मैच (18)
सीपीएल (2)
भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया (1)
पाकिस्तान बनाम इंग्लैंड (1)
यूएई बनाम बांग्लादेश (1)
वेस्टइंडीज़ बनाम न्यूज़ीलैंड (महिला) (1)
रोड सेफ़्टी (2)
महिला विश्व कप क्वालिफ़ायर (4)
लेजेंड्स लीग (2)
इंडिया ए बनाम न्यूज़ीलैंड ए (1)
इंग्लैंड बनाम भारत (महिला) (1)
दलीप ट्रॉफ़ी (1)
काउंटी डिवीज़न एक (1)
फ़ीचर्स

धीमी गेंद की जादूगरी से लगातार उभरते आवेश ख़ान

फ़्लोरिडा में उन्होंने 17 रन पर दो विकेट लेकर टी20 विश्व कप के लिए ख़ुद को दावेदारी में बनाए रखा

आवेश ख़ान ने पिछले महीने पोर्ट ऑफ़ स्पेन में वनडे डेब्यू पर छह ओवर में 54 रन लुटाए थे। उन्होंने सेंट किट्स में दो टी20 में रन देना जारी रखा, जहां उन्होंने तेज़ हवा और छोटी बाउंड्री के साथ संघर्ष किया और 5.2 ओवर में 78 रन दे दिए।
दिलचस्प बात यह है कि दूसरे टी20 में रोहित शर्मा ने आख़िरी ओवर में नौ रन बचाने के लिए आवेश को गेंद सौंपा था, जबकि भुवनेश्वर कुमार के दो ओवर बचे थे।
आवेश आईपीएल में यॉर्कर विशेषज्ञ माने जाते हैं, लेकिन वह यहां दबाव में बिखर गए। उस आख़िरी ओवर की उनकी पहली गेंद नो बॉल थी, और फ़्री हिट को डेवन थॉमस ने एक्स्ट्रा कवर के ऊपर से छक्के के लिए भेज दिया। अगली गेंद पर झन्नाटेदार कट शॉट से चौका लगा और आवेश और भारत के लिए मैच ख़त्म हो गया।
आवेश ने तेज़ गति के साथ गेंदबाज़ी की और सेंट किट्स में बल्लेबाज़ों को हवा के साथ प्रहार करने की अनुमति दी। फ़्लोरिडा के लॉडरहिल में बात बहुत अलग नहीं है, हवा और छोटी बाउंड्री के साथ मैच पर एक बड़ा प्रभाव पड़ता है। हालांकि, आवेश ने 191 रन के लक्ष्य का बचाव कर रही भारतीय टीम को शुरुआती सफलता दिला ख़ुद को फिर से प्रभावी रूप से साबित किया।
एक गेंदबाज़ के लिए टी20 क्रिकेट का सार है विपक्ष के लिए चीज़ें खारिज करना। बल्लेबाज़ों को गति नहीं देना। उन्हें छोटी बाउंड्री का फ़ायदा उठाने से रोकना। उन्हें बल्ला चलाने के लिए रूम नहीं देना। उन्हें हवा के साथ मारने से रोकना। आवेश ने शुरुआती पलों में यह सब समझा।
ब्रैंडन किंग को भुवनेश्वर की गति को पसंद करते हुए देख आवेश ने एक लेगकटर फेंका और किंग ने सीधा रिटर्न कैच थमा दिया। जवाब में वेस्टइंडीज़ ने थॉमस को नंबर तीन पर पिंच हिटर के रोल में भेजा।
अपने दूसरे ओवर में आवेश ने लेगकटर को थॉमस की पहुंच से दूर डाला, यहां तक ​​​​कि वह अपने स्टंप को शफ़ल करके आए, फिर भी मिड ऑफ़ पर कैच दे बैठे। आवेश ने काइल मेयर्स और शिमरॉन हेटमायर को भी अच्छी धीमी गेंदों के मिश्रण से शांत रखा। वेस्टइंडीज़ के पास भी एक गेंदबाज़ है जो इस कला में माहिर है। हालांकि उसने अपने चार ओवरों में 66 रन दिए जबकि आवेश ने चार ओवरों 17 रन देकर दो विकेट लेते हुए ज़बरदस्त वापसी की।
उन्होंने प्लेयर ऑफ़ द मैच का पुरस्कार हासिल करने के बाद कहा, "मैं अच्छा महसूस कर रहा हूं क्योंकि पिछले दो मैचों में मैंने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया था, लेकिन इस मैच में मैंने सिर्फ़ अपनी ताक़त पर ध्यान केंद्रित किया और हार्ड लेंथ गेंदबाज़ी की और हवा का इस्तेमाल किया। इस पिच पर गेंद थोड़ी रुक रही है। इसलिए मैंन अपनी धीमी गेंद को हार्ड लेंथ के मिश्रण के साथ गेंदबाज़ी की और ऑड बाउंसर का उपयोग किया। इसलिए इसने मुझे इस विकेट पर सफलता दिलाई।"
अगर हर्षल पटेल फ़िट होते तो शायद आवेश नहीं खेलते, लेकिन उन्होंने अपने मौक़े का फ़ायदा उठाया और टीम प्रबंधन के विश्वास पर खरे उतरे।
उन्होंने कहा, "मैंने अभी अपने कोचों और कप्तान से बात की, तो उन्होंने कहा कि, 'हम आपका समर्थन कर रहे हैं, इसलिए आप बस प्रदर्शन करें और हर बार अपना सौ फ़ीसदी दें। एक गेंदबाज़ के तौर पर आपने दो मैचों में रन दिए, लेकिन आपको वापसी करनी होगी। इस तरह आप एक खिलाड़ी बनाते हैं।' वे सभी मेरा समर्थन कर रहे हैं और आज मैंने बस रिज़ल्ट दिए। अभी एक मैच बाक़ी है और मैं उस पर ध्यान केंद्रित कर रहा हूं।"
रोहित भी अवेश की वापसी से उत्साहित थे और उन्होंने कहा, "हम उनकी प्रतिभा को समझते हैं और किसी के भी एक या दो दिन ख़राब हो सकते हैं। हम उसकी गुणवत्ता को जानते हैं और हमें उसे ध्यान में रखना होगा। जब हम कुछ चीज़ों के बारे में बात करते हैं, तो उसे हम अच्छे से करना चाहते हैं, जैसे खिलाड़ियों को पर्याप्त मैच देना। उसने परिस्थितियों का अच्छा इस्तेमाल किया; उसने अपनी विविधताओं और क़द का बेहतरीन इस्तेमाल किया। यह देखकर बहुत अच्छा लगा।"
एशिया कप के लिए हर्षल की उपलब्धता पर कोई स्पष्टता नहीं है, लेकिन अर्शदीप सिंह भारत के आक्रमण के लिए एक शानदार गेंदबाज़ रहे हैं और फ़िट दीपक चाहर ज़िम्बाब्वे में वनडे में वापसी करेंगे। टी20 विश्व कप के लिए प्रतिस्पर्धा और भी तेज़ हो गई है और रविवार का दिन आवेश के लिए भारत की सीमित ओवरों की योजना में ख़ुद को बनाए रखने का एक और मौक़ा लेकर आ सकता है।

देवरायण मुथु ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के एडिटोरियल फ़्रीलांसर कुणाल किशोर ने किया है।