मैच (15)
IPL (2)
ACC Premier Cup (2)
Women's QUAD (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ख़बरें

मोहम्मद हफ़ीज़ ने लिया अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास

फ़्रैंचाइज़ी क्रिकेट खेलना जारी रखेंगे

हफ़ीज़ अंतर्राष्ट्रीय पदार्पण 2003 में ज़िम्बाब्वे के विरुद्ध वनडे मैच में हुआ था।  •  ICC via Getty

हफ़ीज़ अंतर्राष्ट्रीय पदार्पण 2003 में ज़िम्बाब्वे के विरुद्ध वनडे मैच में हुआ था।  •  ICC via Getty

मोहम्मद हफ़ीज़ ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहने का निर्णय लिया है। इसके साथ एक खिलाड़ी के तौर पर पाकिस्तान राष्ट्रीय टीम के साथ उनका 18 साल पुराना रिश्ता ख़त्म हो जाएगा। उनका अंतर्राष्ट्रीय पदार्पण 2003 में ज़िम्बाब्वे के विरुद्ध वनडे मैच में हुआ था। उन्होंने अपना अंतिम मैच पिछले साल नवंबर में टी20 विश्व कप सेमीफ़ाइनल में ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध खेला था।
41 वर्षीय शीर्ष क्रम के बल्लेबाज़ और ऑफ़ स्पिनर हफ़ीज़ ने पीएसएल के आगामी संस्करण के लिए लाहौर कलंदर्स के साथ करार किया है और साथ ही वह दुनिया भर में फ़्रैंचाइज़ी क्रिकेट के लिए उपलब्ध रहेंगे।
हफ़ीज़ ने 55 टेस्ट, 218 वनडे और 119 टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेले और सभी प्रारूपों में 12,780 रन बनाए हैं। इस दौरान उन्हें 32 बार प्लेयर ऑफ़ द मैच का ख़िताब भी दिया गया। वह पाकिस्तान के लिए चौथे सबसे अधिक प्लेयर ऑफ़ द मैच ख़िताब पाने वाले खिलाड़ी थे।
हालांकि हफ़ीज़ और शोएब मलिक, जो मौजूदा टीम में सबसे लंबे समय तक पाकिस्तान के क्रिकेटर रहे हैं, उन्होंने पिछले साल के टी20 विश्व कप के समापन के बाद अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने का फ़ैसला किया था। हफ़ीज़ ने इस बात की घोषणा करने में देरी की है, लेकिन उम्मीद है यह कि इस ख़बर को जल्द ही सार्वजनिक कर दिया जाएगा।
हफ़ीज़ ने दिसंबर 2018 में टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया था। चयनकर्ताओं ने बाद में 2019 विश्व कप के बाद वनडे में उनसे आगे बढ़ने का फ़ैसला किया। उन्होंने लॉर्ड्स में बांग्लादेश के विरुद्ध अपना आख़िरी वनडे मैच खेला था।
जबकि उन्होंने शुरू में घोषणा की थी कि 2020 टी20 विश्व कप पाकिस्तान के लिए उनकी अंतिम सीरीज़ होगी, टूर्नामेंट को कोरोना महामारी के कारण 2021 तक धकेल दिया गया था, और हफ़ीज़ ने परिणामस्वरूप पाकिस्तान टीम के साथ अपना संन्यास के फ़ैसले को भी समय बढ़ा लिया था।
2018 में टी20 अंतर्राष्ट्रीय टीम से हटाए जाने के बाद, हफ़ीज़ को 2020 में बांग्लादेश के ख़िलाफ़ घरेलू श्रृंखला के लिए वापस बुलाया गया, और वर्ष का अंत उल्लेखनीय रन प्रदर्शन के साथ किया; वह उस वर्ष प्रारूप में अग्रणी रन-गेटर थे, और उन्होंने 83 की औसत और 152 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए। उन्होंने सभी टी20 में छठे सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी के रूप में भी वर्ष का अंत किया था।
वह एकमात्र पाकिस्तानी खिलाड़ी हैं जो एक टी20 विश्व कप को छोड़कर सभी टी20 विश्व कप का हिस्सा रहे हैं। वह 2009 में टी20 विश्व कप की जीत में टीम के अहम खिलाड़ी भी थे।
वह टी20 विश्व कप के 2014 संस्करण में टीम की कप्तान भी थे। हालांति वह पहली बार था जब पाकिस्तान ग्रुप स्टेज से ही बाहर हो गया था। उन्होंने पाकिस्तिान के लिए 29 मैचों में कप्तान की जिसमें उन्हें 18 मैचों में जीत मिली।
हफ़ीज़ ने अपने करियर के अधिकांश हिस्से में ऑफ़ स्पिन गेंदबाज़ी की, उनके बोलिंग एक्शन पर कई बार प्रश्न भी उठाए गए।

उमर फारूख ESPNcricinfo के पाकिस्तानी संवाददाता हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर राजन राज ने किया है।