मैच (12)
IND v ENG (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
CWC Play-off (3)
BPL 2023 (2)
PSL 2024 (1)
WPL (1)
ख़बरें

जब कैच छूटा मुझे लगा अब भारत की ख़ैर नहीं : वान दर दुसें

साउथ अफ़्रीकी बल्लेबाज़ ने श्रेयस अय्यर द्वारा ड्रॉप होने के बाद 15 गेंदों पर 45 बनाए

"ईमानदारी से कहूं तो मुझे लगा इस पिच पर 150 का स्कोर बचाव करने के लिए काफ़ी होगा।"
यह बात इशान किशन ने मैच के बाद स्टार स्पोर्ट्स ब्रॉडकास्टर बात करते हुए कही थी। वही किशन जिन्होंने अपनी अर्धशतकीय पारी की बदौलत भारतीय टीम को 211 रनों तक पहुंचाने में सबसे अहम भूमिका निभाई थी। हालांकि किशन ने ऐसा दो वजहों से कहा था। पहला यह कि नई गेंद घुमाव प्राप्त कर रही थी और दूसरा यह कि घुमाव के साथ-साथ गेंद बल्ले पर भी ठीक से नहीं आ रही थी। हालांकि इसके बाद भी भारतीय टीम ने साउथ अफ़्रीका को पीछा करने के लिए बड़ा लक्ष्य दिया था और एक समय पर दस ओवरों के बाद साउथ अफ़्रीका 86 रन पर अपने तीन विकेट गंवा चुकी थी। जिसके बाद मुक़ाबला भारतीय टीम के पक्ष में नज़र आ रहा था।
मुक़ाबले के इस मोड़ पर रासी वान दर दुसें 16 गेंदों पर 15 रन बनाकर खेल रहे थे। उनके साथ बल्लेबाज़ी कर रहे डेविड मिलर पांच गेंदों पर चार रन बनाकर खेल रहे थे। साउथ अफ़्रीका को आख़िरी दस ओवरों में जीत के लिए 126 रनों की दरकार थी जोकि टी20 अंतर्राष्ट्रीय मुक़ाबले में इस अवधि के दौरान किसी भी टीम ने हासिल नहीं किया था। लेकिन वान दर दुसें और मिलर ने घबराने की कोई ज़हमत नहीं उठाई।
वान दर दुसें ने मैच के बाद खुलासा करते हुए कहा, "जब डेविड बल्लेबाज़ी करने आए तब मैंने उनसे कहा कि आप अपनी शैली के मुताबिक बल्लेबाज़ी कर सकते हैं लेकिन मैं आख़िरी दस ओवर में दस से 12 रन प्रति ओवर बनाने के लक्ष्य से संतुष्ट हूं। हम पैनिक नहीं हुए। क्योंकि हमें पता था कि आवश्यक रन रेट के 14-15 पर जाने के बाद भी हम दाएं और बाएं हाथ के कॉम्बिनेशन के साथ छोटी बाउंड्री का भरपूर फ़ायदा उठा सकते हैं।"
उन्होंने वैसा किया भी। शानदार फ़ॉर्म में चल रहे मिलर ने हर्षल पटेल को 12वें ओवर में एक चौका और छक्का जड़ दिया। हर्षल के अगले ओवर में उन्होंने और बेहतर करते हुए एक चौका और दो छक्के जड़ डाले। भारतीय गेंदबाज़ों ने पहली पारी को ध्यान से देखा था लिहाज़ा उन्होंने उसी के मुताबिक अपनी रणनीति को अमल में लाया। भुवनेश्वर ने पारी के तीसरे और अपने दूसरे ओवर में ही तेम्बा बवूमा को पवेलियन चलता कर दिया और उन्होंने अपने पहले स्पेल में दो ओवर करते हुए सिर्फ़ सात रन खर्च किए।
जब भुवनेश्वर पारी के 15वें ओवर में दूसरी बार गेंदबाज़ी करने आए तब उन्होंने उसी रणनीति के साथ गेंदबाज़ की। लेकिन तब तक पिच बल्लेबाज़ी के लिए पूरी तरह से मुफ़ीद हो चुकी थी। मिलर ने भुवनेश्वर की लगातार दो स्लोअर गेंदों को चौका और छक्के के लिए भेज दिया। मिलर ने महज़ 22 गेंदों में अपना अर्धशतक भी पूरा कर लिया जिस वजह से साउथ अफ़्रीका अब भी खेल में बनी हुई थी। हालांकि दूसरी तरफ़ वान दर दुसें संघर्ष कर रहे थे। वह 30 गेंदों में 29 रन ही बना पाए थे। जब उन्होंने गेंद को टाइम करना शुरु भी किया तब भी गेंद सीधे फ़ील्डर को ही ढूंढ़ पा रही थी। इसके बाद क़िस्मत से उनको साथ मिला और आवेश ख़ान की गेंद पर श्रेयस अय्यर ने डीप मिडविकेट पर उनका एक आसान से कैच छोड़ दिया और एक ऐसी पारी जोकि साउथ अफ़्रीका की संभावित हार का कारण बन सकती थी एक मैच जिताऊ पारी में तब्दील हो गई।
वान दर दुसें ने कहा, "जब श्रेयस ने मेरा कैच छोड़ा तब मैंने यह सोच लिया था कि मुझे मिले इस जीवनदान की भारतीय टीम को पूरी कीमत चुकानी होगी क्योंकि लय प्राप्त करने में मुझे काफ़ी गेंद लग गए थे।" और उन्होंने ऐसा किया भी। अगली 15 गेंदों पर उन्होंने 45 रन बना डाले।
आख़िरी चार ओवरों में साउथ अफ़्रीका को जीत के लिए 56 रनों की दरकार थी और वान दर दुसें ने आईपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के लिए डेथ ओवरों के विशेषज्ञ गेंदबाज़ हर्षल पटेल को लेग साइड में छोटी बाउंड्री की तरफ़ टारगेट करना शुरु किया। हर्षल ने राउंड द विकेट गेंदबाज़ी करते हुए यॉर्कर को मिस किया और वान दर दुसें ने दोनों ही फ़ुल टॉस गेंदों को लांग ऑन औ बैकवर्ड स्क्वायर लेग के ऊपर से सीमा पर भेज दिया।
वान दर दुसें ने हर्षल के ख़िलाफ़ अपनाई रणनीति पर कहा, "मैंने उन्हें आईपीएल में काफ़ी देखा है, वह एक शानदार गेंदबाज़ हैं। उनके पास अच्छी स्लोअर गेंदें हैं, मुझे पता था कि वह दो छक्के खाने के बाद स्लोअर गेंद के लिए ही जाएंगे लेकिन कई बार आप ऐसा नहीं कर पाते। वह भी आख़िरकार एक इंसान ही हैं।"
हर्षल ने अपना कोण बदला और ओवर द विकेट आकर उन्हें ऑफ़ स्टंप के बाहर गेंदबाज़ी की। लेकिन वान दर दुसें ने क्रीज़ पर शफ़ल करते हुए एक और चौका और छक्का जड़ दिया जिसके बाद मुक़ाबला साउथ अफ़्रीका के पलड़े में झुक गया। हर्षल के महंगे ओवर के बाद साउथ अफ़्रीका को आख़िरी तीन ओवरों में अब जीत के लिए 34 रन चाहिए थे। भुवनेश्वर को आक्रमण पर लाया गया लेकिन मिलर और वान दर दुसें दोनों ही अच्छी लय में थे। पहले मिलर ने भुवनेश्वर के औवर की शुरुआत की, इसके बाद वान दर दुसें ने एक छक्का और दो चौके जड़ दिए। एक ऐसा लक्ष्य जो कि एक समय पर असंभव प्रतीत हो रहा था उसे इन दोनों बल्लेबाज़ों ने पांच गेंद शेष रहते ही अपनी टीम के नाम कर दिया।

हेमंत बराड़ ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में ए़़डिटोरियल फ़्रीलांसर नवनीत झा ने किया है।