मैच (15)
IPL (3)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (2)
Women's Tri-Series (1)
फ़ीचर्स

रेटिंग्स : पहले वनडे में स्मृति और हरमनप्रीत का परफ़ेक्ट 10, झूलन की अद्भुत गेंदबाज़ी

इंग्लैंड के ख़िलाफ़ पहले वनडे में हर विभाग में भारतीय टीम ने मारी बाज़ी

स्मृति मांधना की 91 रन की पारी ने मैच को एकतरफ़ा बना दिया  •  Getty Images

स्मृति मांधना की 91 रन की पारी ने मैच को एकतरफ़ा बना दिया  •  Getty Images

टी20 सीरीज़ में भले ही भारत को हार मिली हो लेकिन वनडे सीरीज़ की शुरुआत टीम इंडिया ने होव में बॉस की तरह की। जहां भारतीय महिला टीम हर विभाग में इंग्लैंड से 20 रही, जिसका सबूत स्कोर बोर्ड पर भारत की 34 गेंद शेष रहते 7 विकेट से जीत दे रही है। स्मृति मांधना की शानदार 91 रन की पारी, कप्तान हरमनप्रीत का नाबाद अर्धशतक और गेंद से दीप्ति शर्मा और अनुभवी झूलन गोस्वामी का लाजवाब प्रदर्शन इस मैच की कुछ बेहतरीन यादें रहीं।

क्या सही और क्या ग़लत

भारत के लिए आज के मैच में ज़्यादातर चीज़ें पॉज़िटिव ही रहीं। गेंद और बल्ले से तो टीम इंडिया ने टी20 सीरीज़ में भी छाप छोड़ी थी, इस मैच में फ़ाल्डिंग में भी भारतीय खिलाड़ियों का प्रदर्शन उत्साहवर्धक था, जिसकी नींव कप्तान हरमनप्रीत ने ही एक लाजवाब कैच के साथ रखी थी।

प्लेयर रेटिंग्स (1 से 10, 10 सर्वाधिक)

स्मृति मांधना, 10: लक्ष्य बड़ा नहीं था लेकिन भारत ने शेफ़ाली वर्मा के तौर पर दूसरे ओवर में ही विकेट गंवा दी थी, वहां से स्मृति ने पहले पारी को संवारा और फिर नज़रें जम जाने के बाद अपने चिर परिचित अंदाज़ में विकेट के चारों ओर ख़ूबसूरत शॉट्स का मुज़ाहिरा पेश किया। हालांकि मांधना 9 रन से शतक ज़रूर चूक गईं लेकिन भारत को जीत दिलाने के लिए यहां वह एक अंक भी नहीं चूकीं हैं और उन्हें मिला है परफ़ेक्ट टेन।
हरमनप्रीत कौर, 10: सिर्फ स्मृति ही नहीं कप्तान हरमनप्रीत ने पहले अपनी कप्तानी, शानदार कैच, बेहतरीन गेंदबाज़ी परिवर्तन किए, जिसका उदाहरण हरलीन देओल को चौथे स्पिनर के तौर पर गेंद देना भी था। हरलीन ने विकेट भी निकाली और फिर हरमनप्रीत ने बल्ले से लाजवाब अर्धशतक के साथ ये सुनिश्चित किया कि उन्हें भी 10 में 10 अंक मिलने ही चाहिए।
यास्तिका भाटिया, 8.5: यास्तिका की बल्लेबाज़ी में एक बार फिर तकनीक के साथ साथ टाइमिंग का शानदार समावेष दिखा। शेफ़ाली के दूसरे ओवर में ही आउट होने के बाद आई यास्तिका ने स्मृति को वह ज़रूरी साथ दिया जो समय की दरकार थी। हालांकि उनसे उम्मीद थी कि वह अपनी अर्धशतकीय पारी के बाद एक बड़े स्कोर की ओर देखतीं।
झूलन गोस्वामी, 9: झूलन भले ही अपनी आख़िरी सीरीज़ खेल रहीं हों लेकिन उन्होंने साबित किया कि वह भारतीय महिला टीम की एक पहचान क्यों मानी जाती हैं। गेंद से वही धार और किसी भी इंग्लिश बल्लेबाज़ को खुलकर खेलने की आज़ादी उन्होंने नहीं दी। झूलन के 10 ओवर में सिर्फ़ 20 रन देना दर्शाता है कि उनके सामने किस क़दर इंग्लिश बल्लेबाज़ दयनीय नज़र आ रहीं थीं। झूलन ने एक विकेट भी अपनी झोली में डाला।
दीप्ति शर्मा, 8 : दीप्ति ने अहम मौक़ों पर इंग्लिश बल्लेबाज़ों की विकेट लेते हुए ये सुनिश्ति किया कि इंग्लैंड कभी भी वापसी न कर पाए। 34वें ओवर में वायट और फिर 43वें ओवर में एकलस्टन का विकेट लेते हुए उन्होंने इंग्लिश पारी को मोमेंटम नहीं लेने दिया।
शेफ़ाली वर्मा, 4 : भारत की इस एक्स फ़ैक्टर के लिए होव में एक और बुरा दिन रहा, जहां धीमी पिच पर वह अपनी तेज़ बल्लेबाज़ी शुरू कर पातीं उससे पहले ही पवेलियन लौट गईं। शेफ़ाली की कोशिश रहेगी कि वह इस सीरीज़ में शानदार वापसी करते हुए भारत को टी20 सीरीज़ में मिली हार का बदला वनडे सीरीज़ जीत में अपना योगदान देते हुए करें।

सैयद हुसैन ESPNCricinfo हिंदी में मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट हैं।@imsyedhussain