ख़बरें

'हम काफ़ी समय से इस पल का इंतज़ार कर रहे थे'

प्रमुख कोच नूशीन अल ख़दीर ने अंडर-19 विश्व विजेता भारतीय टीम के विश्वास की प्रशंसा की

Shafali Verma, Hrishitha Basu and Archana Devi celebrate a wicket, India vs England, U-19 Women's T20 World Cup, final, Potchefstroom, January 29, 2023

शेफ़ाली वर्मा : 'हम जिस काम के लिए आए थे, हमने वह कर दिखाया'  •  ICC/Getty Images

अंडर-19 विश्व विजेता बनी भारतीय टीम की प्रमुख कोच नूशीन अल ख़दीर ने माना है कि भारत लंबे समय से विश्व कप का इंतज़ार कर रहा था। उन्होंने महिला क्रिकेट में मौजूद गहराई और देश में उसके उज्जवल भविष्य की प्रशंसा की।
शेफ़ाली वर्मा की कप्तानी में भारत ने फ़ाइनल में इंग्लैंड को 68 के स्कोर पर ऑलआउट किया और सात विकेट से जीत दर्ज कर महिला क्रिकेट में अपना पहला विश्व ख़िताब जीता।
भारत की जीत के चंद मिनटों बाद नूशीन ने ब्रॉडकास्टर को बताया, "हम काफ़ी समय से इस पल का इंतज़ार कर रहे थे। हमनी पहली बार कप जीता है और यह अंडर-19 लड़कियों के साथ आया है। यह हमारी गहराई और आने वाले भविष्य को दर्शाता है।"
पूरी प्रतियोगिता में भारत ने केवल एक मैच हारा। सुपर सिक्स में ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध टीम 87 के स्कोर पर सिमट गई थी। हालांकि अगले ही दिन दमदार वापसी करते हुए भारत ने श्रीलंका को हराया और सेमीफ़ाइनल में प्रवेश किया।
नूशीन ने कहा, "विश्वास इस टीम की सबसे बड़ी विशेषता है। मैं जानती हूं कि ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध एक बुरा मैच था। लेकिन जिस हिसाब से हमने ख़ुद को संभाला और वापसी की, इसका पूरा श्रेय हमारे (टीम) माहौल को जाता है। हमने चीज़ों को सरल रखा। इसे पाने के लिए हमने सोचा था कि हम सटीक और सरल क्रिकेट खेलेंगे।"
इससे पहले भारत को 2005 और 2017 के वनडे विश्व कप तथा 2020 के टी20 विश्व कप फ़ाइनल में हार मिली थी। इसके अलावा राष्ट्रमंडल खेलों में भी भारत को रजत पदक से संतुष्ट होना पड़ा था। नूशीन 2005 में उपविजेता रही भारतीय टीम का हिस्सा थी जब टीम पहली बार किसी विश्व कप के फ़ाइनल में पहुंची थी।
फ़ाइनल की प्लेयर ऑफ़ द मैच तितास साधु ने कहा, "लोग हमें कहते आ रहे थे कि बहुत खिलाड़ियों ने कोशिश की लेकिन वे (विश्व कप जीत को) अंजाम नहीं दे पाए। तो यह भारतीय महिला टीम के लिए पहला विश्व कप है और हम बहुत उत्साहित हैं।"
तितास ने आगे कहा, "साल 2005 के बाद बीसीसीआई ने पहली बार हमें (महिला क्रिकेट एसोसिएशन से निकालकर) अपनी छत्रछाया में लिया जब नूशीन मैम ने विश्व कप खेला था और वे फ़ाइनल में हारे थे। हमारे लिए इसे जीतना और उनका कोच रहना बेहतरीन पल था।"
भारत की जीत के बाद बीसीसीआई ने टीम और सपोर्ट स्टाफ़ के लिए पांच करोड़ रुपये का इनाम घोषित किया। भारतीय महिला क्रिकेट के लिए इस जीत के मायने को बताते समय नूशीन भावुक हो गई थी।
उन्होंने कहा, "राष्ट्रगान से लेकर मैच जीतने तक, हमारे रोंगटे खड़े हुए थे। मैं समझ रही हूं कि यह हमारे लिए कितना स्पेशल है। (विश्व कप जीतने के सपने) को इन युवा लड़कियों के माध्यम से जीना सराहनीय है।"
तितास ने चार ओवरों के स्पेल में मात्र छह रन देकर दो विकेट लिए और इंग्लैंड को बैकफ़ुट पर धकेला। एकादश में इकलौती तेज़ गेंदबाज़ होने के कारण उन्होंने कहा कि उन्होंने स्पिनरों से मिलने वाले समर्थन पर भरोसा किया।
उन्होंने कहा, "(एकादश में इकलौती तेज़ गेंदबाज़ होने के नाते) अकेलापन नहीं लगता है क्योंकि हम सब टीम के साथी हैं। मेरे पास अन्य साथी गेंदबाज़ और स्पिनर हैं। हमने यहां श्रीलंका और न्यूज़ीलैंड के विरुद्ध दो मैच खेले और बाक़ी खेले गए मैचों को क़रीब से देखा। इस वजह से हमें अंदाज़ा था कि कहां गेंदबाज़ी की जानी चाहिए।"
ऋषा घोष के साथ शेफ़ाली आगामी महिला टी20 विश्व कप के लिए भारतीय सीनियर टीम का हिस्सा हैं। ये दोनों खिलाड़ी भारत, साउथ अफ़्रीका और वेस्टइंडीज़ के बीच चल रही त्रिकोणीय सीरीज़ की समाप्ति के अगले दिन 3 फ़रवरी को भारतीय दल के साथ जुड़ेंगी।
इस जीत पर कप्तान शेफ़ाली ने कहा, "हम जिस काम के लिए आए थे, हमने वह कर दिखाया। ये लड़कियां शानदार हैं और एक दूसरे का समर्थन करती हैं। कोचिंग स्टाफ़ हमें याद दिला रहा था कि हम क्यों यहां आए थे। उनकी वजह से हम यहां हैं तो मैं उनका धन्यवाद करना चाहती हूं।"
यह पूछे जाने पर कि क्या अंडर-19 कप ही एकमात्र ट्रॉफ़ी है जिसके साथ वह घर जाने वाली हैं, उन्होंने कहा, "नहीं, बड़ी वाली भी।"

एस सुदर्शनन ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर अफ़्ज़ल जिवानी ने किया है।