मैच (17)
T20 वर्ल्ड कप (5)
CE Cup (3)
SL vs WI [W] (1)
T20 Blast (8)
ख़बरें

विवादास्पद कैच पर गिल की ट्वीट प्रतिक्रिया : क्या आईसीसी कोई कार्रवाई कर सकता है?

ग्रीन के मुताबिक़ उन्होंने साफ़ कैच लपका जबकि शमी का मानना है कि थर्ड अंपायर को थोड़ा और समय लेना चाहिए था

शनिवार को ओवल टेस्ट के चौथे दिन के 15 मिनट ही बाद शुभमन गिल ने सोशल मिडिया का सहारा लिया और कैमरन ग्रीन द्वारा लिए गए विवादास्पद कैच के निर्णय पर अपनी आपत्ति दर्ज की।
उन्होंने ग्रीन द्वारा लिए गए कैच की तस्वीर सोशल मीडिया पर पोस्ट की और इमोजी के द्वारा अपनी निराशा जताई। बाद में प्रेस कॉन्फ़्रेंस में मोहम्मद शमी ने भी कहा कि थर्ड अंपायर रिप्ले देखने में थोड़ा और समय ले सकते हैं।
444 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम के लिए गिल उस समय 18 रन पर थे, जब स्कॉट बोलंड की गेंद पर गली पर खड़े ग्रीन ने बायीं ओर डाइव लगाकर उनका एक कैच लपका। ग्रीन के मुताबिक़ उन्होंने सफ़ाई से यह कैच लपका। हालांकि गिल तुरंत पवेलियन की ओर नहीं गए। इसके बाद फ़ील्ड अंपायर बिना सॉफ़्ट सिग्नल दिए टीवी अंपायर रिचर्ड केटलब्रॉ के पास गए। तमाम एंगल और ज़ूमिंग करके कुछ रिप्ले देखने के बाद केटलब्रॉ ने गिल को आउट क़रार दिया। इस निर्णय में तीन से भी कम मिनट लगा। इस निर्णय पर गिल और उनके साझेदार कप्तान रोहित शर्मा दोनों भौचक्के रह गए। इसके अलावा मैदान में उपस्थित हज़ारों भारतीय फ़ैंस ने भी बू करके अपनी प्रतिक्रिया जताई।
शमी ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कहा, "हा, निश्चित रूप से थर्ड अंपायर को थोड़ा और समय लेना चाहिए था। यह कोई सामान्य मैच नहीं बल्कि विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) का फ़ाइनल है। थोड़ा और ज़ूम करके थोड़ा और चेक किया जा सकता था। लेकिन ठीक है, यह खेल का हिस्सा है।"
वहीं गिल ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कहा, "मुझे निश्चित रूप से लगा कि मैंने यह कैच पकड़ा है और साफ़ कैच पकड़ा है। यह थर्ड अंपायर पर निर्भर करता है और वह सहमत थे कि मैंने साफ़ कैच पकड़ा है।"
ऑस्ट्रेलियाई विकेटकीपर ऐलेक्स कैरी ने बीबीसी के टेस्ट मैच स्पेशल प्रोग्राम में कहा, "मुझे भी लगा कि ग्रीन ने साफ़ कैच लपका है और सही निर्णय लिया गया।"
हालांकि भारतीय दर्शकों ने ग्रीन को बू किया और उन्हें 'धोखेबाज़ (चीट)' कहा। इस बारे में ग्रीन ने कहा, "मुझे पता है कि भारतीय दर्शक बहुत भावुक हैं और उनका फ़ेवरिट खिलाड़ी शुभमन गिल आउट हुआ था, तो उनकी यह प्रतिक्रिया स्वाभाविक थी। मुझे इससे ज़्यादा फ़र्क नहीं पड़ता है।"
क्या गिल को यह ट्वीट करने के लिए कोई सजा भी मिल सकती है। आईसीसी के कोट ऑफ़ कंडक्ट 2.7 के मुताबिक़ किसी भी खिलाड़ी का सोशल मीडिया पोस्ट जांच के दायरे में आता है और इसे कोड ऑफ़ कंडक्ट का तोड़ना भी माना जा सकता है।

उस्मान समिउद्दीन ESPNcricinfo में सीनियर एडिटर हैं