मैच (6)
एशिया कप (4)
त्रिकोणीय सीरीज़ (1)
ऑस्ट्रेलिया बनाम वेस्टइंडीज़ (1)
फ़ीचर्स

रेटिंग्स : धवन और गिल रहे अव्वल नंबर पर

चोट से वापसी कर रहे दीपक चाहर ने किया प्रभावित

Shikhar Dhawan scored his 38th ODI fifty, Zimbabwe vs India, 1st ODI, Harare, August 18, 2022

धवन और गिल ने भारत को बिना किसी नुक़सान के सफलतापूर्वक लक्ष्य तक पहुंचा दिया  •  Associated Press

2016 के बाद अपने पहले ज़िम्बाब्वे दौरे की शुरुआत भारत ने 10 विकेटों की एक दमदार जीत के साथ की। केएल राहुल के नेतृत्व में भारतीय टीम ने विपक्षी टीम को पहली गेंद से परेशान किया और कभी जीत के पास आने भी नहीं दिया। आइए देखते हैं कि इस मैच में भारतीय एकादश के खिलाड़ियों को कितने अंक मिलते हैं।
क्या सही और क्या ग़लत?
भारतीय टीम के दृष्टिकोण से लगभग सभी चीज़ें सही रही। अक्षर पटेल ने वेस्टइंडीज़ में दिखाई फ़ॉर्म को बरक़रार रखा तो वहीं शुभमन गिल और शिखर धवन की जोड़ी ने रन बटोरे। और तो और चोट से वापसी कर रहे दीपक चाहर ने तीन विकेट लेकर अपनी स्विंग गेंदबाज़ी का प्रदर्शन किया।
अगर कोई चीज़ भारत के पक्ष में नहीं गई तो वह यह कि राहुल को बल्लेबाज़ी करने का अवसर नहीं मिला। 2016 में उन्होंने इसी मैदान पर वनडे डेब्यू करते हुए शतक जड़ा था और वह रन बनाकर वापसी करना चाहते थे।
प्लेयर रेटिंग्स (1 से 10, 10 सर्वाधिक)
शिखर धवन, 9.5 : टीम के उपकप्तान धवन की जितनी प्रशंसा की जाए उतनी कम है। पहले फ़ील्डिंग के दौरान उन्होंने स्लिप में रहकर दो शानदार कैच लपके। इसके बाद बल्ले के साथ उन्होंने फिर एक बार सभी को बताया कि क्यों वह भारतीय वनडे टीम के नियमित सदस्य हैं। 113 गेंदों का सामना करते हुए धवन ने एक परिपक्व वनडे पारी खेली और नाबाद 81 रन बनाए। हालांकि उन्हें जीवनदान मिला जब स्क्वेयर लेग पर उनका कैच टपकाया गया और फिर एक मौक़े पर गिल के साथ उनके तालमेल में कमी दिखाई दी। इसके चलते उनका आधा अंक कट गया।
शुभमन गिल, 10 : गुरुवार को गिल वह खिलाड़ी थे जिसने 100 प्रतिशत अंकों के साथ परीक्षा पार की। धवन की तरह गिल ने भी दो कैच लपके। फिर बल्लेबाज़ी के दौरान उन्होंने धीमी शुरुआत के बावजूद संयम बनाए रखा और फिर सही गेंदों का चुनाव करते हुए तेज़ गति से रन बटोरे। 72 गेंदों पर 82 रन बनाकर वह नाबाद रहे।
इशान किशन,कोई रेटिंग नहीं : भारतीय टीम से अंदर-बाहर हो रहे इशान को बल्लेबाज़ी के मौक़े की तलाश रही होगी लेकिन धवन और गिल ने ऐसा होने नहीं दिया। फ़ील्डिंग के दौरान भी इशान ने कोई अविश्वसनीय प्रदर्शन नहीं किया।
केएल राहुल, 7.5 : यह बतौर कप्तान राहुल की केवल दूसरी पूर्ण सीरीज़ है। उन्होंने पहले मैच में अपनी कप्तानी से प्रभावित किया। जब दीपक अच्छी लय में गेंदबाज़ी कर रहे थे तो उन्हें एक लंबा स्पेल दिया गया। बाद में जब ज़िम्बाब्वे का निचला क्रम रन बटोर रहा था, उन्होंने अक्षर को वापस बुलाया और पारी को समेटा।
संजू सैमसन, 5 : बल्ले के साथ तो सैमसन की बारी नहीं आई लेकिन उनके पास विकेटों के पीछे अपना योगदान देने का अवसर था। हालांकि वह अपने सर्वश्रेष्ठ पर नहीं दिखे और उन्होंने कई ग़लतियां की जिसके चलते ज़िम्बाब्वे के स्कोर में इज़ाफ़ा हुआ।
दीपक हुड्डा, कोई रेटिंग नहीं : इशान, राहुल और सैमसन की तरह हुड्डा को भी बल्लेबाज़ी करने का अवसर नहीं मिला। इसके अलावा गेंदबाज़ों की धारदर गेंदबाज़ी के कारण कप्तान ने उनकी ऑफ़ स्पिन का भी इस्तेमाल नहीं किया।
अक्षर पटेल, 9 : अपनी तेज़ गति की स्पिन गेंदबाज़ी से अक्षर ने यह सुनिश्चित किया कि ज़िम्बाब्वे के बल्लेबाज़ ज़्यादा समय तक क्रीज़ पर टिक नहीं पाएं। पहले उन्होंने विपक्षी कप्तान को चलता किया। फिर ल्यूक जॉन्गवे को पवेलियन भेजकर उन्होंने साझेदारी को तोड़ा। 24 रनों पर तीन विकेट लेकर वह भारत के सबसे बढ़िया गेंदबाज़ साबित हुए।
दीपक चाहर, 9 : दीपक के लिए यह मैच बहुत महत्वपूर्ण था। पिछले कुछ महीनों में जब वह भारतीय टीम से बाहर थे, वनडे तथा टी20 अंतर्राष्ट्रीय टीम में उनकी जगह अन्य गेंदबाज़ों ने ले ली थी। उन्हें दमदार वापसी करनी थी और नई गेंद को दोनों तरफ़ स्विंग करवाते हुए उन्होंने ठीक वैसा ही किया। सात ओवरों के अपने लंबे स्पेल में दीपक ने तीन विकेट झटके और भारत को शानदार शुरुआत दिलाई।
कुलदीप यादव, 7 : इस भारतीय गेंदबाज़ी क्रम में कुलदीप अपना कोटा पूरा करने वाले इकलौते गेंदबाज़ थे। इसके बावजूद उन्हें खाली हाथ लौटना पड़ा। उन्होंने अपनी गति में मिश्रण किया लेकिन वह ज़िम्बाब्वे के निचले क्रम को भी परेशान नहीं कर पाए।
मोहम्मद सिराज, 8 : दीपक के साथ गेंदबाज़ी की शुरुआत करने वाले सिराज ने भी शानदार गेंदबाज़ी। उन्होंने कई मौक़ों पर बल्लेबाज़ों को बीट किया और दो मेडन ओवर भी डाले। हालांकि भाग्य सिराज के साथ नहीं था और उन्हें केवल एक सफलता मिली। किसी और दिन वह ऐसी गेंदबाज़ी करने पर चार-पांच विकेट अपने नाम कर जाते।
प्रसिद्ध कृष्णा, 8 : अक्षर और दीपक की तरह प्रसिद्ध ने भी तीन विकेट झटके। हालांकि वह काफ़ी महंगे साबित हुए। प्रसिद्ध को मिडिल ओवरों में विकेट झटकने के इरादे से टीम में चुना गया था और उन्होंने वह काम बख़ूबी पूरा किया।

अफ़्ज़ल जिवानी (@jiwani_afzal) ESPNcricinfo हिंदी में सब एडिटर हैं।