मैच (8)
बांग्लादेश बनाम भारत (1)
वेस्टइंडीज़ बनाम इंग्लैंड (1)
न्यूज़ीलैंड बनाम बांग्लादेश (1)
एलपीएल (2)
बांग्लादेश ए बनाम इंडिया ए (1)
भारत अंडर-19 बनाम न्यूज़ीलैंड अंडर-19 (1)
विश्व कप लीग 2 (1)
ख़बरें

जब डरकर नहीं खेलेंगे केएल राहुल तो स्‍ट्राइक रेट 180 का भी जाएगा : वॉटसन

ऑस्‍ट्रेलिया के पूर्व ऑलराउंडर ने बुमराह की अनुपस्थिति में टी20 विश्‍व कप में सिराज को टीम में शामिल करने की बात कही

KL Rahul saw through a tough spell early on, India vs South Africa, 1st T20I, Thiruvananthapuram, September 28, 2022

पिछले कुछ समय से स्‍ट्राइक रेट नहीं बढ़ा पा रहे हैं केएल राहुल  •  Associated Press

ऑस्‍ट्रेलिया के पूर्व ऑलराउंडर शेन वॉटसन चाहते हैं कि आगामी टी20 विश्‍व कप में केएल राहुल इस सोच के साथ खेलें कि उनके पास खोने को कुछ नहीं है। उनका मानना है कि जब वह इस सोच के साथ खेलेंगे तब उनका सर्वश्रेष्‍ठ निकलकर आएगा। एशिया कप और साउथ अफ़्रीका के ख़‍िलाफ़ सीरीज़ में राहुल का स्‍ट्राइक रेट सभी की नज़रों में है। साउथ अफ़्रीका के ख़‍िलाफ़ पहले टी20 में जब भारत मात्र 107 रनों का पीछा कर रही थी तब भी राहुल के इरादे पर सवाल उठे जहां वह 56 गेंद में नाबाद 51 रन बना सके।
पीटीआई से बातचीत में वॉटसन ने कहा कि आगामी विश्‍व कप में राहुल को पहली ही गेंद से आक्रामक होना होगा।
उन्‍होंने कहा, "केएल राहुल मेरे पसंदीदा बल्‍लेबाज़ों में से एक हैं। मेरे लिए जब वह अपने सर्वश्रेष्‍ठ पर बल्‍लेबाज़ी करते हैं, जब आक्रामक होकर बल्‍लेबाज़ी करते हैं तो वह गेम को चलाते हैं ना कि गेम को कंट्रोल करते हैं। उनके पास वह कौशल है जहां पर वह पहली ही गेंद से दुनिया के सर्वश्रेष्‍ठ गेंदबाज़ों पर शॉट लगा सकते हैं।"
उन्‍होंने कहा, "मुझे उन्‍हें तब देखना पसंद हैं जब वह महसूस करते हैं कि उनके पास खोने को कुछ नहीं है, तब उनका स्‍ट्राइक रेट 180 तक भी जा सकता है। अगर वह ऐसा करने में क़ामयाब रहे तो कई गेंदबाज़ मुश्किल में होंगे।"
वॉटसन इस समय लेजेंड्स क्रिकेट लीग खेलने के लिए भारत में मौजूद हैं। विश्‍व कप में भारत की तेज़ गेंदबाज़ी भी चिंता का विषय है, क्‍योंकि जसप्रीत बुमराह के चोटिल होने की वजह से उनके विश्‍व कप में भाग लेने पर स‍वालिया निशान है।
वॉटसन को लगता है कि अगर बुमराह विश्‍व कप में नहीं जाते हैं तो उनकी जगह मोहम्‍मद सिराज को जाना चाहिए।
उन्‍होंने कहा, "भारत के पास ऐसे बल्‍लेबाज़ हैं जो ऑस्‍ट्रेलिया में अच्‍छा कर सकते हैं लेकिन सवाल उनकी तेज़ गेंदबाज़ी पर है। स्पिनर अक्षर पटेल और युज़वेंद्र चहल दुनिया की किसी भी पर‍िस्थिति में सर्वश्रेष्‍ठ हैं, लेकिन तेज़ गेंदबाज़ी ख़ासकर बुमराह के बिना दबाव में बिखर सकती है। यहीं पर भारत की समस्‍या खुलकर सामने आ सकती है। भारत को ऐसे गेंदबाज़ की ज़रूरत है जो बुमराह की अनुपस्थिति में 140 किमी प्रति घंटा की गति से गेंदबाज़ी कर सके।"
"कम गति चिंता का विषय है इसी वजह से अगर बुमराह नहीं जाते हैं तो उनकी जगह सिराज को होना चाहिए। वह जिस गति पर गेंदबाज़ी करते हैं और जो कौशल उनके पास है उससे वह नई गेंद से 150 किमी प्रति घंटा तक भी निकाल सकते हैं और डेथ ओवरों में भी वह कमाल कर सकते हैं। उनके पास एक ऐसा कौशल है जो अन्‍य भारतीय गेंदबाज़ों के पास नहीं है।"
वॉटसन ने साथ ही हार्दिक पंड्या की भी अहमियत पर बात की। वॉटसन ने उनकी तारीफ़ करते हएु कहा कि वह भारत के लिए हर मैच में एक बड़ा प्रभाव छोड़ सकते हैं। चोट के बाद वापसी के बाद से हार्दिक बल्‍ले और गेंद दोनों से कमाल कर रहे हैं।
उन्‍होंने कहा, "मेरे लिए इससे अच्‍छा कुछ नहीं कि जब मैं किसी ऑलराउंडर को अच्‍छी गति से गेंदबाज़ी करता देखता हूं। जिस तरह से उन्‍होंने अपने शरीर पर काम किया है और जिस तरह से वह गेंदबाज़ी कर रहे हैं वह बहुत ख़ास है। वह मैच विजेता है। जब भी वह गेंदबाज़ी करते हैं तो वह प्रभाव डाल सकते हैं। वहीं उनकी बल्‍लेबाज़ी में अच्‍छी फ़ॉर्म सभी के सामने है। सभी जानते थे कि उनके पास मध्‍य ओवरों में बल्‍लेबाज़ी करने की अच्‍छी तकनीक है और वह केवल एक पॉवर हिटर नहीं है। उन्‍होंने वह दिखाया है और अब वह 140 से ज्‍़यादा की गति से गेंदबाज़ी भी कर रहे हैं।"