मैच (9)
विश्व कप लीग 2 (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (2)
Nepal Tri-Nation (1)
PSL 2024 (2)
WPL (2)
BAN v SL (1)
फ़ीचर्स

कानपुर डायरीज़ : सचिन पर थीं नज़रें, मजमा बिन्नी ने लूटा

शहर में गणेश प्रतिमा विसर्जन के बावजूद पूरा स्टेडियम भरा हुआ था

मैच के दौरान शॉट खेलते तेंदुलकर  •  Road Safety World Series

मैच के दौरान शॉट खेलते तेंदुलकर  •  Road Safety World Series

रोड सेफ़्टी वर्ल्ड सीरीज़ के दूसरे सीज़न के पहले दिन आयोजकों की प्रमुख नज़र दर्शकों की संख्या पर थी क्योंकि पहले ही दिन सचिन तेंदुलकर और जॉन्टी रोड्स जैसे सितारे ऐक्शन में थे।
शुक्रवार को कानपुर शहर में गणेश प्रतिमा विसर्जन था, जो शनिवार को भी जारी रहा। एक बार तो ऐसा भी लगा कि पूरा शहर सड़क पर आ गया है और रंग-गुलाल व गाजे-बाजे के साथ विसर्जन यात्रा में भाग ले रहा है। उत्तर प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन (यूपीसीए) के कुछ अधिकारी भी मोतीझील जाने की योजना बना रहे थे। वहीं टूर्नामेंट के ऑनलाइन टिकट पार्टनर ने घोषणा की कि जितने भी ऑनलाइन टिकट बुक हुए हैं, उनकी वापसी की जाएगी और मैदान पर ही काउंटर लगाकर टिकट लिए जा सकेंगे।
हालांकि आयोजकों का यह डर निराधार साबित हुआ। मैच से 1.5 घंटे पहले जब दोनों टीमें अभ्यास के लिए आईं तो लगभग दो तिहाई स्टेडियम भर चुका था। वहीं जब तेंदुलकर, नमन ओझा के साथ बल्लेबाज़ी के लिए आए तो पूरा स्टेडियम पैक था। जैसे-जैसे भारतीय पारी आगे बढी, वैसे-वैसे बाक़ी बचे जगह भी भर गए और वे मैच ख़त्म होने तक बने रहे।
जहां तेंदुलकर होते हैं, वहां सुधीर गौतम का होना लाज़िमी है। सुपरफ़ैन की परिभाषा बन चुके सुधीर ने झंडा लहराकर अपने हीरो का स्वागत किया। हालांकि तेंदुलकर इस मैच में कुछ ख़ास नहीं कर सके और एक जीवनदान मिलने के बावज़ूद सिर्फ़ 16 रन पर ही पवेलियन वापस थे। सचिन के आउट होने के बाद भी सुधीर का उत्साह पूरे मैच के दौरान चरम पर था।
सुधीर के साथ आरसीबी के सबसे बड़े फ़ैन सुगुमार कुमार, शिखर धवन के जैसे दिखने वाले राम बहादुर और विराट कोहली के सबसे बड़े प्रशंसक पिंटू बेहरा भी थे। बेहरा ने अपने पूरे शरीर पर विराट का टैटू करा रखा है, इसमें उनका चेहरा, कुछ महत्वपूर्ण स्कोर, बल्लेबाज़ी करने का ऐक्शन और कुछ प्रमुख शॉट शामिल हैं। बेहरा को 2019 में अपने हीरो विराट से मिलने का मौक़ा भी मिला था। वह विराट के फ़ैन तब बने थे जब उन्होंने विराट को 2012 में होबार्ट के मैदान पर लसिथ मलिंगा को मैदान पर धोते हुए देखा था। लेकिन उनके लिए सबसे अच्छा देखा हुआ मैच इंग्लैंड के ख़िलाफ़ 2017 में कटक में था। दुर्भाग्य से उस मैच में विराट सिर्फ़ आठ रन बना पाए थे।
***
मेरे पिता ने अपने शुरुआती दिन कानपुर में ही बिताए हैं। उन्होंने बताया था कि कैसे वह अपने दोस्तों के साथ क्रिकेट देखने के लिए बाउंड्री दीवाल फांद कर जाते थे। तब ऑन डिमांड छक्के लगाने वाले सलीम दुर्रानी ग्रीन पार्क के दर्शकों के सबसे पसंदीदा खिलाड़ी हुआ करते थे।
शनिवार को स्टुअर्ट बिन्नी और यूसुफ़ पठान ने भी अपनी इस प्रतिभा का प्रदर्शन किया। भले ही बाद में बिन्नी ने कहा कि टीम का लक्ष्य 160-170 रन का था, लेकिन वह स्कोर को 200 के पार ले गए। जब-जब वह छक्के लगाते थे तब-तब स्थानीय डीजे भी लाउड म्यूज़िक लगाकर उसमें अपना तड़का छौंकता था। यूसुफ़ और बिन्नी की जोड़ी ने अंतिम 24 गेंदों में 74 रन जोड़े और पहली पारी में ही साउथ अफ़्रीका को लगभग मैच से बाहर कर दिया।

देबायन सेन ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो में सीनियर असिस्टेंट एडिटर और स्थानीय भाषाओं के प्रमुख हैं