सबसे पहले अच्छी ख़बर। आप एक ओपनर हैं। यह एक टी20 है। मैदान तैयार है, गेंद कठिन है, यह बल्लेबाज़ी करने का सबसे अच्छा समय है। अब बुरी ख़बर। गेंदबाज़ करने के लिए दौड़कर आने वाला खिलाड़ी शाहीन शाह अफरीदी है।

आपका गार्ड सेट है। आपने कुछ दिमाग में सोचा है। अपनी आंखों को रोशनी के साथ समायोजित किया। बाहों और कंधों को ढीला कर दिया। सुनिश्चित करें कि रक्त आपके पैरों में पंप कर रहा है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आप अपने साथी के साथ हैं।

विश्लेषक ने आपसे बात की है या हो सकता है कि उसने आपको व्हाट्सएप पर कुछ नोट्स भेजे हों। यदि वे ईमानदार और तर्कसंगत हैं और उन्होंने आपको बताया होगा कि एक आप इस पहले ओवर में नहीं बच सकते। हो सकता है कि उन्होंने इसे फिगर में रखा हो, तीन में से एक मौक़ा है कि आप इससे बच नहीं पाएंगे।

रूकिए, क्या? तीन में से एक? बल्लेबाज़ों के लिए, ख़ासकर आप जैसे सलामी बल्लेबाज़ों के लिए यह वास्तविकता से परे हो सकता है कि एक युवा किशोर की गेंद आपको आउट कर सकती है। ऐसे में आप सोच सकते हैं कि तीन में से एक बहुत बड़ी बात नहीं है। निश्चित रूप से, विश्लेषक ने आपको यह भी बताया होगा कि फरवरी 2018 में अपने टी 20 पदार्पण के बाद से, अफरीदी ने 61 पारियों में 20 बार पहले ओवर में एक विकेट लिया है (और एक बार उन्होंने पहले ओवर में दो विकेट लिए, तो पहले ओवर में कुल मिलाकर 21 विकेट)। दूसरा स्थान कोई जगह नहीं है (इमाद वसीम 13 के साथ, अगर कोई पूछे)। हाँ, लेकिन आप जानते हैं कि यह ग़लत नहीं है। अभी समय नहीं है, लेकिन क्रिकेट में गेंदबाज़ों के शुरुआत 10 गेंदों के स्ट्राइक रेट को नोट करना शुरू कर दिया है।

अगर आपने इस बात का अंदाज़ा लगा लिया कि कैसी गेंद आ सकती है तो फिर समझिए कि आधी जीत आपकी हो गई। अफ़रीदी लंबे हैं और बाएं हाथ के तेज़ गेंदबाज़ हैं, यानि जिस कोण के साथ गेंद आपके पास आएगी उसके लिए आपको तैयार रहना होगा। हालांकि न तो उनका ऐक्शन जसप्रीत बुमराह या लसिथ मलिंगा जैसा स्लिंगिंग है, न ही वहाब रियाज़ या मिचेल स्टार्क की साइड आर्म से स्लिंग करते हैं। उनका गेंदबाज़ी ऐक्शन बिल्कुल सीधा और सरल है।

अगर आप दाएं हाथ के बल्लेबाज़ हैं तो उनकी गेंद आपके लिए ऊपर रह सकती है और अंदर आ सकती है, कभी-कभी तो बिल्कुल हवा में लहराती हुई अंदर आ सकती है। अगर आपकी क़िस्मत अच्छी रही तो फिर वह वाइड भी हो सकती है या फिर लेग स्टंप के बाहर जा सकती है।

अगर पिच पर थोड़ी भी स्विंग है तो फिर आप दुबई में खेल रहे हों, लाहौर में हो या फिर मैनचेस्टर में, उनका पहला ओवर स्विंग लेकर आता ही है। अगर बहुत ज़्यादा नहीं तो इतनी स्विंग वह ज़रूर कर सकते हैं जो बल्लेबाज़ों के लिए परेशानी का सबब हो जाए। साथ ही वह यॉर्कर डालने में भी देरी नहीं करते, नई गेंद से भी उनकी यॉर्कर बेहद सटीक रहती है और बल्लेबाज़ बोल्ड या एलबीडब्लयू का शिकार हो सकता है।

हालांकि कई बार वह धोखा भी देते हैं और आपको बाउंसर से भी परेशान करते हैं, उनकी लंबाई और जिस एंगल से वह गेंदबाज़ी करते हैं वहां से बतौर दाएं हाथ के बल्लेबाज़ आपके लिए वह गेंद बेहद ख़तरनाक हो सकती है। हां, आप अगर कुछ कर सकते हैं तो बस झुक जाइए और ख़ुद को गेंद की दिशा से अलग कर लीजिए और थोड़ी सी दुआ भी करिए।

अगर आप बाएं हाथ के बल्लेबाज़ हैं तो भी आपको राहत मिलने नहीं जा रही। बाएं हाथ के बल्लेबाज़ों को भी शाहीन अपनी यॉर्कर पर बख़ूबी फंसाना जानते हैं। बाएं हाथ के बल्लेबाज़ भी उनके सामने क्लीन बोल्ड और एलबीडब्ल्यू के उम्मीदवार बन जाते हैं।

हां आप उनके ख़िलाफ़ शुरू से ही आक्रामक रुख़ अख़्तियार कर सकते हैं, जैसा कि कई बार उनके ख़िलाफ़ टॉम बैन्टन या ल्यूक रोंची ने किया है। लेकिन उनके पास जो दूसरा बड़ा हथियार है वह है विविधता भरी गेंदबाज़ी, एक के बाद एक आउट स्विंग के बीच में वह अचानक इन स्विंग भी डालना जानते हैं और वहां से वह किसी भी बल्लेबाज़ के होश फ़ाख़्ता करने की क़ाबिलियत रखते हैं।

आप करें तो क्या करें ? अपनी क़िस्मत आज़माएं, चतुरता दिखाते हुए स्ट्राइक बदल लीजिए और अपने साझेदार को करने दीजिए उनका सामना।

*अगर आप भारतीय हैं, तो दुआ करिए कि रविवार को आप उनका सामना न करें, आपको अगर ये लग रहा है कि , तीन साल पहले जैसे आपने उन्हें खेला था, फिर वैसे ही खेल लेंगे तो अब शाहीन अफ़रीदी बदल चुके हैं।

उस्मान समिउद्दीन ESPNcricinfo में सीनियर एडिटर हैं।