मैच (10)
साउथ अफ़्रीका त्रिकोणीय सीरीज़ (1)
एसए20 (1)
आईएलटी20 (1)
बीबीएल (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
भारत बनाम न्यूज़ीलैंड (1)
साउथ अफ़्रीका बनाम इंग्लैंड (1)
ख़बरें

अगले पांच वर्षों तक अफ़ग़ानिस्तान के घरेलू मुक़ाबलों की मेज़बानी करेगा यूएई

अनुबंध की अवधि तक अफ़ग़ानिस्तान हर वर्ष यूएई के साथ तीन मैचों की टी20 अंतर्राष्ट्रीय सीरीज़ खेलेगा

इससे पहले एसीबी और बीसीसीआई के बीच भी 2015 में एक अनुबंध हुआ था  •  Abu Dhabi Cricket

इससे पहले एसीबी और बीसीसीआई के बीच भी 2015 में एक अनुबंध हुआ था  •  Abu Dhabi Cricket

अगले पांच वर्षों तक अफ़ग़ानिस्तान अपने घरेलू मुक़ाबले यूएई में खेलेगा। अफ़ग़ानिस्तान क्रिकेट बोर्ड और अमीरात क्रिकेट बोर्ड के बीच इस संबंध में एक अनुबंध पर हस्ताक्षर हुआ है। अनुबंध के अनुसार इस अवधि में अफ़ग़ानिस्तान हर साल यूएई के साथ तीन टी20 मैचों की सीरीज़ खेलनी होगी।
एसीबी के एक बयान के मुताबिक़ ईसीबी इस दौरान वीज़ा सहायता, कार्यालय के लिए जगह सहित तमाम ज़रूरी सहायता मुहैया कराएगा।
2021 में स्थापित हुई तालिबानी हुकूमत के बाद अफ़ग़ानिस्तान के मौजूदा हालात को देखते हुए अंतर्राष्ट्रीय टीमें वहां जाकर खेलने से कतरा रही हैं। एसीबी के कई ऐसे अधिकारी थे जो मुल्क में आए परिवर्तन के बाद देश छोड़कर चले गए थे। इसके बाद अफ़ग़ानिस्तान में रहने वाले खिलाड़ियों के लिए विदेश में खेलने के लिए वीज़ा प्राप्त करना एक बड़ी चुनौती बन गया। नतीजतन बोर्ड ने लगभग दो दर्जन खिलाड़ियों के लिए यूएई की रेज़ीडेंसी वीज़ा की व्यवस्था की।
आईसीसी के आगामी आयोजनों को देखते हुए अगले साल होने वाले वनडे विश्व कप से पहले अफ़ग़ानिस्तान को ऑस्ट्रेलिया, पाकिस्तान और वेस्टइंडीज़ के ख़िलाफ़ तीन-तीन वनडे मैचों की मेज़बानी करनी है। इसके साथ ही उन्हें ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ़ भी तीनों प्रारूपों की क्रिकेट खेलनी है। यूएई में यह सभी मुक़ाबले अबू धाबी, दुबई और शारजाह में आयोजित किए जा सकते हैं।
ईसीबी के सचिव मुबाशिर उस्मानी ने बताया, "दोनों ही बोर्ड के बीच ताल्लुकात काफ़ी अच्छे रहे हैं और हम यूएई में क्रिकेट खेलने देने के लिए उनका समर्थन करते हैं। इसके अलावा हम हर साल यूएई के साथ टी20 सीरीज़ खेलने के लिए अफ़ग़ानिस्तान क्रिकेट बोर्ड की हामी के शुक्रगुज़ार हैं। इससे हमारी टीम को अंतराष्ट्रीय क्रिकेट के स्तर पर अनुभव प्राप्त होने के साथ साथ यह हमारे विकास के लिए भी मददगार सिद्ध होगा।"
इससे पहले एसीबी ने 2015 में बीसीसीआई के साथ भी एक अनुबंध किया था जिसमें उन्हें दिल्ली के बाहरी क्षेत्र ग्रेटर नोएडा में अपने घरेलू मुक़ाबलों की मेज़बानी करने की अनुमति दी गई थी।