मैच (14)
सुपर स्मैश (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
बीपीएल 2023 (2)
एसए20 (3)
आईएलटी20 (2)
सुपर स्मैश (W) (1)
साउथ अफ़्रीका त्रिकोणीय सीरीज़ (1)
ख़बरें

अपने 92 रनों की पारी पर जेमिमाह ने कहा - यह मेरे लिए बहुत जरूरी पारी थी

जेमिमाह ने नॉर्दन सुपरचार्जर्स के लिए पदार्पण करते हुए 43 गेंदों में 92 रनों की धमाकेदार पारी खेली

एक शानदार पुल लगाती हुईं रॉड्रिग्स  •  Getty Images

एक शानदार पुल लगाती हुईं रॉड्रिग्स  •  Getty Images

हेडिंग्ले में वेल्श फायर के खिलाफ हंड्रेड के पहले मैच में नार्दर्न सुपरचार्जर्स के लिए जेमिमाह रॉड्रिग्स ने नाबाद 92 रन बनाएं और अपनी टीम को जीत दिलाई। रॉड्रिग्स का इस तरीके से फॉर्म में आना उनके करियर के लिए निश्चित रूप से एक बढ़िया संकेत है।
रॉड्रिग्स ने अपने 92 रनों की पारी के दौरान मात्र 43 गेंदों का सामना किया। इस दौरान उन्होंने 17 चौंके और एक छक्का लगाया। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि रॉड्रिग्स की यह पारी उस वक्त आई जब उन्होंने पिछले 18 महीनों में अंतर्राष्ट्रीय इंटरनेशनल क्रिकेट में कोई अर्धशतकीय पारी नहीं खेली है। कुल मिलाकर यह एक बेहतरीन वापसी थी। लगातार खराब फॉर्म से जूझ रही जेमिमाह रॉड्रिग्स को साउथ अफ्रीका और इंग्लैंड के ख़िलाफ़ खेले गए सीरीज़ के कई मैचों से बाहर रखा गया और काफी कम मौके दिए गए।
रोड्रिग्स ने इस पारी के बाद कहा, "मुझे खेलने का मौका नहीं मिल रहा था। फिर जब मुझे इंग्लैंड के ख़िलाफ़ दूसरे वनडे में मौका मिला तो मैंने खुद पर बहुत दबाव डाल दिया। मैं उस दौरान रन बनाना चाह रही थीं और मुझे जो मौका मिला उसका पूरा लाभ उठाना चाहती थीं।"
"मुझे शांत रहना था और अपना खेल खेलना था क्योंकि मुझे पता है कि इस क्षेत्र में मैं काफी अच्छी हूं और इसलिए मुझे टीम में जगह दी गई है। मुझे दबाव वाली मानसिकता में बदलाव लाना था। मुझे खुद पर बहुत अधिक दबाव डालने की जरूरत नहीं है। पिच पर जाते ही एकाएक मुझे यह नहीं सोचना है कि मुझे जो भी मौका मिल रहा है, उस पर रन स्कोर करना ही है, ताकि मैं खुद को साबित कर सकूं।"
"आज मैं बस अपने खेल पर टिकी रहीं। चीजों को सरल रखा और उसी तरीके का क्रिकेट खेलने का प्रयास किया, जिसमें मैं सहज हूं। मैं नेट्स में वास्तव में अच्छी बल्लेबाजी कर रही थीं और मुझे पता था कि मेरी तकनीक में कुछ भी गलत नहीं है। मुझे बस एक नई और सकारात्मक मानसिकता के साथ मैदान पर उतर कर अपना खेल खेलना था और यह कारगर रहा।"
इंग्लैंड के ख़िलाफ़ खेले गए दो मैचों में जेमिमाह ने सिर्फ 8 और 4 रन बनाए थे। लेकिन हंड्रेड में खेली गई यह पारी उनकी एक अलग तरह की पारी थी। उन्होंने एक नई मानसिकता के साथ अपने खेल को आगे बढ़ाया।
बमुश्किल डेढ़ साल पहले और सिर्फ 18 साल की उम्र में, रॉड्रिग्स ने यॉर्कशायर डायमंड्स के लिए सिर्फ 58 गेंदों में नाबाद 112 रनों की पारी खेली थी और सदर्न वाइपर्स की टीम को किआ सुपर लीग में हराया था।
"इस बार यह मैच एक बड़े स्टेडियम में हो रहा था और बड़ी संख्या में दर्शक मौजूद थे। मैं लंबे समय के बाद वापसी कर रही थी, इसलिए मुझे निश्चित रूप से बहुत अच्छा महसूस हुआ," रॉड्रिग्स ने कहा।
"मैं इन खिलाड़ियों को जानती हूं। 2019 में उन्होंने मुझे बहुत सहज महसूस कराया था। यहां वापस आकर वास्तव में घर आने का एहसास होता है। मुझे इंग्लैंड में बल्लेबाज़ी करना पसंद है। भारत की तुलना में यहां कीवपिच बल्लेबाज़ी के लिए ज्यादा अनुकूल है।"
"यह एक बहुत अच्छी पारी थी और मेरे लिए व्यक्तिगत रूप से बहुत जरूरी थी... इस तरीके से वापसी कर के बढ़िया महसूस हो रहा है।"
डायमंड्स के साथ 2019 सीज़न के दौरान, रॉड्रिग्स की ऑन-साइड में शॉट्स खेलने की ताकत सामने आई थी। लीड्स में इस शनिवार की दोपहर को रॉड्रिग्स की कवर ड्राइव विशेष रूप से काफी बढ़िया थी और उन्होंने इससे काफी रन बटोरे। पहले उन्होंने निकोल हार्वे की गेंद पर बैक-टू-बैक चौकों के साथ अपना अर्धशतक पूरा किया और फिर अगले ही ओवर में वाइड लॉन्ग ऑफ की दिशा में चौका लगाने के बाद तीन चौके लगाए।
रॉड्रिग्स ने कहा, "क्रिकेट इतना बदल गया है कि आप एक शॉट पर टिके नहीं रह सकते। मैं गेंदबाज़ के दिमाग के साथ खेलकर कुछ शॉट्स लगाने का प्रयास कर रही हूं। यदि आप गेंदबाज़ों से एक कदम आगे हैं तो ऐसा करना आसान हो जाता है। जब आप किसी शॉट के लिए मन बनाते हैं तो कहीं ना कही आपको एक दायरे में रहते हुए जोखिम लेना पड़ता है।
"मेरे पिताजी हमेशा कहते हैं कि आपके पास कितनी ताकत है, इससे कोई मतलब नहीं है। बल्कि आपकी सफलता इस बात पर तय होती है कि आप अपने दिमाग का उपयोग कैसे करते हैं और और यह हमारे गेम प्लान का पार्ट होना चाहिए।"
रॉड्रिग्स साउथ अफ्रीका के लौरा वोल्वार्ड्ट और ऑस्ट्रेलिया की लौरा किमिन्स के साथ नॉर्दर्न सुपरचार्जर्स में तीन विदेशी खिलाड़ियों में से एक हैं। टूर्नामेंट शुरू होने से पहले रॉड्रिग्स ने कहा था कि वह "जिम्मेदारी" का आनंद ले रही हैं जो एक विदेशी लीग में अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी होने के साथ आती है।
रॉड्रिग्स ने कहा, "मुझे वह जिम्मेदारी पसंद है, जब टीम चाहती है कि आप एक निश्चित भूमिका निभाएं और उस चुनौती को स्वीकार करें। कभी-कभी आपको इसकी आवश्यकता होती है क्योंकि ऐसा करने से आप बढ़िया प्रदर्शन करने में कामयाब होते हैं। मुझे यकीन है कि वोल्फी और लौरा किमिन्स भी ऐसा ही महसूस करेंगी" वेस्टइंडीज की बल्लेबाज़ हेले मैथ्यूज ने शनिवार को 20 गेंदों में 30 रन बनाकर वेल्श फायर के लिए सबसे ज्यादा स्कोर बनाया। उन्होंने विपक्षी टीम को मैच जिताने में रॉड्रिग्स के योगदान को स्वीकार किया।
मैथ्यूज ने कहा, "हारना कभी आसान नहीं होता लेकिन साथ ही साथ आपको जेमिमाह की बल्लेबाज़ी की सराहना करनी होगी। उसने वास्तव में काफी अच्छा खेल दिखाया और हम उनके खिलाफ कुछ नहीं कर सके।"
उन्होंने कहा कि हो सकता है कि हम अपनी गेंदबाज़ी लाइन और कुछ हुए मिसफील्ड में सुधार कर सकते हैं लेकिन साथ ही आपको उसकी बल्लेबाज़ी का श्रेय देना होगा।

वैल्केरी बेंस ESPNcricinfo की जनरल एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर राजन राज ने किया है।