मैच (9)
एशिया कप (2)
MLC (2)
Women's Hundred (1)
TNPL (2)
Men's Hundred (1)
विश्व कप लीग 2 (1)
ख़बरें

प्लेऑफ़ के समीकरण: लीग चरण में सिर्फ़ नौ मैच बचे हुए हैं लेकिन प्लेऑफ़ की दौड़ से केवल एक टीम बाहर हुई है

गुजरात और चेन्नई अभी तक क्वालीफ़ाई नहीं कर पाई है और न ही कोलकाता और हैदराबाद की टीम प्लेऑफ़ की दौड़ से बाहर हुई है

आईपीएल 2023 के लीग चरण में केवल नौ मैच बचे हैं। इसके बावजूद सिर्फ़ दिल्ली कैपिटल्स ही एकमात्र ऐसी टीम है, जो प्लेऑफ़ की दौड़ से बाहर हो गई है। बाक़ी की नौ टीमें अभी भी प्लेऑफ़ की दौड़ में बनी हुई हैं। आइए देखते हैं कि प्लेऑफ़ में पहुंचने के लिए कौन सी टीम के पास सबसे बढ़िया मौक़ा है और उन्हें क्या करने की ज़रूरत है।
गुजरात टाइटंस
12 मैच, अंक 16, नेट रन रेट 0.761
बचे हुए मैच : हैदराबाद, बेंगलुरु
गुजरात टाइटंस फ़िलहाल अंक तालिका में शीर्ष पर है, लेकिन उसने अभी तक प्लेऑफ़ में अपनी जगह पक्की नहीं की है। यदि वे अपने अंतिम दो मैच हार जाते हैं तो चेन्नई सुपर किंग्स और लखनऊ सुपर जायंट्स 17 अंकों तक पहुंच सकते हैं। इसके बाद गुजरात, मुंबई इंडियंस और पंजाब की टीमें 16 अंकों के साथ प्लेऑफ़ में जाने के लिए प्रतिस्पर्धा करेंगी। गुजरात की टीम वर्तमान में नेट रन रेट के मामले में बहुत आगे हैं, लेकिन अगर वे मैच दो हार जाते हैं तो यह गिर जाएगा और अगर वे बड़े अंतर से हारते हैं तो यह काफ़ी गिर सकता है। राजस्थान रॉयल्स के साथ रविवार के दिन ऐसा हो चुका है।
हालांकि गुजरात की टीम अगर एक भी मैच जीतती है तो वह प्लेऑफ़ में प्रवेश करने के साथ-साथ टॉप दो में भी जगह बना लेगी। इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि अब सिर्फ़ मुंबई एकमात्र ऐसी टीम है जो 18 अंकों तक पहुंच सकती है।
चेन्नई सुपर किंग्स
मैच 13 , अंक 15, नेट रन रेट 0.381
बचे हुए मैच : दिल्ली
रविवार को कोलकाता के ख़िलाफ़ मिली हार का मतलब था कि चेन्नई अभी तक प्लेऑफ़ में क्वालीफ़ाई नहीं कर पाई है। अगर वह अपना आख़िरी मैच जीत भी जाती है तो वह शायद अंक तालिका में टॉप 2 तक नहीं पहुंच पाएंगे। अगर वे दिल्ली के ख़िलाफ़ हार का सामना करते हैं तो उन्हें बाहर भी होना पड़ सकता है। अभी भी पांच टीमें संभावित रूप से 15 से अधिक अंक हासिल कर सकती हैं। कुल मिलाकर 15 अंकों के साथ प्लेऑफ़ में क्वालीफ़ाई करने के लिए दूसरी टीमों के परिणामों पर निर्भर रहना होगा।
मुंबई इंडियंस
मैच 12, अंक 14, नेट रन रेट -0.117
बचे हुए मैच : लखनऊ, हैदराबाद के ख़िलाफ़ धीमी शुरुआत के बाद मुंबई की टीम फ़ॉर्म में वापस आ चुकी है। उन्होंने अपने पिछले पांच मैचों में से चार मैच जीते हैं। अगर अंतिम दो मैचों में वह जीत हासिल करते हैं तो वह आराम से प्लेऑफ़ में पहुंच सकते हैं। वहीं अगर वह अंतिम के दो मैचों में से एक मैच जीतते हैं और एक मैच हारते हैं तो वह दूसरे टीमों के साथ नेट रन रेट के मामले में प्रतिस्पर्धा कर सकते हैं। यदि वह दोनों मैच हार जाते हैं तो उनके लिए प्लेऑफ़ में पहुंचना कठिन हो जाएगा। ऐसे में तीन टीमें 15 या अधिक अंक प्राप्त कर सकती हैं। इसके साथ ही मुंबई की टीम एक ख़राब नेट रन रेट के साथ चौथे स्थान के लिए अन्य टीमों के साथ संघर्ष करेगी।
लखनऊ सुपर जायंट्स
मैच - 12, अंक - 13, नेट रन रेट 0.309
बचे हुए मैच : मुंबई, कोलकाता
लखनऊ की टीम को क्वालीफ़ाई करने के लिए अपने आख़िरी दो मैच जीतने की ज़रूरत है। यदि वे एक मैच जीतते हैं तो भी वह नेट रन रेट के बिना क्वालीफ़ाई कर सकते हैं। हालांकि पांच अन्य टीमों के 16 या अधिक अंकों पर पहुंचने की भी संभावना है। अगर वे अपने दोनों मैच हार जाते हैं तो उनका पूरी तरह से सफ़ाया हो जाएगा।
रॉयल चैंलेंजर्स बेंगलुरु
मैच 12, अंक 12, नेट रन रेट 0.166
बचे हुए मैच : हैदराबाद, गुजरात
राजस्थान के ख़िलाफ़ शानदार जीत के बाद बेंगुलुर की टीम अंक तालिका में पांचवें स्थान पर पहुंच चुकी है। साथ ही उनका नेट रन रेट - 0.345 से 0.166 तक पहुंच गया है। जैसा कि पहले ही लिखा जा चुका है कि 16 अंक पर कई टीमें पहुंच सकती हैं। हालांकि अगर ऐसा होता है तो बेंगलुरु की टीम भी टॉप चार में पहुंचने की दावेदार रहेगी। नेट रन रेट के मामले में भी अब वह मुंबई और पंजाब से आगे है।
हालांकि अगर बेंगलुरु की टीम एक भी मैच हारती है तो उन्हें अन्य कई मैचों के परिणाम पर निर्भर रहना होगा। हालांकि अगर मामला 14 अंकों के साथ क्वालीफ़ाई करने के लिए नेट रन रेट पर आता है तो राजस्थान के ख़िलाफ़ मिली बड़ी जीत बेंगलुरु के काफ़ी काम आएगी।
राजस्थान रॉयल्स
मैच 13, अंक 12, नेट रन रेट 0.140
बचे हुए मैच : पंजाब किंग्स
बेंगलुरु के ख़िलाफ़ मिली बड़ी हार के बाद राजस्थान का नेट रन रेट 0.633 से 0.140 तक पहुंच गया है। हालांकि अभी भी उनके पास प्लेऑफ़ में पहुंचने का मौक़ा है। अगर वह पंजाब को अपने आख़िरी मैच में हरा देते हैं और कुछ अन्य मैचों के परिणाम उनके पक्ष में जाते हैं तो वह प्लेऑफ़ तक पहुंच सकते हैं। उनके पास प्लेऑफ़ में पहुंचने का सबसे अच्छा मौक़ा तब बनेगा, जब पंजाब और गुजरात अपने अंतिम दोनों मैच हार जाए, साथ ही हैदराबाद अपने बचे हुए तीन मैचों में से मुंबई या गुजरात के ख़िलाफ़ एक मैच हार जाए। अगर ऐसा होता है तो राजस्थान और कोलकाता में से कोई एक टीम चौथे स्थान पर पहुंच सकती है। ऐसे में पूरा मामला नेट रन रेट पर जा सकता है, जो राजस्थान के पक्ष में जा सकता है।
पंजाब किंग्स
मैच 12, अंक 12, नेट रन रेट -0.268
बचे हुए मैच: दिल्ली, राजस्थान
पंजाब उन छह टीमों में से एक है जो 16 या अधिक अंकों तक पहुंच सकती है। इसका मतलब है कि वे शीर्ष-चार में पहुंचने की दावेदार हैं। हालांकि इसके लिए अन्य टीमों को भी उनकी मदद करनी होगी। अगर वह एक भी मैच हारते हैं तो उन्हें भी 14 अंकों के साथ चार टीमों के साथ प्लेऑफ़ में पहुंचने के लिए प्रतिस्पर्धा करनी होगी। एक गौर करने वाली बात यह भी है कि वह अपने आख़िरी दो मैच धर्मशाला में खेलने वाले हैं।
कोलकाता नाइट राइडर्स
मैच 13, अंक 12, नेट रन रेट-0.256
बचे हुए मैच : लखनऊ
चेन्नई के ख़िलाफ़ मिली जीत के बाद कोलकाता की टीम अभी भी प्लेऑफ़ की दौड़ में बनी हुई है। अभी भी उनके पास 14 अंकों के साथ अंक तालिका में टॉप चार टीमों तक पहुंचने का एक मौक़ा है। हालांकि कोलकाता की सबसे बड़ी ज़रूरत फ़िलहाल यह है कि उन्हें अपना आख़िरी मैच जीतना होगा। इसके अलावा एक और शर्त यह है कि टॉप चार में पहुंचने के लिए तीन और टीमों को 14 अंकों पर ही टिके रहना होगा। ऐसा तभी हो सकता है जब गुजरात की टीम अपने दोनों मैच हार जाएगी। साथ ही बेंगलुरु और पंजाब की टीम भी अपने बचे हुए दो मैचों में से एक मैच हारेगी। इसके बाद भी कोलकाता को प्लेऑफ़ में पहुंचने के लिए अपने रन रेट को ठीक करना होगा और उसके लिए उनके पास सिर्फ़ एक मैच बचा हुआ है।
सनराइज़र्स हैदराबाद
मैच 11, अंक 8, नेट रन रेट -0.471
बचे हुए मैच : गुजरात, बेंगलुरु , मुंबई
हैदराबाद की टीम फ़िलहाल आठ अंकों के साथ नौवें स्थान पर है, लेकिन वह एकमात्र टीम है जिसके पास तीन मैच बाक़ी हैं। यदि वे उन सभी को जीतते हैं तो वे अभी भी 14 अंकों तक पहुंच सकते हैं। हालांकि उसके लिए कुछ अन्य मैचों के परिणाम उनके पक्ष में जाने होंगे। उदाहरण के लिए यदि लखनऊ की टीम अपने बचे हुए दो मैच जीतती है, तो गुजरात, लखनऊ और चेन्नई के पास 14 से अधिक अंक होंगे, जबकि मुंबई, पंजाब और हैदराबाद की टीम 14 अंकों के साथ एक स्थान चौथे स्थान के लिए संघर्ष कर सकते हैं। वहीं अगर लखनऊ अपने आख़िरी दो मुक़ाबले गंवाती है तो चौथे स्थान के लिए हैदराबाद, पंजाब और कोलकाता के बीच जंग हो सकती है। ऐसे में नेट रन रेट समीकरण में आएगा, जिसका अर्थ है कि हैदराबाद को अपनी जीत के अंतर पर भी ध्यान देना होगा, यह देखते हुए कि उनका नेट रन रेट फ़िलहाल -0.471 का है। जो प्लेऑफ़ के लिए प्रतिस्पर्धा कर रही सभी टीमों की तुलना में कम है।

एस राजेश ESPNcricinfo के स्टेट्स एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर राजन राज ने किया है।