मैच (7)
ENG v PAK (1)
T20WC Warm-up (6)
फ़ीचर्स

अब हैदराबाद का एक ही मक़सद है और वह है जीत के साथ वापसी : नटराजन

घुटने की चोट की वजह से नटराजन पांच महीनों से क्रिकेट से दूर रहे थे

बाएं हाथ के सीमर टी नटराजन अपनी लय को लेकर अब आश्वस्त हैं और उनका आत्मविश्वास बड़े स्तर के क्रिकेट के लिए बढ़ रहा है। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2021 के दूसरे चरण में नटराजन वापसी के लिए तैयार हैं, अप्रैल में उन्हें घुटने की सर्जरी से गुज़रना पड़ा था जिस वजह से वह क्रिकेट से दूर थे। 30 वर्षीय इस तेज़ गेंदबाज़ को ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर चोट आई थी और फिर आईपीएल 2021 के पहले चरण के दौरान वह और बढ़ गई थी।
ESPNcricnfo के साथ बातचीत में उन्होंने कहा, "मैं सनराइज़र्स हैदराबाद के साथ वापसी करते हुए बेहद ख़ुश हूं। अपने पुराने दोस्तों के साथ एक बार फिर से खेलना मुझे उत्साहित करता है। राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) में गेंदबाज़ी के मैंने कई सत्र किए हैं, जिससे मुझे बहुत मदद मिली और इसी वजह से संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में हो रहे इस आईपीएल में मैं वापसी कर पा रहा हूं।"
"एनसीए में मुझे पहले दो सत्र में ख़ुद पर नियंत्रण नहीं था, लेकिन एक बार जब मैं वहां लगातार गेंदबाज़ी करने लगा तो मुझमें आत्मविश्वास बढ़ता गया। एनसीए में मैंने गेंदबाज़ी के बहुत ज़्यादा सत्र किए थे, और अब यहां आने के बाद मैं अपनी स्ट्रेंथ ट्रेनिंग पर ध्यान दे रहा हूं साथ ही अपनी गेंदों में और भी विविधताएं लाने की कोशिश में लगा हूं।"
टी नटराजन, तेज़ गेंदबाज़, भारत
नटराजन की वापसी सनराइज़र्स के लिए बेहद अहम है, जो फ़िलहाल अंक तालिका में सबसे नीचे मौजूद हैं। सनराइज़र्स को अब तक सात मैचों में महज़ एक जीत नसीब हुई है, नटराजन भी मानते हैं कि टीम पर काफ़ी दबाव है लेकिन उन्होंने कहा कि उनकी टीम वापसी के लिए तैयार है।
"हमपर दबाव तो है, अगर हम शुरू में ही मुक़ाबले जीत गए होते तो अंक तालिका की तस्वीर अलग होती। लेकिन अब हम एक ही मक़सद के साथ खेलने के लिए तैयार हैं और वह है जीत।"
नटराजन का नाम यूएई और ओमान में होने वाले टी20 विश्वकप की भारतीय टीम में नहीं है, हालांकि मुख्य चयनकर्ता चेतन शर्मा ने कहा था कि नटराजन के नाम पर हमने चर्चा की थी लेकिन उनकी चोट की वजह से हम उन्हें टीम में शामिल नहीं कर पाए। नटराजन ने भी इस बात को स्वीकार किया और कहा कि बिना प्रैक्टिस के आप विश्वकप की टीम में नहीं हो सकते।
"मुझे इसकी बिल्कुल निराशा नहीं है, मैं जानता था कि इतने कम समय में विश्वकप की टीम में स्थान पाना मुश्किल था। कई लोगों ने मुझसे कहा कि आपको विश्वकप की टीम का हिस्सा होना चाहिए था, लेकिन मैंने यही कहा कि मैं इसके लिए आशांवित नहीं था। मैं चोट से वापसी कर रहा था, मैंने पिछले पांच या छ: महीनों में कोई प्रतिस्पर्धी मैच नहीं खेले।"
टी नटराजन, तेज़ गेंदबाज़, भारत
नटराजन सलेम से आते हैं और इस सीज़न सनराइज़र्स के कैंप में सलेम का एक और गेंदबाज़ है, और वह हैं गणेशन प्रियस्वामी, जिनके लिए इस साल का तमिलनाडु प्रीमियर लीग (टीएनपीएल) शानदार रहा था। गणेशन ने भी अपने स्लिंगिंग यॉर्कर के लिए टीएनपीएल में ख़ूब सुर्ख़ियां बटोरीं थीं, वह फ़िलहाल सनराइज़र्स हैदराबाद के नेट गेंदबाज़ हैं। एक समय था जब नटराजन और गणेशन सलेम में साथ में ख़ूब समय व्यतीय करते थे, साथ में ही वह एक गांव से दूसरे गांव जाकर टेनिस क्रिकेट और गली क्रिकेट भी खेला करते थे। कुछ सालों बाद ये दोनों दोस्त सैयद मुश्ताक़ अली ट्रॉफ़ी में भी साथ दिखे और अब आईपीएल में भी ड्रेसिंग रूम साझा कर रहे हैं।
गणेशन को भी इस स्तर की क्रिकेट में खेलता देख नटराजन बेहद ख़ुश हैं। उन्होंने कहा, "मुझे गर्व होता है कि अब हम तमिलनाडु के लिए साथ में गेंदबाज़ी करते हैं। एक छोटे से गांव से आना और फिर तमिलनाडु के लिए नई गेंद आपस में साझा करना बहुत बड़ी बात है। मुझे पूरा भरोसा है कि आईपीएल में भी कैंप में रहते हुए और प्रैक्टिस करते हुए गणेशन काफ़ी कुछ सीखेंगे और बेहतर बनेंगे। पिछले साल भी वह कोलकाता नाइट राइडर्स के साथ बतौर नेट गेंदबाज़ जुड़े थे और अब हमारे साथ हैं, धीरे-धीरे वह आईपीएल के माहौल को भी समझ रहे हैं। मुझे पूरी उम्मीद है कि वह अगले स्तर के लिए भी तैयार हो रहे हैं।
भुवनेश्वर कुमार की वापसी को लेकर भी नटराजन काफ़ी उत्साहित हैं। उन्होंने कहा, "मैं सनराइज़र्स के साथ पिछले तीन-चार सालों से जुड़ा हुआ हूं। भुवनेश्वर के साथ भी मेरे रिश्ते काफ़ी अच्छे हैं, जब पहले दो साल मुझे खेलने का मौक़ा नहीं मिला था तो वह लगातार मुझे प्रोत्साहित करते रहते थे और कहते थे कि धैर्य रखो जल्द ही मौक़ा मिलेगा। साथ ही हमेशा यही कहते थे कि बस अपनी गेंदबाज़ी पर ध्यान दो और ज़्यादा उम्मीद नहीं रखा करो।"
नटराजन और सनराइज़र्स की आईपीएल के दूसरे चरण में पहली टक्कर आज यानी 22 सितंबर को दुबई में दिल्ली कैपिटल्स के ख़िलाफ़ होगी। नटराजन को पहचान भी 2020 में दिल्ली के ही ख़िलाफ़ मिली थी जब उन्होंने एक के बाद एक यॉर्कर्स से दिल्ली के बल्लेबाज़ों की नाक में दम कर दिया था। तब और अब में काफ़ी कुछ बदल गया है, और अब नटराजन की नज़र अपने करियर को एक बार फिर संवारने पर है।

देवरायण मुथु ESPNcricinfo में सब-एडिटर हैं, अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट सैयद हुसैन (@imsyedhussain) ने किया है।