बड़ी तस्वीर

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के शीर्ष पर अभी एक नया अध्यक्ष हैं। मुख्य परिचालन अधिकारी, मुख्य कोच और गेंदबाज़ी कोच ने भी टीम का साथ छोड़ दिया है। पाकिस्तान ने वेस्टइंडीज़, न्यूज़ीलैंड और इंग्लैंड के ख़िलाफ़ टी20 विश्व कप से पहले खेले जाने वाली निर्धारित सीरीज़ में से सिर्फ़ एक ही मैच खेला है और वह भी अभ्यास मैच था। कैरेबियन में मौसम ने पाकिस्तानी टीम के साथ बेईमानी की तो वहीं सुरक्षा ख़तरे के कारण पहले न्यूज़ीलैंड और फिर इंग्लैंड ने अपना दौरा रद्द कर दिया।

इस तरह की अराजकता विश्व कप के लिए कभी भी एक आदर्श तैयारी नहीं हो सकती है, लेकिन अराजकता से निपटने के लिए पाकिस्तान की तैयारी किसी से कम नहीं है। उनका एकमात्र टी20 विश्व कप ख़िताब, श्रीलंकाई क्रिकेट टीम पर एक आतंकी हमले के तीन महीने बाद आया था। हालांकि काफ़ी समय तक टी20 क्रिकेट में विश्व की नंबर 1 रहने वाली टीम के लिए चीजें अभी भी उतनी आसान नहीं है।

पाकिस्तानी टीम ने अनुभव को प्राथमिकता देते हुए सरफ़राज़ अहमद, शोएब मलिक और मोहम्मद हफ़ीज़ जैसे वरिष्ठ खिलाड़ियों को टीम का हिस्सा बनाया है। वे निश्चित रूप से हारिस रउफ़, शाहीन अफ़रीदी और हसन अली के साथ टूर्नामेंट के सबसे तेज़ गेंदबाज़ी दल होने का दावा करते हैं, लेकिन उनके पास अभी भी बढ़िया स्पिन विकल्प की कमी है।

पाकिस्तान की सफलता संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के पिचों पर बहुत निर्भर कर सकती है। धीमी और कम उछाल वाली पिचों पर मोहम्मद रिज़वान और बाबर आज़म के साथ पारी की शुरुआत करना एक अच्छा विकल्प हो सकता है। इस जोड़ी की निरंतरता बेजोड़ है। भारत, न्यूज़ीलैंड और अफ़ग़ानिस्तान जैसी चुनौतीपूर्ण टीमों का सामना करते हुए सेमीफ़ाइनल में पहुंचना एक बड़ी उपलब्धि होगी।

हालिया फ़ॉर्म

इस बारे में अभी ज़्यादा कुछ नहीं कहा जा सकता है क्योंकि पाकिस्तान के कई हालिया सीरीज़ रद्द हो चुके हैं और उससे पहले बारिश ने कई मैचों में खलल डाल दिया था। जुलाई के महीने में वेस्टइंडीज़ को एक मैच में हराने में पाकिस्तान की टीम सक्षम रही थी। हालांकि जब कोरोना काल में उन्होंने इंग्लैंड का दौरा किया तो उन्हें 2-1 से हार का सामना करना पड़ा था। इसके बाद वह साउथ अफ़्रीका और ज़िम्बाब्वे को हराने में क़ामयाब रहे थे।

बल्लेबाज़ी

पाकिस्तान का ऊपरी क्रम काफ़ी मज़बूत दिखाई देता है। रिज़वान अभी ऐसे फ़ॉर्म में चल रहे हैं जहां वह सिर्फ़ रिकॉर्ड तोड़ने का काम कर रहे हैं। वहीं बाबर निरंतर बढ़िया प्रदर्शन करने में क़ामयाब रहे हैं। हालांकि मिडिल ओवर और अंतिम ओवरों में तेज़ी से रन बनाने वाले बल्लेबाज़ों की कमी साफ़ दिखाई देती है।

गेंदबाज़ी

शाहीन, हसन और रउफ़ का तेज़ गेंदबाज़ी आक्रमण काफ़ी बढ़िया दिख रहा है। हालांकि यूएई में पिच तेज़ गति के अनुकूल होगी या नहीं यह एक खुला प्रश्न रहेगा। मोहम्मद वसीम तुरुप का इक्का साबित हो सकते हैं। वह पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) के दौरान डेथ ओवरों में प्रभावशाली दिखे थे। स्पिन गेंदबाज़ी के मामले में पाकिस्तान के पास इमाद वसीम हैं जो पारी की शुरुआत में गेंदबाज़ी करने में सक्षम हैं। उनका साथ देंगे लेग स्पिनर शादाब ख़ान। हालांकि शादाब का हालिया फ़ॉर्म कुछ ज़्यादा सही नहीं रहा है। भले ही पाकिस्तानी टीम में मोहम्मद नवाज़ और शोएब मलिक भी गेंदबाज़ी कर सकते हैं लेकिन उनके पास गुणवत्तापूर्ण स्पिन आक्रमण नहीं है।

इन पर होगी नज़र

आज़म ख़ान और सोहेब मक़सूद की संभावित पावर-हिटिंग से वंचित बल्लेबाज़ी क्रम में, हैदर अली के लिए यह एक उपयुक्त समय होगा कि वह उस फ़ॉर्म को प्रदर्शित करें जिसने उन्हें इस स्तर तक पहुंचाया है । पिछले साल के पीएसएल में वह अच्छी बल्लेबाज़ी कर रहे थे। हाल ही में समाप्त हुए राष्ट्रीय टी20 कप में वह पांचवें सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी थे। वहां उन्होंने 63.40 की औसत और 146.75 के स्ट्राइक रेट से बल्लेबाज़ी की थी।

बड़ा सवाल

क्या यह तथ्य पाकिस्तान को इस टी20 विश्व कप में पंसदीदा टीम बनाने के लिए काफ़ी है कि यह टूर्नामेंट यूएई में हो रहा है? वास्तविकता कुछ बिंदुओं पर आधारित होनी चाहिए, इसलिए यह भी स्वीकार करने योग्य है कि पाकिस्तान ने पिछले कुछ महीनों में दो बार मुख्य कोच बदले हैं, और बहुत से खिलाड़ी अपने करियर के शिखर पर नहीं हैं जैसा वह 2016 से 2018 के बीच थे। पाकिस्तान की किस्मत पर भी पिच का बहुत बड़ा प्रभाव पड़ेगा।

संभावित प्लेइंग XI

1 मोहम्मद रिज़वान (विकेटकीपर) 2 बाबर आज़म (कप्तान) 3 फ़ख़र ज़मान 4 हैदर अली 5 मोहम्मद हफ़ीज़ 6 मोहम्मद नवाज़/आसिफ़ अली 7 शादाब ख़ान 8 हसन अली 9 इमाद वसीम 10 मोहम्मद वसीम/ हारिस रउफ़ 11 शाहीन अफ़रीदी

दन्याल रसूल ESPNcricinfo के सब एडिटर हैं, अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब ए़डिटर राजन राज ने किया है।