मैच (11)
भारत बनाम न्यूज़ीलैंड (1)
साउथ अफ़्रीका बनाम इंग्लैंड (1)
आईएलटी20 (2)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
बीबीएल (1)
एसए20 (1)
साउथ अफ़्रीका त्रिकोणीय सीरीज़ (1)
ख़बरें

श्रीलंका ने फ़िक्सिंग के आरोपों की जांच के लिए आईसीसी की भ्रष्टाचार रोधी इकाई को आमंत्रित किया

यह आरोप देश के संसद में लगे हैं, आरोप लगाने वाले सांसद ने कहा, "बोर्ड जुए का अड्डा" बन गया है

गॉले में खेले गए पहले टेस्ट में पाकिस्तान ने 342 रनों के लक्ष्य को हासिल कर लिया था  •  AFP/Getty Images

गॉले में खेले गए पहले टेस्ट में पाकिस्तान ने 342 रनों के लक्ष्य को हासिल कर लिया था  •  AFP/Getty Images

श्रीलंका क्रिकेट ने देश की संसद में लगे मैच फ़िक्सिंग के आरोपों की जांच के लिए आईसीसी की भ्रष्टाचार रोधी इकाई (एसीयू) के प्रमुख ऐलेक्स मार्शल को आमंत्रित किया है।
यह आरोप जुलाई में पाकिस्तान और श्रीलंका के बीच खेले गए तीन मैचों की टेस्ट सीरीज़ के पहले मैच से संबंधित है। उस मैच में पाकिस्तान ने चौथी पारी में 342 रनों के लक्ष्य को हासिल कर लिया था और सीरीज़ में 1-0 की बढ़त बना ली थी।
यह आरोप सांसद नलिन बंडारा ने लगाया था, जिन्होंने इस महीने की शुरुआत में संसद में यह बात कही थी: "पाकिस्तान के ख़िलाफ़ पिछली सीरीज़ में हमारी टीम ने 400 के आसपास [श्रीलंका ने 342 रन का लक्ष्य रखा था] का स्कोर बनाया था और फिर भी आख़िरी पारी में हार गई। सभी को पैसे दिए गए हैं, पिच बनाने वाले को भी। बोर्ड जुए का अड्डा बन गया है।"
उन्होंने अपने आरोप को साबित करने के लिए कोई सबूत पेश नहीं किया। उन्होंने यह आरोप एक भाषण के अंत में लगाया, जो ज़्यादातर श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड (एसएलसी) द्वारा अपने खिलाड़ियों के कथित कुप्रबंधन को संदर्भित था। भाषण के दौरान बंडारा ने अपने और एसएलसी अध्यक्ष शम्मी सिल्वा के बीच चल रहे झगड़े का भी ज़िक्र किया।
बंडारा का भाषण संसदीय विशेषाधिकार के अंदर है इसलिए यह परिवाद और मानहानि के मुकदमों से बाहर है।
एसीयू ने इस पर कोई टिप्पणी नहीं की कि उस मैच को संदिग्ध नज़र से देखा जा रहा था या नहीं; एसीयू आमतौर पर अपनी जांचों पर कोई टिप्पणीयां नहीं करता है। एसएलसी की एक विज्ञप्ति में ख़ास तौर पर बंडारा का हवाला नहीं दिया गया, लेकिन कहा गया कि उनकी टिप्पणियों ने श्रीलंका क्रिकेट और उसके हितधारकों की साख़ को भारी नुक़सान पहुंचाया है।

ऐंड्रयू फ़िडेल फ़र्नांडो ESPNcricinfo के श्रीलंकाई संवाददाता हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के एडिटोरियल फ़्रीलांसर कुणाल किशोर ने किया है।