मैच (15)
T20 वर्ल्ड कप (4)
IND v SA [W] (1)
CE Cup (4)
T20 Blast (6)
फ़ीचर्स

वनडे से संन्यास, कॉमेंट्री में हाथ आज़माए, कोचिंग की और अब खिलाड़ी के तौर पर हामिद की वापसी

मुश्किल सफ़र में वापसी करते हुए 34 वर्षीय गेंदबाज़ ने नामीबिया के ख़िलाफ़ 9 रन देकर लिए 3 विकेट

Hamid Hassan's double-wicket over rocked Namibia in the middle overs, Afghanistan vs Namibia, T20 World Cup, Group 2, Abu Dhabi, October 31, 2021

इस विश्‍व कप से पहले 2016 में अपना आखिरी टी20 खेले थे हामिद  •  Getty Images

हामिद हसन अब 34 साल के हैं। उनके पास वह गति नहीं है, जो पहले हुआ करती थी। उनके पास अब इतना लंबा रन-अप भी नहीं है। शायद उनके पास वह तिलिस्म नहीं है, जो कभी प्रशंसकों को रोमांचित करता था।
हालांकि, वह अभी भी सिल्वेस्टर स्टेलोन की तरह हेडबैंड पहनते है। उनके दोनों गालों पर अभी भी अफ़ग़ानिस्तान के रंगों के स्टिकर हैं। उनके पास अब भी दम है। उनके पास अभी भी यॉर्कर है। उनके पास अभी भी बाउंसर है। वह अभी भी टी20 विश्व कप में अफ़ग़ानिस्तान के लिए खेल रहे हैं। 11 साल पहले उन्होंने बारबेडोस में अफ़ग़ानिस्तान के पहले टी20 विश्व कप मैच में साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ पहले 21 रन देकर तीन विकेट लिए और बाद में 21 गेंदों में 22 रन बनाए।
उस मैच में उनके तीन विकेट में से दो मार्क बाउचर और जेपी ड्यूमिनी थे, जो अब साउथ अफ़्रीका के टीम प्रबंधन का हिस्सा हैं। एल्बी मोर्केल, जो उस मैच का हिस्सा थे, अब नामीबिया के सहायक कोच के रूप में दूसरे खेमे में मौजूद थे।
हामिद ख़ुद कई चोटों से उबरने के दौरान कोचिंग, मेंटरिंग और यहां तक ​​कि कॉमेंट्री भी कर चुके हैं। हेडिंग्ले में पाकिस्तान के खिलाफ 2019 के वनडे विश्व कप मैच में हैमस्ट्रिंग की चोट लगने के बाद उन्होंने फ़ैसला किया था कि यह उनका आख़िरी वनडे मैच होगा और टीम के बाहर किसी को भी यह नहीं पता था जब तक कि उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर नहीं मिला।
हामिद ने तब से अब तक दो सत्रों में केवल आठ शापीज़ा टी20 लीग मैच खेले हैं। इस टूर्नामेंट से पहले उन्होंने अपना पिछला टी20 अंतर्राष्ट्रीय 2016 विश्व कप में भारत के ख़िलाफ़ खेला था।
हालांकि, हामिद का मानना ​​था कि वह अपने अस्थिर शरीर को एक और विश्व कप में धकेल सकते हैं। अफ़ग़ानिस्तान के मुख्य कोच लांस क्लूजनर ने भी हामिद पर विश्वास किया और वापसी करने के लिए उनका समर्थन किया।
क्लूजनर ने ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो को बताया, "हां, वह हमारे गेंदबाज़ी कोच थे। मैं उनके लिए बेहद खुश हूं। उन्होंने अपनी चोटों के साथ एक लंबा सफ़र तय किया है और उन्होंने अपने रन-अप को छोटा कर दिया है, लेकिन फिर भी उनके पास उत्कृष्ट नियंत्रण है। मैंने उनसे लंबी बातचीत नहीं की थी। वह सिर्फ़ ख़ुद की वापसी के लिए ख़ुद को ही चुनौती दे रहे हैं।"
नामीबिया के ख़िलाफ़ रविवार को उनकी वापसी की संभावना कम होती अगर मिस्ट्री स्पिनर मुज़ीब उर रहमान फ़िट होते। उनके किस्मत के सितारे चले और हामिद ने चार ओवर में नौ रन देकर तीन विकेट लिए और शानदार वापसी के साथ ही पूर्व कप्तान असगर अफ़गान को शानदार विदाई देने में मदद की।
हामिद पहली बार एक्शन में तब दिखे जब नवीन उल हक़ की गेंद पर उन्होंने माइकल वैन लिंगेन का डीप स्क्वेयर लेग पर कैच लपका। इसके बाद उन्होंने अपने दूसरे ओवर में नामीबिया के कप्तान एरहार्ड इरैस्मस को इनस्विंग यॉर्कर पर आउट किया और अपने सुनहरे दिनों की यादें ताज़ा की। इरैस्मस पिच पर गिर गए और हामिद ख़ुशी से ताली बजाते हुए स्क्वेयर लेग की ओर बढ़ गए।
इसके बाद एक चौंकाने वाली बाउंसर पर उन्होंने जेजे स्मिट को आउट किया। वह ग्लव्स पीछे हटा रहे थे, लेकिन गेंद हल्का सा ग्लव्स को छूकर विकेटकीपर शहजाद के दस्तानों में चली गई। हामिद अभी नहीं रूके थे। उन्होंने नामीबिया के मुख्य खिलाड़ी डेविड वीसा को भी एक इनस्विंगिंग यॉर्कर से क्लीन बोल्ड कर दिया।
हामिद ने भारत के ख़िलाफ़ अफ़ग़ानिस्तान के मुक़ाबले से एक दिन पहले कहा, "यह मेरे लिए एक शानदार वापसी थी, ख़ासकर पांच साल के लंबे ब्रेक के बाद। मैं क्रिकेट खेलने के लिए पर्याप्त रूप से फ़िट था, लेकिन राष्ट्रीय टीम में जगह नहीं बना सका। ज़िंबाब्वे के ख़िलाफ़ पिछले दौरे में मैं टीम का हिस्सा था, लेकिन मुझे अपना दुबई वीज़ा समय पर नहीं मिला, इसलिए मैं चूक गया। पिछले कुछ वर्षों में मैं टीम में पहुंचने और मौक़ा मिलने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा था। कल से एक दिन पहले, मैंने बहुत अच्छी गेंदबाज़ी की और अफ़ग़ानिस्तान ने वह मैच जीत लिया।"
"मेरे पास आत्म-विश्वास है और मैं बहुत मेहनती भी हूं। मैं बहुत जल्दी हार नहीं मानता। 2019 विश्व कप से पहले मैं देहरादून में आयरलैंड के ख़िलाफ़ अफ़ग़ानिस्तान के मैच में कॉमेंट्री कर रहा था। कॉमेंट्री में एक घंटे के ब्रेक के दौरान मैं मैदान पर गया और दौड़ने लगा, फ़िटनेस प्रशिक्षण और गेंदबाज़ी की। ऐसे में मैंने हमेशा ख़ुद को तैयार रखा है। मैं बस कड़ी मेहनत करने की कोशिश करता हूं क्योंकि यह क्रिकेट का हिस्सा है। एक कॉमेंटेटर के रूप में मेरे लिए यह बहुत अच्छा अनुभव था।"

देवरायण मुथु ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।