मैच (15)
T20 वर्ल्ड कप (5)
IND v SA [W] (1)
T20 Blast (6)
CE Cup (3)
ख़बरें

मजूमदार, अरोठे और लुईस भारतीय महिला टीम के कोच बनने के दावेदारों में शामिल

3 जुलाई को इंटरव्यू के बाद हो सकती है प्रमुख कोच की घोषणा

Mithali Raj and coach Tushar Arothe have a chat during a preparatory camp, Mumbai, June 10, 2017

2017 में जब भारत वनडे विश्व कप के फ़ाइनल में पहुंचा था तब तुषार अरोठे कोच थे  •  PTI

अमोल मजूमदार, तुषार अरोठे और जॉन लुईस भारतीय महिला टीम के कोच बनने के पांच दावेदारों में से तीन प्रमुख नाम हैं। वर्तमान में महिला टीम के अंतरिम कोच ऋषिकेश कानितकर का नाम पांच संभावितों की सूची में है या नहीं, ये नहीं पता चल पाया है।
1 और 2 जुलाई को बीसीसीआई द्वारा नियुक्त क्रिकेट सलाहकार कमेटी (सीएसी) द्वारा इन दावेदारों का मुंबई में इंटरव्यू होगा। इस कमेटी के प्रमुख पूर्व बल्लेबाज़ अशोक मल्होत्रा हैं, जबकि जतिन परांजपे और सुलक्षणा नाइक भी इस कमेटी में शामिल हैं। 3 जुलाई को कोच के नाम की घोषणा होने की संभावना है। नए कोच को कम से कम दो साल का कार्यकाल मिल सकता है। इस दौरान 2024 में टी20 विश्व कप और 2025 में भारत में वनडे विश्व कप होना है।
इस साल की फ़रवरी-मार्च में हुए टी20 विश्व कप से ठीक दो महीना पहले दिसंबर 2022 में रमेश पवार को कोच पद से बर्ख़ास्त कर दिया गया था। उसके बाद कानितकर टीम के अंतरिम कोच हैं।
इस दौराम मजूमदार को 2023-24 के घरेलू सीज़न के लिए बड़ौदा रणजी टीम के प्रमुख कोच पद संभालने का भी प्रस्ताव मिला है। हालांकि मजूमदार ने अभी इस प्रस्ताव को स्वीकार नहीं किया है और वह 3 जुलाई तक का इंतज़ार करेंगे। इससे पहले मजूमदार मुंबई रणजी टीम के कोच थे। वह राजस्थान रॉयल्स और एनसीए, बेंगलुरू में भी कोचिंग की भूमिका निभा चुके हैं। 2019 में भारत दौरे के दौरान वह साउथ अफ़्रीकी टीम के बल्लेबाज़ी कोच भी थे। उनके नाम 171 प्रथम श्रेणी मैचों में 30 शतकों के साथ 11167 रन हैं और वह रणजी ट्रॉफ़ी में सर्वाधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं। उन्होंने मुंबई के लिए आठ रणजी ख़िताब भी जीता है।
बड़ौदा के पूर्व खिलाड़ी अरोठे अप्रैल 2017 से जुलाई 2018 के बीच भारतीय महिला टीम के साथ दो बार कोचिंग की भूमिका में जुड़ चुके हैं। इस दौरान 2017 में हुए विश्व कप में भारतीय टीम उपविजेता थी। हालांकि बाद में उन्होंने व्यक्तिगत कारणों का हवाला देते हुए इस्तीफ़ा दे दिया था, लेकिन यह भी कहा जाता है कि उनके कुछ सीनियर खिलाड़ियों के साथ मतभेद थे।
विदेशी नामों में एक नाम लुईस (53 वर्ष) का है, जो डरहम और एसेक्स के लिए 205 प्रथम श्रेणी और 236 लिस्ट ए मैच खेल चुके हैं। वह महिलाओं की हंड्रेड प्रतियोगिता में ट्रेंट रॉकेट्स के कोच थे और इंग्लैंड महिला टीम के प्रमुख कोच बनने के भी दावेदार थे। लेकिन बाद में बाज़ी एक दूसरे जॉन लुईस (47 वर्ष) ने मार ली।
बीसीसीआई चाहता है कि नए कोच जुलाई में होने वाले बांग्लादेश दौरे से पहले टीम से जुड़ जाए। भारतीय टीम ने इस साल फ़रवरी-मार्च में हुए टी20 विश्व कप के बाद से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेला है। तब भारतीय टीम सेमीफ़ाइनल में पहुंची थी। भारत का बांग्लादेश दौरा 9 जुलाई से शुरू हो रहा है, जहां पर तीन वनडे और तीन टी20आई खेले जाएंगे।

शशांक किशोर ESPNcricinfo में सीनियर सब एडिटर हैं