मैच (14)
IND v ENG (1)
WPL (1)
BPL 2023 (2)
PSL 2024 (1)
NZ v AUS (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
विश्व कप लीग 2 (1)
CWC Play-off (3)
ख़बरें

चोट से उबरने के बाद प्रतिस्पर्धी क्रिकेट में वापसी करेंगे रवींद्र जाडेजा

रणजी ट्रॉफ़ी में सौराष्ट्र के अंतिम लीग मैच में खेलने की संभावना

जाडेजा ने पिछले साल के एशिया कप से कोई प्रतिस्पर्धी क्रिकेट नहीं खेला है  •  Associated Press

जाडेजा ने पिछले साल के एशिया कप से कोई प्रतिस्पर्धी क्रिकेट नहीं खेला है  •  Associated Press

बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफ़ी से पहले भारतीय ख़ेमे के लिए बड़ी ख़बर यह है कि प्रमुख ऑलराउंडर रवींद्र जाडेजा के फिर से प्रतिस्पर्धी क्रिकेट खेलना शुरू करने की संभावना है। वह रणजी ट्रॉफ़ी में 24 जनवरी से शुरू हो रहे सौराष्ट्र के अंतिम लीग मैच में शामिल होंगे। तमिलनाडु के विरुद्ध यह मैच चेन्नई में खेला जाएगा।
जाडेजा को दाहिने घुटने की सर्जरी करवाने के लिए पिछले साल सितंबर में एशिया कप से बाहर होना पड़ा था। इस समय बेंगलुरु में स्थिति राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) में रिहैब पूरा कर रहे जाडेजा को ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध पहले दो टेस्ट मैचों के लिए 17 सदस्यीय दल में चुना गया है। पहला टेस्ट 9 जनवरी से नागपुर में जबकि अन्य तीन टेस्ट दिल्ली, धर्मशाला और अहमदाबाद में खेले जाएंगे।
चयनकर्ताओं ने जाडेजा का चयन इस शर्त पर किया है कि एनसीए से उन्हें फ़िट करार दिया जाएगा। पता चला है कि जाडेजा ने इस हफ़्ते बल्लेबाज़ी और गेंदबाज़ी करना शुरू कर दिया है लेकिन प्रतिस्पर्धी क्रिकेट खेलने से पहले उन्हें फ़िटनेस टेस्ट से गुज़रना होगा। न केवल जाडेजा ने सितंबर से कोई प्रतिस्पर्धी क्रिकेट नहीं खेला है बल्कि उनका पिछला प्रथम श्रेणी मैच जुलाई में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ टेस्ट मैच था। एनसीए और भारतीय टीम प्रबंधन के साथ चयनकर्ताओं ने सहमति व्यक्त की कि ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज़ में उनके भाग लेने पर फ़ैसला करने से पहले जाडेजा को रणजी मैच में खेलना चाहिए।
पूरी तरह से फ़िट होने पर जाडेजा घर पर और विदेश में भारतीय टेस्ट एकादश में होते हैं। ऋषभ पंत की अनुपस्थिति में उनकी बाएं हाथ की बल्लेबाज़ी भारतीय मध्य क्रम को विविधता प्रदान करती है। साथ ही वह आर अश्विन के साथ प्रमुख स्पिनर की भूमिका निभाते हैं।
जबकि वे जडेजा को वापस बुलाने के जोख़िमों के बारे में सचेत हैं, चयनकर्ता भारत को उनकी मैच जिताऊ क्षमताओं से वंचित नहीं करना चाहते हैं, जो उन्होंने 2016-17 में भारत में ऑस्ट्रेलिया की पिछली टेस्ट सीरीज़ के दौरान साबित की थी।
उस द्विपक्षीय सीरीज़ में भारत ने पहली पारी में जाडेजा के 63 रन और मैच में कुल चार विकेटों की मदद से धर्मशाला टेस्ट जीतकर 2-1 से सीरीज़ अपने नाम की थी। जाडेजा पूरी ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए रोड़ा बने हुए थे और 127 रन और 25 विकेटों के साथ प्लेयर ऑफ़ द सीरीज़ रहे थे। 2017 से 19 टेस्ट मैचों में जाडेजा ने 21.46 की औसत से 82 विकेट लिए हैं। अहम बात यह है कि इस दौरान बतौर बल्लेबाज़ उनका मोल बढ़ता चला गया है। जाडेजा ने इस अवधि में दो शतकों और सात अर्धशतकों की मदद से 52.82 की औसत से 898 रन बनाए हैं।
बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफ़ी सीरीज़ का नतीजा भारत और ऑस्ट्रेलिया के लिए बहुत मायने रखता है। यह दोनों टीमें जून में ओवल में खेले जाने वाले विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फ़ाइनल में जगह बनाने की प्रबल दावेदार हैं। भारत को फ़ाइनल में प्रवेश करने के लिए इस सीरीज़ को जीतना होगा जिससे वह इस प्रतियोगिता के दोनों फ़ाइनल में खेलने वाली पहली टीम बनेगी।
पहले टेस्ट से पूर्व दोनों टीमें तैयारी शिविर में हिस्सा लेंगी। ऑस्ट्रेलियाई टीम बेंगलुरु में होंगी जबकि 1 से 5 फ़रवरी के बीच भारतीय टीम नागपुर में अभ्यास करेगी।
सिद्धार्थ मोंगा द्वारा अतिरिक्त रिपोर्टिंग के साथ

नागराज गोलापुड़ी ESPNcricinfo में न्यूज़ एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर अफ़्ज़ल जिवानी ने किया है।