ख़बरें

जल्द साफ़ होगी साउथ अफ़्रीका दौरे की तस्वीर : कोहली

बीसीसीआई के अनुसार फ़िलहाल तो यह दौरा होगा लेकिन इस पर अंतिम निर्णय भारत सरकार लेगी

भारतीय खिलाड़ियों को भरोसा है कि उन्हें साउथ अफ़्रीका दौरे के बारे में एक या दो दिन या बहुत जल्द पूरी स्पष्टता मिल जाएगी। यह कहना है टीम के टेस्ट और वनडे कप्तान विराट कोहली का। वह न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ सीरीज़ के दूसरे और अंतिम टेस्ट मैच से पहले पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। मुंबई टेस्ट सात दिसंबर को ख़त्म होगा और उसके तुरंत बाद भारत को 17 दिसंबर से शुरू हो रही साउथ अफ़्रीका सीरीज़ के लिए रवाना होना है।
हालांकि साउथ अफ़्रीका में कोविड-19 के नए ओमिक्रॉन वेरियंट के चलते स्थिति बदलती जा रही है। विशेष रूप से वहां के गौटेंग प्रांत में पॉज़िटिव मामलों में तेज़ी से बढ़ोतरी हो रही है और लोग अस्पताल में दाखिल हो रहे हैं। भारत को अपने पहले दो टेस्ट मैच इसी प्रांत में खेलने है। साउथ अफ़्रीका में वनडे सीरीज़ खेल रही नीदरलैंड्स ने यात्रा प्रतिबंधों को ध्यान में रखते हुए अपनी टीम को वापस बुला लिया है। इन सबके बीच इंडिया ए टीम ने अपना साउथ अफ़्रीका जारी रखा है जिससे क्रिकेट साउथ अफ़्रीका को उम्मीद है कि टीम इंडिया दौरे पर आएगी।
कोहली ने कहा, "देखिए यह [उनके लिए आश्चर्य और चिंता करना और इस बारे में बात करना कि क्या दौरा आगे बढ़ेगा और प्रोटोकॉल क्या होंगे] बहुत स्वाभाविक है। हम सामान्य परिस्थिति में नहीं खेल रहे हैं। इसमें बहुत सारी योजनाएं और तैयारी शामिल है। कुछ ऐसे खिलाड़ी भी हैं जो इस समय समूह का हिस्सा नहीं है और चार्टर प्लेन में साउथ अफ़्रीका की उड़ान भरने से पहले टीम बबल में जुड़ने के लिए क्वारंटीन रहेंगे। यह ऐसी चीज़ें है जिनपर आप जल्द से जल्द स्पष्टता चाहते हैं। इसलिए हमने टीम के सभी वरिष्ठ सदस्यों से बात की। राहुल भाई ने टीम के भीतर यह बातचीत शुरू की जो अच्छी बात है।"
दूसरे टेस्ट मैच के विषय पर कोहली ने कहा, "हमारा ध्यान टेस्ट मैच से नहीं हटेगा। ज़ाहिर है कि आप स्पष्टता चाहते हैं और ऐसी स्थिति में होना चाहते है जहां आपके पास चल रही गतिविधियों की जानकारी हो। हम बोर्ड से बात कर रहे हैं और हमें आत्मविश्वास है कि एक या दो दिनों के भीतर या बहुत जल्द हमें पता चल जाएगी कि आख़िर हो क्या रहा है।"
उन्होंने आगे कहा, "हालांकि हमें यथार्थवादी भी होना चाहिए। हम उन चीज़ों को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते हैं जो संभावित रूप से हमें भ्रमित कर सकती हैं। मुझे यक़ीन है कि हर कोई स्पष्टता पाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है और जितनी जल्दी हो सके हमें सूचित कर रहा है। अभी हमारा ध्यान दूसरे टेस्ट पर केंद्रित है और साथ ही अन्य चीज़ों का भी ध्यान रखा जा रहा है।"
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने कहा है कि फ़िलहाल तो यह दौरा होगा लेकिन इस पर अंतिम फ़ैसला भारत सरकार लेगी। हालांकि बोर्ड को खिलाड़ियों को साथ लेकर चलना होगा। याद रहें कि खिलाड़ियों ने ओल्ड ट्रैफ़र्ड में अंतिम टेस्ट नहीं खेलने का निर्णय लिया था जब टीम के सहयोगी स्टाफ़ में कोरोना पॉज़िटिव मामले थे। आईपीएल 2020 से लेकर अब तक वह सभी बायो-बबल में रहकर लगातार क्रिकेट खेल रहे हैं।
क्रिकेट साउथ अफ़्रीका (सीएसए) भारत के फ़ैसले का बेसब्री से इंतज़ार कर रहा है क्योंकि टीम इंडिया के दौरे से हाथ धोना उन्हें आर्थिक रूप से महंगा पड़ सकता है। ऐसी खबरें आ रही थीं कि भारत ने दौरे को एक सप्ताह पीछे धकेलने के लिए कहा होगा ताकि वे ओमिक्रॉन की थोड़ी और निगरानी कर फिर कोई निर्णय ले सकें, लेकिन सीएसए ने इस तरह की किसी भी बातचीत से इनकार किया। सीएसए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने कहा, "बीसीसीआई के साथ ऐसी कोई चर्चा नहीं हुई है, इसलिए यह पूरी तरह से अटकलें हैं।"

सिद्धार्थ मोंगा ESPNcricinfo में असिस्टेंट एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर अफ़्ज़ल जिवानी ने किया है।