मैच (19)
IPL (2)
PAK v WI [W] (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
WT20 WC QLF (Warm-up) (5)
CAN T20 (2)
ख़बरें

यो-यो टेस्ट में फे़ल हुए पृथ्वी शॉ

हार्दिक ने एनसीए में की गेंदबाज़ी

पिछले कुछ दिनों से शॉ एनसीए में थे  •  Delhi Capitals

पिछले कुछ दिनों से शॉ एनसीए में थे  •  Delhi Capitals

मुंबई के कप्तान और दिल्ली कैपिटल्स के बल्लेबाज़ पृथ्वी शॉ यो-यो टेस्ट में फे़ल हो गए हैं। पृथ्वी पिछले कुछ दिनों से बेंगलुरु के राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) के एक शिविर में थे। यो-यो टेस्ट में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) का निर्धारित न्यूनतम स्कोर पुरुषों के लिए 16.5 माना जाता है, और यह पता चला है कि इस फ़िटनेस टेस्ट में शॉ ने 15 से कम स्कोर किया है।
बीसीसीआई के एक सूत्र ने पीटीआई को बताया, "ये सिर्फ़ फ़िटनेस अपडेट हैं। जाहिर है कि यह पृथ्वी को आईपीएल में दिल्ली कैपिटल्स के लिए खेलने से नहीं रोक सकता है। यह सिर्फ़ एक फ़िटनेस पैरामीटर है। उन्होंने लगातार तीन रणजी मैच खेले हैं। एक बार जब आप एक के बाद एक तीन प्रथम श्रेणी मैच खेलते हैं, तो थकान आपके यो-यो स्कोर को भी प्रभावित कर सकती है।"
ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो ने अपने एक ख़बर में बताया था कि शॉ 5 मार्च से 14 मार्च के बीच एनसीए के एक शिविर में खिलाड़ियों के एक समूह का हिस्सा थे। खिलाड़ियों को अपनी आईपीएल टीमों में शामिल होने से पहले शिविर के अंत में फ़िटनेस परीक्षण से गुजरना पड़ा। शिविर के अंत में फ़िटनेस परीक्षण का उपयोग व्यस्त सत्र से पहले प्रत्येक खिलाड़ी के लिए आधारभूत अंक दर्ज करने के लिए किया जाएगा।
हार्दिक पंड्या ने एनसीए में गेंदबाज़ी किया
भारत के ऑलराउंडर और गुजरात टाइटंस के कप्तान हार्दिक पंड्या भी एनसीए में थे और वह यो-यो टेस्ट पास करने में सफल रहे। बीसीसीआई के सूत्र ने कहा, "मैं इसे स्पष्ट कर देता हूं। फ़िटनेस टेस्ट क्लीयरेंस केवल उन खिलाड़ियों के लिए है जो चोट से वापसी कर रहे हैं। हार्दिक के मामले में यह एक सामान्य फ़िटनेस मूल्यांकन प्राप्त करने के बारे में था। उन्हें एनसीए में गेंदबाज़ी करने की आवश्यकता नहीं थी, लेकिन उन्होंने काफ़ी समय तक और 135 किमी प्रति घंटे की गति से गेंदबाज़ी की है। दूसरे दिन उन्होंने 17 से अधिक स्कोर के साथ यो-यो टेस्ट को पास किया है, जो कट-ऑफ़ स्कोर से बहुत अधिक है।"
2019 के अंत में पीठ की सर्ज़री के बाद हार्दिक ने भारत के लिए काफ़ी कम गेंदबाज़ी की है, और इससे भारतीय टीम का संतुलन प्रभावित हुआ है।