदर्शन से ख़ुश नहीं था लेकिन ऐसे समय में आपके टीम के साथी, आपकी सबसे ज़्यादा मदद करते हैं। जैसे हमारी टीम में [आर] साई किशोर और हमारे कोच आर. प्रसन्ना हैं, जिनसे मैं काफ़ी बात करता हूं।
जगदीशन
जगदीशन आईपीएल में साल 2020 से चेन्नई की टीम का हिस्सा थे। इस साल के मेगा ऑक्शन में चेन्नई की टीम ने उन्हें 20 लाख रूपए में अपनी टीम में शामिल किया था। हालांकि उन्हें इस दौरान सिर्फ़ सात मैच खेलने का मौक़ा मिला और अपनी चार पारियों में वह सिर्फ़ 73 रन ही बना सके। इसके बाद उन्हें चेन्नई की टीम ने रिलीज़ करने का फ़ैसला किया।
इसके बारे में जगदीशन ने कहा, "ये फ़्रैचाइज़ी क्रिकेट है और मैं इसका पूरा सम्मान करता हूं। साथ ही एक बात यह भी है कि यह मेरे नियंत्रण से बाहर है। मैं इसे सकारात्मक तौर पर लेते हुए, यह सोच रहा हूं कि मेरे पास अभी दो महीने हैं।। ऐसा हो सकता है कि वर्तमान में मैं जिस तरीक़े से खेल रहा हूं, आने वाले दिनों में उससे 50 फ़ीसदी ज़्यादा बढ़िया खेलूं और इसके बाद जब भी मुझे मौक़ा मिले, मैं अपने आप को और बढ़िया खिलाड़ी के तौर पर पेश करूं।"
मौजूदा विजय हज़ारे ट्रॉफ़ी में जगदीशन 131.33 की औसत से चार मैचों में 394 रन बनाए हैं और सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज़ों की सूची में टॉप पर हैं। वहीं विजय हज़ारे ट्रॉफ़ी में लगातार तीन शतक बनाने वाले वह चौथे खिलाड़ी हैं। इससे पहले यह कारनामा देवदत्त पड़िक्कल, ऋतुराज गायकवाड़ और नमन ओझा ने किया था।
अपने इस फ़ॉर्म के बारे में जगदीशन कहते हैं, "पिछला सीज़न मेरे लिए कुछ ख़ास नहीं था। वहां मैंने बस एक शतक लगाया था। उसके बाद मैं ख़ुद के प्रदर्शन से ख़ुश नहीं था लेकिन ऐसे समय में आपके टीम के साथी, आपकी सबसे ज़्यादा मदद करते हैं। जैसे हमारी टीम में [आर] साई किशोर और हमारे कोच आर. प्रसन्ना हैं, जिनसे मैं काफ़ी बात करता हूं। इसके अलावा टीम के कई साथियों ने मेरा हौसला अफ़जाई किया और सुझाया कि मैं बस प्रक्रिया पर ध्यान दूं, बाक़ी की चीज़ें ख़ुद हो जाती हैं। क्रिकेट का यह बहुत महत्वपूर्ण पक्ष है कि आप जब भी एक बुरे दौर से गुज़र रहे होते हैं तो आपके टीम का माहौल और आपके टीम के सभी दोस्त, ऐसी परिस्थिति से आपको बाहर निकालने में काफ़ी मददगार होते हैं।"