मैच (12)
IPL (2)
PAK v WI [W] (1)
RHF Trophy (4)
WT20 WC QLF (Warm-up) (5)
ख़बरें

कोविड-19 और चोट ने इंग्लैंड दौरे की तैयारियों को प्रभावित किया - हरमनप्रीत कौर

हरमनप्रीत को भरोसा है कि टी20 अंतर्राष्ट्रीय सीरीज़ में उनके बल्ले से रन आएंगे

आम तौर पर मैं ओपन नेट या फिर प्रैक्टिस मैच खेलना पसंद करती हूं - हरमनप्रीत कौर  •  BCCI

आम तौर पर मैं ओपन नेट या फिर प्रैक्टिस मैच खेलना पसंद करती हूं - हरमनप्रीत कौर  •  BCCI

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की टी20 कप्तान हरमनप्रीत कौर ने माना है कि मार्च में लगी चोट और फिर कोविड-19 से संक्रमित होने की वजह से इंग्लैंड दौरे की उनकी तैयारियां काफ़ी प्रभावित हुईं। उन्होंने माना कि इसी वजह से अब तक इंग्लैंड के ख़िलाफ़ उनका फ़ॉर्म कुछ ख़ास नहीं रहा है।
पिछले महीने ब्रिस्टल में खेले गए एकमात्र टेस्ट में कौर ने 4 और 8 रन बनाए, इसके बाद वनडे सीरीज़ में भी उनका ख़राब फ़ॉर्म जारी रहा। कौर के बल्ले से तीन मैचों की वनडे सीरीज़ में 1, 19 और 16 रन ही आए।
"मैं उनमें से हूं जो हर दिन अभ्यास करते हैं और कड़ी मेहनत करते हैं। लेकिन कोविड और चोट की वजह से मुझे तैयारी का ज़्यादा समय नहीं मिल पाया था। हालांकि मैं इसे बहाना नहीं बनाना चाहती, क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आपको इन चीज़ों से गुज़रना ही होता है।"
कौर ने इंग्लैंड के ख़िलाफ़ टी20 अंतर्राष्ट्रीय सीरीज़ की शुरुआत से पहले गुरुवार को प्रेस कॉन्फ़्रेंस के दौरान कहा, "इस स्तर पर आप को जिस मानसिक ताक़त और रवैये के साथ उतरना होता है वह आसान नहीं है। लेकिन पांच पारियों के बाद अब मैं समझ गई हूं कि मुझे कहां बेहतर करना होगा। टी20 सीरीज़ में आप इस टीम को एक अलर रंग में देखेंगे।"
कौर को मार्च में साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ घरेलू वनडे सीरीज़ के पांचवें वनडे के दौरान ग्रोइन इंजरी हो गई थी, जिसकी वजह से उन्हें तीन मैचों की टी20 सीरीज़ से बाहर रहना पड़ा था। उनकी ग़ैरमौजूदगी में स्मृति मांधना ने टीम की कमान संभाली थी।
"पांचवें वनडे के दौरान बाईं ओर मुझे ग्रोइन इंजरी हो गई थी और उससे पहले मैं दाईं ओर चौथे ग्रेड की ग्रोइन इंजरी से उबर ही रही थी। इसके बाद फिर मैं कोविड-19 से भी ग्रसित हो गई थी जिस वजह से अभ्यास का पर्याप्त मौक़ा नहीं मिल पाया। और फिर सीधे जाकर मैच खेलना आसान नहीं होता। मैं उनमें से हूं जो मैदान पर अपना 200% देना चाहती हूं, ऐसे में चोट का जोखिम भी बढ़ जाता है।"
इसके अलावा कौर ने ये भी कहा कि इंग्लैंड में उन्हें वॉर्म अप मैच भी खेलने को नहीं मिले इसलिए वह लय नहीं पकड़ पाई।
"हमें एक भी प्रैक्टिस गेम खेलने को नहीं मिला और ओपन नेट सत्र के लिए भी हमें जूझना पड़ा। ज़्यादातर मैं ओपन नेट या प्रैक्टिस गेम खेलने को प्राथमिकता देती हूं। क्योंकि सामान्य नेट में आपको ज़्यादा कुछ समझ नहीं आता और रोज़ाना आप एक ही तरह के गेंदबाज़ों का सामना करते हैं। लिहाज़ा ये पता कर पाना कि आपकी बल्लेबाज़ी कैसी हो रही है थोड़ा मुश्किल हो जाता है।"
चोट और फिर कोविड से गुज़रने से पहले कौर वनडे में साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ फ़ॉर्म में वापस लौट रहीं थीं। लखनऊ में उन्होंने 40, 36, 54* और 30 रनों की कुछ अच्छी पारियां खेली। उससे पहले टी20 वर्ल्ड कप में कौर बुरे दौर से गुज़र रहीं थीं, पांच पारियों में उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर केवल 15 रन था।
ये प्रदर्शन उनके नाम के मुताबिक़ क़तई नहीं था क्योंकि उससे पहले आईसीसी इवेंट में उनका जलवा सभी ने देखा था। 2017 वनडे वर्ल्ड कप के सेमीफ़ाइनल में उन्होंने 171* रनों की कमाल पारी खेली थी और फिर 2018 टी20 वर्ल्ड कप के पहले मैच में उन्होंने शानदार शतक जड़ा था।
"मैं उन मैचों का वीडियो देखती हूं जहां मैंने बेहतरीन प्रदर्शन किया, फिर चाहे वह बड़ी पारी हो या जीत दिलाने के लिए खेली गई छोटी लेकिन उपयोगी पारी। वैसी पारियां आप बार-बार देखना चाहेंगे क्योंकि वह आपके आत्मविश्वास को बढ़ाती हैं। मैं अभी भी इन पारियों को देखती हूं। मुझे उम्मीद है कि इस टी20 सीरीज़ में मैं बेहतर प्रदर्शन कर पाऊंगी।"

ऑन्नेशा घोष (@ghosh_annesha) ESPNcricinfo में सब-एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट सैयद हुसैन (@imsyedhussain) ने किया है।