मैच (5)
न्यूज़ीलैंड, इंग्लैंड में (1)
बांग्लादेश, वेस्टइंडीज़ में (1)
भारतीय महिला टीम, श्रीलंका में (1)
भारत, इंग्लैंड में (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (1)
ख़बरें

किरण, जेमिमाह और एस मेघना ने दिखाया भारतीय महिला क्रिकेट का आक्रामक रूप

ये पारियां भारत के आगामी अंतर्राष्ट्रीय कैलेंडर के लिए भी महत्वपूर्ण हैं

Kiran Navgire swats one away, Trailblazers vs Velocity, Women's T20 Challenge, Pune, May 26, 2022

किरण नवगिरे के शॉट देखने लायक थे  •  BCCI

किरण नवगिरे के लिए यह फ़र्क नहीं पड़ता कि पिछली गेंद पर विकेट गिरा है, अगर गेंद उनके पाले में आती है तो वह पहली ही गेंद पर छक्का लगाएंगी। इस युवा बल्लेबाज़ ने इस घरेलू सीज़न की सात टी20 पारियों में 35 छक्के जड़े हैं। गुरुवार को उन्होंने महिला टी20 चैलेंज में पदार्पण करते हुए 34 गेंदों में 69 रन की पारी खेली और अपनी टीम वेलॉसिटी को फ़ाइनल तक पहुंचा दिया।
उनकी बल्लेबाज़ी को देखकर विपक्षी कप्तान स्मृति मांधना भी उनकी तारीफ़ करने से ख़ुद को रोक नहीं सकीं। मांधना ने कहा, "जिस तरह से नवगिरे ने बल्लेबाज़ी की, उन्होंने हमारे फ़ाइनल तक पहुंचने के सपने को चूर-चूर कर दिया। एक विपक्षी कप्तान और खिलाड़ी के रूप में उनके छक्के देख के तो मैं दुःखी थी लेकिन एक भारतीय के रूप में मुझे ख़ुशी हुई कि एक भारतीय बल्लेबाज़ बड़े मंच पर उभर रही है।"
तीन दिन पहले साउथ अफ़्रीकी खिलाड़ी लॉरा वुलफ़ार्ट ने भी नवगिरे की तारीफ़ करते हुए कहा था, "मैं उन्हें नेट्स में लगातार देख रही हूं। वह बहुत लंबे छक्के लगाती हैं। मैंने महिला क्रिकेट में कभी इतनी जबरदस्त पावर-हिटिंग नहीं देखी है।"
एक तरफ़ नवगिरे तो दूसरी तरफ़ एस मेघना और जेमिमाह रॉड्रिग्स ने बल्ले से शानदार प्रदर्शन किया। नवगिरे की तरह मेघना का भी यह डेब्यू टी20 चैलेंज मैच था। उन्होंने रॉड्रिग्स के साथ मिलकर अपनी टीम ट्रेलब्लेज़र्स को तेज़ शुरुआत दी और टूर्नामेंट की सर्वश्रेष्ठ 190 रन की पारी तक पहुंचाया।
उन्होंने क्रीज़ का बेहतरीन ढंग से इस्तेमाल किया और आगे निकलते हुए चार चौके और सात छक्के जड़े। उन्होंने रॉड्रिग्स के साथ 113 रन की साझेदारी की। जेमिमाह भी इस मैच में कमाल की फ़ॉर्म में नज़र आईं और 44 गेंदों में सात चौके और एक छक्के की मदद से 66 रन बनाए।
मैच के बाद प्लेयर ऑफ़ द मैच जेमिमाह ने कहा, "मुझे पता था कि मैं ऐसा कर सकती हूं। जिस तरह से मेघना ने अपना खेल दिखाया, वह क़ाबिल-ए-तारीफ़ है। हम लोग एक दूसरे को मैदान में सपोर्ट कर रहे थे। जब वह गेंद को मार रही थी तब मैं स्ट्राइक रोटेट कर रही थी और जब मैंने हाथ खोले तब उसने भी मेरा सहयोग किया। यह पारी मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। पिछले कुछ महीने मेरे लिए आसान नहीं थे। लेकिन मैं समझती हूं कि यही जीवन है और इससे ही आप मज़बूत होते हैं।"
गौरतलब है कि जेमिमाह को हाल ही में ख़त्म हुए विश्व कप टीम में जगह नहीं मिली थी। जब उनसे पूछा गया कि क्या वह इस पारी के बाद कॉमनवेल्थ टीम में अपनी जगह देखती हैं तो जेमिमाह ने कहा, "ईमानदारी से बताऊं तो मैं भविष्य के बारे में अधिक नहीं सोचती हूं। हां, मैं अपनी सर्वश्रेष्ठ फ़ॉर्म में रहना चाहती हूं ताकि रन बनाकर मैं भारतीय टीम में वापसी कर सकूं।"
भारत को इस टूर्नामेंट के बाद जून में श्रीलंका के ख़िलाफ़ द्विपक्षीय सीरीज़ खेलना है। इसके बाद जुलाई-अगस्त में बर्मिंघम में कॉमनवेल्थ गेम्स होने वाले हैं, जहां पर महिला क्रिकेट और टी20 मैचों का डेब्यू होगा।

ऑन्नेशा घोष फ़्रीलांस पत्रकार हैं