मैच (6)
श्रीलंका बनाम अफ़ग़ानिस्तान (1)
ऑस्ट्रेलिया बनाम वेस्टइंडीज़ (1)
न्यूज़ीलैंड बनाम भारत (1)
बांग्लादेश ए बनाम इंडिया ए (1)
हज़ारे ट्रॉफ़ी (2)
फ़ीचर्स

रेटिंग्स : गुवाहाटी की अंधेरी रात में पूरी तपिश के साथ चमके सूर्यकुमार

डेथ गेंदबाज़ी की परेशानी दिन प्रतिदिन बढ़ते ही जा रही है

Suryakumar Yadav scoops one away, India vs South Africa, 2nd T20I, Guwahati, October 2, 2022

स्कूप शॉट खेलते हुए सूर्यकुमार यादव  •  BCCI

अजीबोगरीब घटनाओं से भरे हुए मैच में भारत ने साउथ अफ़्रीका को मात देकर उनके विरुद्ध घर पर अपनी पहली टी20 अंतर्राष्ट्रीय सीरीज़ जीत दर्ज की। बल्लेबाज़ों ने चौकों और छक्कों की बरसात की, गेंदबाज़ों ने विकेट झटके, सांप मैदान पर घुस आया, फ़्लडलाइट टावर बंद पड़ गया - बाप रे बाप, क्या कुछ नहीं होते देखा हमने गुवाहाटी में। अब जब इतना सब देख ही लिया है तो यह भी देख लेते हैं कि भारतीय एकादश के खिलाड़ियों को कितने अंक मिले।
क्या सही और क्या ग़लत?
बल्लेबाज़ी के दृष्टिकोण से इस मैच में सब कुछ सही हुआ। शुरुआत आक्रामक रही और फिर मध्य क्रम ने रन गति को कम नहीं होने दिया। अंत में फ़िनिशर कार्तिक ने भी अपना जलवा बिखेरा।
गेंदबाज़ बदले लेकिन नतीजा नहीं। भारतीय टीम के लिए डेथ ओवरों में गेंदबाज़ी वह कांटा बन चुकी है जो हर बार चुभती ही जा रही है। अंतिम पांच ओवरों में भारत ने 78 रन ख़र्च किए और यह बात कप्तान और टीम प्रबंधन को बिल्कुल रास नहीं आई होगी।
प्लेयर रेटिंग्स (1 से 10, 10 सर्वाधिक)
रोहित शर्मा, 7.5: भारतीय कप्तान ने सात चौकों और तीन छक्कों से सजी अपनी पारी में 43 रन बनाकर भारत को अच्छी शुरुआत दी। हालांकि यह रन 116.21 के साधारण स्ट्राइक रेट से आए।
केएल राहुल, 8.5 : एशिया कप में संघर्ष करने वाले बल्लेबाज़ को सब बुरा सपना समझकर भुला चुके हैं क्योंकि राहुल अब धुआंधार बल्लेबाज़ी करने लगे हैं। 200 से अधिक के स्ट्राइक रेट से इस बल्लेबाज़ ने अर्धशतक जड़ा और गुवाहाटी में मौजूद दर्शकों का मनोरंजन किया।
विराट कोहली, 8.5 : कोहली के स्ट्राइक रेट की हालिया समय में आलोचना हुई है। बात यह भी उठी है कि अगर टीम को अच्छी शुरुआत मिल जाए तो क्या उनसे आगे किसी और को भेजना चाहिए। हालांकि इन सभी बातों को खारिज करते हुए तेज़ गति से रन बनाए। शुरुआत में धीमे रहे कोहली ने बाद में स्ट्राइक रेट की भरपाई कर ली।
सूर्यकुमार यादव, 10 : इस बल्लेबाज़ की तारीफ़ों के पुल बांधते-बांधते हम और आप थक जाएंगे लेकिन वह हमें चौंकाते रहेंगे। हमेशा की तरह मैदान के चारों तरफ़ बड़े शॉट लगाते हुए यह सूर्य गुवाहाटी की अंधेरी रात में पूरी तपिश के साथ चमक रहा था।
दिनेश कार्तिक, 9 : सात गेंदों पर 17 रन, 242.85 का स्ट्राइक रेट और तीन बाउंड्री - आप अपने फ़िनिशर से इससे बेहतर योगदान की उम्मीद कर ही नहीं सकते। हालिया समय में मैच प्रैक्टिस का इंतज़ार कर रहे कार्तिक ने बताया कि क्यों उन्हें एकादश से बाहर करना एक ग़लत फ़ैसला हो सकता है।
ऋषभ पंत, 7 : पंत की बल्लेबाज़ी आई नहीं और इसलिए उन्हें अंक मिलने तो नहीं चाहिए लेकिन उनकी विकेटकीपिंग इस मैच में चरम पर नहीं थी। जब टीम में कार्तिक जैसा विकेटकीपर हो तब आप पंत से ग़लतियों की उम्मीद नहीं कर सकते।
अक्षर पटेल, 7 : बापू महात्मा गांधी के जन्मदिन पर टीम इंडिया के बापू अक्षर पटेल रन रोकने में नाकाम रहे। उन्होंने एक विकेट तो लिया लेकिन 13 से ऊपर का रन रेट टीम को नुक़सान ही पहुंचाएगा।
हर्षल पटेल, 7 : हर्षल के लिए विश्व कप के लिए एकादश में बने रहना दिन प्रतिदिन कठिन होता जा रहा है। चोट से वापसी करने के बाद यह उनका पांचवां टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच था और इसमें भी वह रन गति पर अंकुश नहीं लगा पाए।
रविचंद्रन अश्विन, 8 : पहले तीन ओवरों की गेंदबाज़ी के लिए अश्विन को 10 में से 10 नंबर मिलने चाहिए। हालांकि अंतिम ओवर में 19 रन देकर उन्होंने अपना विश्लेषण बिगाड़ दिया।
दीपक चाहर, 9 : जिस मैच में कुल मिलाकर 40 ओवरों में 458 रन बने हो, उस मैच में महज़ छह की इकॉनमी से गेंदबाज़ी करने पर आपकी सराहना होनी ही चाहिए। पहला ओवर मेडन डालकर उन्होंने साउथ अफ़्रीका पर दबाव बनाया और फिर डेथ ओवरों में छह गेंदों पर मात्र आठ रन दिए।
अर्शदीप सिंह, 8.5 : एक ओवर में एक से अधिक विकेट लेने की अर्शदीप को अब आदत सी हो गई है। पिछले मैच के विपरित इस बार वह किफ़ायती गेंदबाज़ी नहीं कर पाए। गुवाहाटी में मेहमान टीम के बल्लेबाज़ों ने उन्हें आड़े हाथों लिया और ख़ूब रन बनाए।

अफ़्ज़ल जिवानी (@jiwani_afzal) ESPNcricinfo हिंदी में सब एडिटर हैं।